देवव्रत वाजपेयी जी - मेरीखेती कृषि साहित्य के प्रसिद्ध लेखक हैं

दो किलो यूरिया करेगा एक बोरे का काम

किसान भाइयो यूरिया का प्रयोग नाइट्रोजन की पूर्ति के लिए आप सभी करते हैं। आज-कल इसका उपयोग बहुत ज्यादा हो रहा है। यूरिया में 46 प्रतिशन नाइट्रोजन होती है। इसका ज्यादा उपयोग किसानों को तो आर्थिक नुकसान पहुंचाता ही है सा​थ ही जमीन की उपज…

अच्छे दूध के लिए जरूरी उन्नत चारा किस्में

हरा चारा साल भर दुधारू पशुओं को मिलना डेयरी कारोबार के लिए बेहद जरूरी है। इससे पशुओं को विटामिन्स आदि की जरूरत हर समय पूरी होती रहती है। हरे चारे की अनेक किस्में मौजूद हैं लेकिन किसान केवल ज्वार और बरसीम जैसी फसलों पर ही निर्भर रहता है।…

बगैर दवा के कैसे करें कीट नियंत्रण

तरीके हर तरह के ईजाद हो चुके हैं लकिन जरूरत उनका अनुपालन करने की है। कीट नियंत्रण के लिए जैविक और रासायनिक, दोनों में से किसी तरह के तत्वों का प्रयोग किए बगैर भी कीट नियंत्रण हो सकता है। इनमें कई तरह की तकनीक वैज्ञानिकों द्वारा ईजाद की…

भूमि की उत्पादन क्षमता बढ़ाते हैं जैव उर्वरक

रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग से उपज में वृद्धि तो होती है परन्तु अधिक प्रयोग से मृदा की उर्वरता तथा संरचना पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है इसलिए रासायनिक उर्वरकों के साथ-साथ जैव उर्वरकों के प्रयोग की सम्भावनाएं बढ़ रही हैं। जैव उर्वरकों…

बेहद उपयोगी है केंचुआ

प्रकृति ने हर जीव को हमारे लिए उपयोगी बनाया है। इन्हीं जीवों में से एक कैंचुआ हमारी खेती के लिए वरदान साबित होता था लेकिन कीटनाशकों के प्रयोग के चलते यह अब जमीन में नजर नहीं आते। अब इन्हें 300 से 500 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से खरीदना…

गेहूं की फसल में खरपतवार नियंत्रण

गेहूं उत्तर भारत की मुख्य फसल है और इसमें खरपतवार मुख्य समस्या बनते हैं। खरपतवारों में मुख्य रूप से बथुआ, खरतुआ, चटरी, मटरी, गेहूं का मामा या गुल्ली डंडा प्रमुख हैं। जिन्हें हम खरपतवार कहत हैं उनमें मुख्य रूप से गेहूं का मामा फसल को…

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More