लोकेन्द्र कुमार नरवार

खरीददार नहीं दे रहे निर्यात शुल्क, बंदरगाहों पर अटक गया 10 लाख टन चावल

नई दिल्ली। भारत सरकार ने हाल ही में चावल के निर्यात (rice export) पर 20 फीसदी निर्यात शुल्क लगाने का फैसला लिया था, लेकिन विदेशी खरीददारों ने अतिरिक्त निर्यात शुल्क देने से मना कर दिया है, जिस कारण भारत का 10 लाख टन चावल बंदरगाहों पर…

अब गैर बासमती चावल के निर्यात पर लगेगा 20 फीसदी शुल्क

उसना और बासमती चावल पर लागू नहीं होगा यह निर्देश नई दिल्ली। भारत सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है, अब गैर बासमती चावल के निर्यात (rice export) पर सरकार 20 फीसदी शुल्क वसूलेगी। बताया जा रहा है कि चालू खरीफ फसल सत्र में धान की फसल का रकबा…

‘आलू’ करेगा मिस्र में खाद्य संकट को काबू, गेहूं के लिए भारत से आस लगाए बैठा है…

काहिरा। इन दिनों मिस्र में खाद्य सामग्री का भीषण संकट है। इस खाद्य संकट को काबू में करने के लिए आलू मददगार साबित हो सकता है। मिस्र के आपूर्ति मंत्री अली एल मोसेल्ही का कहना है कि देश मे अधिक आटा निकालने के लिए अधिक से अधिक आलू का उपयोग…

ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों के लिए स्टार्टअप्स को बढ़ावा देगी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी

चंडीगढ़। ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं और किसानों के लिए चौ. चरन सिंह एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी (Chaudhary Charan Singh Haryana Agriculture University (CCSHAU) Hisar, Haryana ) स्टार्टअप्स (startups)  को बढ़ावा देने जा रही है। ऐसे…

हरित क्रांति के बाद भारत बना दुनियां का दूसरा सबसे बड़ा गेहूं उत्पादक

नई दिल्ली। हरित क्रांति के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गेहूं उत्पादक देश बना है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में भारत ने 1068.4 लाख टन गेहूं का उत्पादन किया है, जो वर्ष 1960 के मुकाबले 1000 फीसदी अधिक है। हरित क्रांति से ही भारत को कृषि…

‘एक देश में एक फर्टिलाइजर’ लागू करने जा रही केंद्र सरकार

भारत ब्रांड के तहत बिकेंगे देश में सभी उर्वरक नई दिल्ली। देश भर में फर्टिलाइजर ब्रांड में यूनिफॉर्मिटी लाने के लिए सरकार एक देश में एक ही फर्टिलाइजर (One Nation One Fertilizer) के तहत काम करने जा रही है। भारत सरकार आज से एक आदेश जारी…

भारत के इस गांव में 80 फीसदी लोग करते हैं 1500 किस्मों के पौधों की होलसेल मार्किट

अहमदाबाद। भारत में एक ऐसा गांव है जिसमें 80 फीसदी लोग 1500 किस्मों के पौधों की होलसेल मार्केट करते हैं और अपने परिवार का पालन-पोषण कर रहे हैं। गुजरात के नवसारी जिले के दोलधा गांव में एक अध्यापक अमृत भाई पटेल ने लोगों को खेती से बिजनेस…

डाकुओं को आश्रय देने वाली जमीन पर आज हो रही है ककोड़ा की खेती

इटावा के बीहड़ में होने वाली ककोड़ा यानी खेखसा की खेती के बारे विस्तार से जानिए इटावा। आज हम आपको ककोड़ा या कर्कोट की खेती (इन नामों से भी जाना जाता है : कंटोला, खेकसी, खेखसा) (kakoda, kantola, Khekhasa, kheksi) (वानस्पतिक नाम : Momordica…

अमेरिकी वैज्ञानिक टीम बिहार में बनाएगी न्यू कृषि मॉडल, पसंद आया बिहार का जलवायु

पटना। विश्व के कई देश कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने की जुगत में लगे हुए हैं। लेकिन जलवायु अनुकूल न होने के कारण कई स्थानों पर खेती को मदद नहीं मिल पाती है। अमेरिकन वैज्ञानिकों की टीम भी भारत में कृषि मॉडल बनाने के लिए सर्वे कर रही है।…

ओडिशा में आदिवासी परिवारों की आजीविका का साधन बनी बाजरे की खेती

भुवनेश्वर। ओडिशा में बाजरे की खेती (Bajre ki Kheti) धीरे-धीरे आदिवासी परिवारों की आजीविका का साधन बन रही है। मिलेट मिशन (Odisha Millets Mission) के तहत बाजरे की खेती को फिर से बड़े पैमाने पर पुनर्जीवित करने की कोशिश की जा रहीं हैं। इससे…

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More