गर्मी में किसानों के आय का नया जरिया ताड़गोला, जानिए इसके फायदे

0

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि गर्मी का समय चल रहा है और इस बार गर्मी का भयानक रुप देखने को मिल रहा है। एसे में यह भयानक गर्मी किसानों के लिए आय का एक नया जरिया ले कर आई है। इस खतरनाक गर्मी में लोग ताड़गोले का इस्तेमाल ज़्यादा कर रहे हैं। जो न केवल लोगों की प्यास बुझाता है बल्कि उन्हें काम करने के लिए एक नई ऊर्जा देता है।

ताड़गोला को स्थानीय भाषा में तालसाजा कहा जाता है, यह भारत के पूर्वी राज्यों में पाया जाता है। गर्मी के चलते ताड़गोला की खपत बढ़ गई है। जो ताड़गोले बेचने वालों के लिए खुशी की बात है। इसे मराठी और हिंदी में ताड़गोला एवं तमिल में नुंगू कहा जाता है, अंग्रेजी में आइस-ऐप्पल (Ice-apple  or Palm fruit )। ताड़गोले की इस बढ़ती खपत के कारण किसानों की आय में काफी वृद्धि हुई है।

ये भी पढ़ें: तरबूज और खरबूज की अगेती खेती के फायदे

ताड़गोले के एक विक्रेता नागेंद्र बेहरा ने बताया, ” गर्मी का स्तर हर रोज बढ़ने के साथ ताड़गोला के मांग भी आए दिन बढ़ती जा रही है। मैने दो दिनों के अंदर लगभग 600 ताड़गोले बेचे जिसकी वजह से हमारी कमाई काफी हो रही है और प्रत्येक ताड़गोले की कीमत ₹10 है। इसके साथ ही ताड़गोले के एक और विक्रेता अशोक दास कहते हैं कि ग्रामीण इलाकों में बहुत से लोग अपनी प्यास बुझाने के लिए हरे नारियल अथवा ताड़गोले का इस्तेमाल ज़्यादा करते हैं।

ताड़गोले के फायदे :-

जिस प्रकार से नारियल गर्मियों में प्यास बुझाता है यह भी उसी प्रकार का दिखने वाला फल होता है। इस भयंकर गर्मी के प्रकोप की वजह से इसकी मांग ज्यादा रहती है। जिस प्रकार जैली रसदार फलों में है उसी प्रकार से यह भी एक रसदार फल है। जिसका सेवन करने से लोगों को थकान से राहत और आवश्यक ऊर्जा प्राप्त होती है। इस फल में कार्बोहाइड्रेट, फाइटोन्यूट्रिएंट्स और कैल्शियम जैसे आवश्यक पोषक तत्व होते हैं। फल में कई प्रकार के विटामिन भी पाए जाते हैं। यद्यपि इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है लेकिन इसमें प्रोटीन, आयरन पोटेशियम, जिंक और फास्फोरस जैसे कई प्रकार के आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह फल न केवल गर्मी में लाभदायक होता है, बल्कि कई लोग इसे सुपर फूड भी कहते हैं।

ये भी पढ़ें: MSP से डबल हो गए कपास के दाम – किसानों के लिए सफेद सोना साबित हो रही कपास की खेती

गर्मी के दिन काफी कठिन दिन होते हैं जिसमे लोग डिहाइड्रेशन का शिकार भी हो जाते हैं, एसे में इस फल का सेवन काफी फायदेमंद है। यह फल शरीर को ठंडा रखने का भी काम करता है यह विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होता है जो हमारे लिए बहुत आवश्यक है। यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए भी बहुत आवश्यक है।

इसके आगे शरत साहू कहते हैं, “इसके रस में काफी पोषक तत्व होते हैं जो हमे ऊर्जा देने के साथ-साथ डिहाइड्रेशन से बचाने का काम भी करता है।”

ताड़गोला: आय का स्रोत :-

बढ़ती गर्मी के कारण किसान ताड़गोले बेच कर अपनी कमाई कर रहे हैं। यह उनकी आजीविका का प्रमुख स्रोत है। इसके माध्यम से किसान काफी कमाई कर लेते हैं। ओडिशा में भी ताड़गोला बेचकर काफी किसान अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: सामान्य खेती के साथ फलों की खेती से भी कमाएं किसान: अमरूद की खेती के तरीके और फायदे

केंद्रपाड़ा शहर के विजय बेहरा जो की एक ताड़ विक्रेता हैं, ने बताया, “मैने पिछले हफ्ते दो पेड़ों से लगभग पांच सौ ताड़गोले तोड़कर पांच हजार रुपए कमाए थे।”

उसी गांव के एक ताड़गोले के विक्रेता नलिनीकांत सेठी ने बताया, “ताड़ के पेड़ पर चढ़ कर ताड़गोला इकट्ठा करना मुश्किल है। युवा इस काम को करने में कोई दिलचस्पी नहीं रखते जिसकी वजह से हमे ताड़गोले तोड़ने वाले आसानी से नहीं मिलते। इसलिए हमे ताड़गोले तुड़वाने के लिए बूढ़ों पर निर्भर रहना पड़ता है और चढ़ने वाला भी एक ताड़ के पेड़ पर चढ़ने के सौ से दो सौ रुपए लेता है।

केंद्रपाड़ा गांव के एक और व्यक्ति ने हमें बताया कि गर्मी के मौसम में केंद्रपाड़ा के लगभग 10000 परिवारों के ताड़गोला आय का एक प्रमुख स्रोत रहा है। लेकिन अब स्थिति ऐसी नहीं है क्योंकि सन 1999 के बाद कई पेड़ चक्रवातों में उखड़ गए थे जिसकी वजह से अब लगभग 5000 लोग ताड़ के पेड़ की खेती पर निर्भर हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More