Browsing Category

सम्पादकीय

कृषि-जलवायु परिस्थितियों में जुताई की आवश्यकताएं (Tillage requirement in agro-climatic conditions in…

किसान कैसे विभिन्न जलवायु परिस्थितियों में अपने खेत की जुताई करते हैं और अपने खेतों को उत्पादन के लिए विकसित करते हैं। विभिन्न प्रकार के प्रश्नों के उत्तर और उनसे जोड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां को जानने के लिए हमारी इस पोस्ट के अंत तक जरूर…

आयशर प्राइमा G3 – जज़्बा नया, जीत नई – EICHER PRIMA G3

आजकल टेक्नोलॉजी का समय है जिसकी मांग खेती में भी होने लगी है और अब भारत में भी ट्रेक्टर कंपनियां ट्रैक्टर्स में नई टेक्नोलॉजी देने लगे हैं. इसकी वजह से खेती का काम आसान ही नहीं बहुत आसान हो गया है. इस क्रम में आयशर ट्रैक्टर्स ने लॉन्च…

सोनालिका ट्रैक्टर्स ने 43.5% की घरेलू वृद्धि दर्ज की

सोनालिका ने 43.5% की घरेलू वृद्धि दर्ज की और 10,217 ट्रैक्टरों की अप्रैल की घरेलू बिक्री में सबसे अधिक वृद्धि दर्ज की और उद्योग की वृद्धि (अनुमानित 41%) को पीछे छोड़ दिया। FY'22 में नए शिखर प्राप्त करने के बाद, सोनालिका ट्रैक्टर्स ने मजबूत…

दमदार ट्रैक्टर(Tractor) का दौर

देश में बढ़ते हुए मशीनीकरण के दौर में किसान भाइयों को खेती करना बहुत आसान हो चुका है, जिसमे ट्रैक्टर का अनवरत चला आ रहा अकथनीय योगदान रहा है।हम जब हमारे बचपन को याद करते हैं, तो अस्सी के दशक में बहुत कम ही किसानों के पास ट्रैक्टर हुआ…

Rajasthan ka krishi budget: किसानों के लिए बहुत कुछ है राजस्थान के कृषि बजट में

13 महीनों तक चले किसान आंदोलन ने यह साबित किया कि अब सरकारों को उनकी तरफ ध्यान देना होगा अन्यथा सरकारें चल नहीं पाएंगी। उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में चल रहे चुनावों के मद्देनजर ही, डैमेज कंट्रोल करने के वास्ते प्रधानमंत्री को तीनों…

किसान और उसकी जरूरतें: अच्छे Tractor से खेती मतलब खेत के साथ किसान का भी विकास

किसान भाइयों को जिसकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है उसमें से उसका दराँत ( हंसिया) , फावड़ा, बैलों की जोड़ी जो की आजकल Tractor में बदल गई है. इन सभी से किसान की सुबह से शाम तक की कहानी चलती है.ये भी पढ़े: Swaraj Tractor: आ गया खेती का भी…

Swaraj Tractor: आ गया खेती का भी Code

स्वराज(swaraj) मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और इसे में लेकर रहूँगा. ये वाक्य किसने कहा था हमें नीचे कमेंट करके बताएंकिसानों से ज्यादा स्वराज(Swaraj) को कोण समझ सकता है जिसके बेटे सीमा पर और वो खुद खेत में रहता है.आज हम बात करते हैं…

कोरोना महामारी में विश्व के काम आई किसानों की मेहनत

सैकड़ों तरह के व्यंजन, हजारों तरह के मसाले, मेवा और कोस्टल क्राप भारत की समृद्ध जैव विविधता की निशानी हैं। विदेशी आक्रांता भी यहां के व्यंजनों का आनंद लेने और अनेक तरह की फसलों को लूटने आते रहे। उनके आक्रमण भी उसी समय होते जबकि फसलों की…

पंजाब सरकार बनाएगी पराली से खाद—गैस

पंजाब सरकार करीब 500 करोड़ के निजी निवेश पर आधारित पांच बायोगैस प्रोजेक्टों को शीघ्र शुरू करने जा रही है। इनमें धान की पराली से बायोगैस एवं खाद बनाई जाएगी। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री डा. राज कुमार वेरका और…

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More