कम लागत में किसान इस पशु को पालकर हो सकते हैं मालामाल, सरकार दे रही है 50% सब्सिडी

0

किसान पारंपरिक खेती से परेशान होकर अब पशुपालन की तरफ रुख कर रहे हैं। पारंपरिक खेती में किसानों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। आपको यह भी बता दें कि केंद्र व राज्य सरकार पशुपालन के लिये बहुत सारी सुविधाएँ व सब्सिडी भी दे रही है, जिससे किसानों को पशु पालन करना और भी आसान हो रहा है। आपको यह भी बता दें कि जिन किसानों के पास भूमि काफी कम है, वहाँ पशुपालन कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। किसानों को यह पता नहीं है कि कौन से पशु को पालने में उनको ज्यादा मुनाफा मिलेगा। आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि पारंपरिक पशुपालन के अलावा इन पशुओं को पालने से आपको मिल सकता है बेहतर मुनाफा।

भेड़ पालन क्यों हो रहा है लोकप्रिय

देशभर में गाय, भैंस, बकरी के अलावा अभी जो सबसे ज्यादा पशु पालन हो रहा है, वह है भेड़ (sheep) पालन। आए दिन भेड़ पालन (Sheep rearing) में किसान काफी रुचि ले रहे हैं, इसका मुख्य कारण यह है कि भेड़ पालने में खर्च भी कम लगता है और मुनाफा भी अच्छा खासा हो जाता है। किसानों में भेड़ पालन लोकप्रिय होने का महत्वपूर्ण कारण यह है कि इसके खाने के लिए चारा की उपलब्धता भी काफी आसान है। अधिकांश भेड़ हरी पत्तियाँ व घास का सेवन करती हैं, जिससे किसानों को कम लागत में भी उसके लिए चारा उपलब्ध कराना आसान होता है।

ये भी पढ़ें: बकरी बैंक योजना ग्रामीण महिलाओं के लिये वरदान

किसानों के बीच इसका लोकप्रिय होने का सबसे मुख्य कारण यह है, कि उसके हर एक चीज़ का प्रयोग नए नए उत्पाद को बनाने में किया जाता है। जैसे उसके बालों का प्रयोग ऊन (wool) बनाने में किया जाता है, वहीं उसके चमड़े का प्रयोग बहुत सारे उत्पादों को बनाने के लिए भी किया जाता है। इतना ही नहीं इसके अलावा भी भेड़ों के दूध की बाजार में अच्छी कीमत किसानों को मिल जाती है, जिससे किसान की आय पहले की तुलना में और भी अधिक बढ़ जाता है।

सरकार दे रही है सब्सिडी

गौरतलब हो कि भेड़ पालन के लिए केंद्र सरकार के तरफ से भी अनेकों प्रकार की सब्सिडी किसानों के लिए उपलब्ध है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि नेशनल लाइव स्टॉक मिशन के तहत केंद्र सरकार भेड़ पालन पर 50% तक की सब्सिडी की सुविधा किसानों को दे रही है। इतना ही नहीं इसके अलावा भी विभिन्न राज्य सरकारे अपने राज्य में भेड़ पालन के लिए अनेकों प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करा रही है, जिससे अभी भेड़ पालन किसानों के बीच काफी लोकप्रिय बना हुआ है।

ये भी पढ़ें: कड़कनाथ पालें, लाखों में खेलें

कम लागत में शुरू करें व्यवसाय

आपको यह भी बता दें कि किसान लगभग ₹1,00,000 से भी व्यवसाय को शुरू कर सकते हैं। आपको यह भी बताते चलें कि बाजार में एक भेड़ की कीमत लगभग ₹8000 के आसपास है। भेड़ की ऊन (wool) की बनी हुई कपड़े की मांग काफी ज्यादा है, क्योंकि ठंडे प्रदेश में यह काफी उपयोगी होता है। आपको बता दें की इसके बने हुए कपड़े काफी गर्व होता है, जिसको अत्यधिक ठंड में उपयोग किया जाता है। आपको यह भी बता दें की भेड़ के ऊन का कंबल लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है। इसके ऊन के अलावा इसका मांस और इसका दूध भी बाजार में अच्छा मूल्य देता है, जिससे किसानों का रुझान इसके तरफ काफी बढ़ रहा है। इतना ही नहीं भेड़ के द्वारा निकला हुआ गोबर भी काफी उर्वरक माना जाता है, जिसको किसान अपने खेतों में प्रयोग कर फसल को भी अच्छा उगा सकते हैं, जिससे भी किसान को काफी लाभ मिलेगा। भेड़ के गोबर की कीमत बाजार में काफी अच्छी है, क्योंकि इसमें उर्वरक शक्ति अधिक पायी जाती है, जिसका प्रयोग बड़े बड़े किसान अपने खेती के लिए करते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More