404 page not found

404 page not found

Ad

आंवला की खेती: उन्नत किस्में, जलवायु आवश्यकताएं, और उच्च उत्पादन के तरीके

आंवला की खेती: उन्नत किस्में, जलवायु आवश्यकताएं, और उच्च उत्पादन के तरीके

आंवला फल विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत हैं। सूखे अवस्था में भी विटामिन को बनाए रखने की क्षमता इस पेड़ में देखी गई है, जो अन्य फलों में संभव नहीं है। इसके फलों से विटामिन सी की पूर्ति होती है और सूखा पाउडर सिंथेटिक विटामिन सी से भी बेहतर है। इसकी खेती करके किसान अच्छा मुनाफा कमा सकते है। इस लेख में हम आपको आंवला की खेती से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी देंगे।आंवला पौधे का वानस्पतिक विवरण क्या है? (What is the botanical description of amla plant?)यूफोरबियासी का सदस्य होने के नाते, जिसमें अधिकांश जेरोफाइट्स और कैक्टि शामिल है, रसीले पौधों से संबंधित,...
भारत में भैंस पालन के लिए 4 उन्नत नस्लें: अधिक दूध उत्पादन के लिए बेहतरीन विकल्प

भारत में भैंस पालन के लिए 4 उन्नत नस्लें: अधिक दूध उत्पादन के लिए बेहतरीन विकल्प

कृषकों के लिए पशुपालन उनकी आमदनी बढ़ाने का सर्वोत्तम जरिया है। दरअसल, आज के दौर में भैंस पालन का कार्य काफी तेजी से बढ़ रहा है। गांव के साथ-साथ शहरों में भी अब लोग भैंस पालन का व्यवसाय कर काफी शानदार आमदनी कर रहे हैं।यदि आप भी हाल-फिलहाल में भैंस पालन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको इनकी उन्नत नस्ल की जानकारी होनी चाहिए। ताकि आप उनका पालन सुगमता से कर अपनी आय को बढ़ा सकें।दूध एक तरह से अमृत ही है, क्योंकि देश को स्वास्थ्य और शक्ति प्रदान करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है। भारत के कृषकों और...
स्वराज कंपनी द्वारा निर्मित किसानों के लिए टॉप 5 ट्रैक्टर

स्वराज कंपनी द्वारा निर्मित किसानों के लिए टॉप 5 ट्रैक्टर

भारत में स्वराज कंपनी के ट्रैक्टर किसानों द्वारा बहुत पसंद किए जाते है। स्वराज कंपनी के ट्रैक्टर खेती के कार्यों में बहुत अच्छा प्रदर्शन करते है। 1974 में स्वराज ट्रैक्टर्स ने भारत का पहला स्वदेशी ट्रैक्टर बनाना था।आज स्वराज एक तेजी से बढ़ती कंपनियों में से एक है, जो भारत में शीर्ष ट्रैक्टर ब्रांडों में से एक है और एक विशाल पोर्टफोलियो में ट्रैक्टर और कृषि मशीनरी बनाती है। इस लेख में हम आपको स्वराज कंपनी के टॉप 5 ट्रैक्टरों के बारे में जानकारी देंगे।1. स्वराज टारगेट 630स्वराज टारगेट 630 29 एचपी इंजन के साथ आता है जो की...
एस्कॉर्ट और कुबोटा का एक दूसरे में विलय किसानों की उन्नति का मार्ग

एस्कॉर्ट और कुबोटा का एक दूसरे में विलय किसानों की उन्नति का मार्ग

जब अपने अपने क्षेत्र की दो दिग्गज कंपनियों का विलय या साझा होता है, तो उस इलाके में अवश्य एक नयापन उस क्षेत्र के उपयोगकर्ताओं को मिलता है। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं कृषि और निर्माण उपकरण के क्षेत्र में भारत में अपना नाम कमाने वाली कंपनी एस्कॉर्ट और जापान की दिग्गज कृषि उपकरण बनाने वाली कंपनी कुबोटा की। इन दोनों कंपनियों का मिलन होने से भारतीय कृषकों के लिए टेक्नोलॉजी और विश्वास का नया सवेरा होने जा रहा है। जी हाँ, एस्कॉर्ट कुबोटा लिमिटेड अगले 3 से 4 सालों में 4500 करोड़ रुपये का निवेश करने जा रही है,...
मैसी फर्ग्यूसन कंपनी के टॉप 5 ट्रैक्टर मॉडल्स

