fbpx
Browsing Category

किसान गुरु

आत्मनिर्भर भारत/आत्मनिर्भर किसान

आज हर कोई आत्मनिर्भर भारत की बात कर रहा है, भारत की 70%जनसंख्या गावों में निवास करती है और वहां की जो जनता है वो कृषि पर निर्भर है.गांव की जनता हमेशा से ही आत्मनिर्भर रही  है चाहे आप बात दूध की करो, सब्जी की करो, या आप फल की बात…

दक्षिण पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल

भारतीय मौसम विभाग के नई दिल्‍ली स्थित राष्‍ट्रीय मौसम भविष्‍यवाणी केन्‍द्र/ क्षेत्रीय मौसम केन्‍द्र के अनुसार: दक्षिण पश्चिम मानसून कर्नाटक के दक्षिणी हिस्‍से के कुछ और हिस्‍सों, रायलसीमा के कुछ भागों, तमिलनाडु के अधिकांश हिस्‍सों,…

कृषि वानिकी से आएगी समृद्धि

खेती अब घाटे का सौदा होती जा रही है।कारण यह है कि खेती की लागत कई गुना बढ़ी है और किसान को उनके उत्पाद का उचित मूल्य नहीं मिल पाता।खेती में यदि मुनाफा बढ़ाना है तो किसानों को कृषि वानिकी को अपनाना पड़ेगा। यह दो तरह की हो सकती है। फलदार…

नदियों के बाद अब हवा की गुणवत्ता में सुधार

भारतीय विषविज्ञान संस्थान (आईआईटीआर), लखनऊ के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन में मानसून से पहले की हवा की गुणवत्ता में सुधार दर्ज किया गया है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष की समान अवधि में हवा में पाए जाने वाले सूक्ष्म कण (पीएम)-10…

दूध-गेहूं की भरमार, कीमतें पहुंच से पार

गेहूं के स्टाक की बात करें तो जरूरत से तीन गुना है। दूध की भी कमी नहीं लेकिन कीमते हैं कि गिरने का नाम नहीं ले रहीं। डिमांड और सप्लाई के फार्मूले पर गौर करें तो यह बात स्पष्ट होती है कि यदि बाजार में किसी वस्तु की आवक या स्टाक ज्यादा…

मांसाहार: यानी कोराना जैसे वायरस को न्योता

शकाहारी बनिए, यह नारा बाबा जयगुरुदेव, ईश्वरी ब्रह्मा कुमारी, श्री श्री रविशंकर, अखिलभारतीय संतमत सत्तसंग के प्रणेता सुरेश भैया जी जैसे सभी आध्यातिमक जन यूंही नहीं देते। भारतीय संस्कृत सदैव से शाकाहार की पोषक रही है। पिछले कुछ सालों में…

कोरोना से खतरनाक बैक्टीरिया है यहां

भारत में कोरोना से खतरनाक बैक्टीरिया मौजूद हैं। यह तिल तिल कर लोगों को मार रहे हैं इसलिए इनके प्रभाव की तरफ न सरकार का ध्यान है और न किसी और का। इस बैक्टीरिया की मौजूदगी हर बड़े ब्रांड के पैक्ड मिल्क और आइसक्रीम में दशकों पूर्व पाई जा…

साइलेज बनाकर करें हरे चारे की कमी को पूरा

हरे चारे के बगैर कितनी भी अच्छी खुराक देने के बाद भी दुधारू पशुओं की सारी जरूरतें पूरी नहीं होती। देश में हरे चारे की करीब 45 प्रतिशत कमी है। सफल पशुधन व्यवसाय के लिये हरे चारे की उपलब्धता नितांत आवश्यक है । प्रायः उत्तर भारत में बरसात…

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More