परवल की खेती करके किसान हुआ मालामाल, अब हुआ राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए हुआ चयन

By: MeriKheti
Published on: 22-Mar-2023

इन दिनों खेती किसानी में नई तकनीकों का इस्तेमाल किया जा रहा है, ताकि कम मेहनत करके और न्यूनतम लागत में अच्छी खासी कमाई की जा सके। इन दिनों देश में ऐसे कई किसान हैं जो खेती किसानी में नई तकनीकी को बहुतायत से इस्तेमाल कर रहे हैं और अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। कुछ दिनों से बिहार के मुजफ्फरपुर के किसान की ख्याति चारो तरफ फैल रही है। इनका नाम सोनू निगम है। लोग इन्हें युवा इनोवेटिव (Innovative) किसान बताते हैं। क्योंकि सोनू निगम ने नई तकनीकों की सहायता से खेती किसानी में कई तरह के नए प्रयोग किए हैं जो उन्हें लाभ पहुंचा रहे हैं। अपने नए प्रयोगों के लिए सोनू इनोवेटिव कृषक सम्मान से सम्मानित हो चुके हैं तथा हाल ही दिनों में राष्ट्रीय उद्यान रत्न सम्मान के लिए भी उनका चयन हुआ है। 

ये भी देखें: जानें किस वजह से हरियाणा को मिला स्कॉच गोल्ड अवार्ड

सोनू से बातचीत में उन्होंने बताया है कि वह अपने खेतों में मुख्य तौर पर परवल की खेती करते हैं। सोनू का कहना है कि परवल की खेती करना एक मुनाफे का सौदा है। वो भी अपनी 6 एकड़ भूमि में इसकी खेती कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि एक बार बुवाई करने पर परवल 7 महीने तक फसल देता रहता है। वो इस फसल से हर माह लगभग 2 लाख रुपये की कमाई कर लेते हैं। इस हिसाब से उन्हें एक साल में लगभग 15 लाख रुपये की कमाई होती है। सोनू ने आगे बताया है कि वो विशेष किस्म का परवल उगाते है, जो आकार में बड़ा होती है तथा अन्य परवल से भिन्न होता है। इसमें बीजों की मात्रा न के बराबर होती है। यह अन्य परवल की अपेक्षा ज्यादा दिनों तक स्टोर किया जा सकता है। साथ ही खाने में अन्य प्रजातियों का परवल की अपेक्षा ज्यादा स्वादिष्ट होता है। इस कारण इस परवल की मांग बाजार में सबसे ज्यादा है। जिससे वो इस परवल के उत्पादन को बाजार में आसानी से बेंच देते हैं। सोनू ने मीडिया को बातचीत में बताया है कि उनका मन शुरू से खेती के काम में लगता था। इसलिए उन्होंने इस पेशे को चुना है और इसमें ही आगे करियर बनाया है। वो अपने पिता की विरासत को आगे बढ़ाते हुए यही काम करना चाहते हैं। इसलिए पिता के निधन के बाद उन्होंने पूरे मन के साथ खेती करना शुरू कर दी है। वो अपने पिता के काम को ही आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हे बेहद खुशी है कि उन्हें सरकार ने राष्ट्रीय उद्यान रत्न पुरस्कार दिया है साथ ही राष्ट्रीय उद्यान रत्न पुरस्कार के लिए चुना है। 

ये भी देखें: बैंकिंग से कृषि स्टार्टअप की राह चला बिहार का यह किसान : एक सफल केस स्टडी 

 सोनू ने बताया कि उनके पिता उन्नत किसान थे, वह खेती किसानी में  हमेशा नई तकनीकों का इस्टमाल करते थे और बम्पर उत्पादन प्राप्त करते थे इसलिए इसके पहले उनके पिता को भी खेती किसानी में विशेष योगदान के लिए राष्ट्रपति के द्वारा उद्यान रत्न पुरस्कार मिल चुका है। यह दूसरी बार होगा जब एक ही घर में फिर से उद्यान रत्न पुरस्कार आएगा।

श्रेणी