मैसी फर्ग्यूसन कंपनी के टॉप 5 ट्रैक्टर मॉडल्स

मैसी फर्ग्यूसन भारत में ट्रैक्टर का जाना माना ब्रांड है। मैसी फर्ग्यूसन कंपनी के ट्रैक्टर किसानों के बीच बहुत लोकप्रिय है। किसान इस कंपनी के ट्रैक्टरों को खरीदना अधिक पसंद करते है। इस कंपनी के ट्रैक्टर ईंधन कुशल होते है साथ ही अच्छा काम भी करते है। आज के इस लेख में हम आपको मैसी फर्ग्यूसन के टॉप 5 ट्रैक्टर मॉडल्स के बारे में जानकारी देंगे जिससे की आप आसानी से सभी कार्य समय पर कर सकते है। मैसी फर्ग्यूसन कंपनी के टॉप 5 ट्रैक्टर1. मैसी फर्ग्यूसन 8055 मैसी फर्ग्यूसन 8055 ट्रैक्टर शक्तिशाली इंजन के साथ में आता है। मैसी फर्ग्यूसन कंपनी...
Cardamom Farming: इलायची की खेती कैसे होती है?

Cardamom Farming: इलायची की खेती कैसे होती है?

इलायची, जिसे आम तौर पर मसालों की रानी कहा जाता है, दक्षिण भारत में पश्चिमी घाटों पर बड़े-बड़े बरसाती जंगलों का मूल निवासी है। भारत में इसकी खेती लगभग 1,00,000 हेक्टेयर में होती है। मुख्य रूप से अधिकांश दक्षिणी राज्यों जैसे तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल में कुल क्षेत्रफल का 60.31 प्रतिशत और 9% हिस्सा है। भारत का वार्षिक उत्पादन लगभग 40 हजार मीट्रिक टन है, जिसका लगभग 60 प्रतिशत से अधिक विदेशो में निर्यात किया जाता है, जिससे लगभग 40 मिलियन रुपये की विदेशी मुद्रा मिलती है। इलायची भोजन, कन्फेक्शनरी, पेय पदार्थ और शराब जैसी कई तैयारियों को स्वादिष्ट बनाती है। आज...
धान की सही बुवाई को लेकर वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक रितेश शर्मा जी का साक्षात्कार

धान की सही बुवाई को लेकर वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक रितेश शर्मा जी का साक्षात्कार

मेरीखेती की टीम किसानों की समृद्धि को लक्ष्य मानकर निरंतर किसान हित में निःशुल्क किसान पंचायत का आयोजन, मासिक पत्रिका और ऑनलाइन माध्यम से लाभकारी जानकारी किसानों तक पहुँचाने का कार्य करती आ रही है। इसी कड़ी में अब गेंहू की फसल कटाई होने के बाद धान की बुवाई की तैयारी करने वाले किसानों के लिए मेरीखेती टीम  ने वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक रितेश शर्मा जी का साक्षात्कार लिया। डॉ रितेश शर्मा कृषि वैज्ञानिक होने की वजह से धान की फसल की अच्छी उपज लेने की सभी तरकीबों के बारे में जानते हैं। क्योंकि रितेश शर्मा को कृषि क्षेत्र में वर्षों का...
मिट्टी जांच क्यों है आवश्यक? जानिए सम्पूर्ण जानकारी

मिट्टी जांच क्यों है आवश्यक? जानिए सम्पूर्ण जानकारी

फसल उत्पादन और मृदा स्वास्थ्य दोनों के लिए संतुलित पौध पोषण बहुत महत्वपूर्ण है। मिट्टी परीक्षण खेत की मिट्टी में उपस्थित विभिन्न प्रमुख और गौण पोषक तत्वों की मात्रा की जानकारी देता है। मिट्टी परीक्षण के नतीजों को देखते हुए कृषक बन्धु उर्वरकों का सही मात्रा में उपयोग कर अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं।मिट्टी परीक्षण क्या होता है?मिट्टी परीक्षण का अर्थ है पौधों की मिट्टी में पोषक तत्वों की उपलब्ध मात्राओं का रासायनिक परीक्षणों द्वारा आंकलन करना और विभिन्न मृदा विकास विशेषताओं जैसे मृदा लवणीयता, क्षारीयता और अम्लीयता की जांच करना। फसल उत्पादन के लिए मिट्टी परीक्षण बहुत आवश्यक...