Ad

पशुपालन

भारतीय गाय नस्लों का वर्गीकरण और उनके अनूठे गुण

भारतीय गाय नस्लों का वर्गीकरण और उनके अनूठे गुण

भारत गायों की कई अलग-अलग नस्लों का घर है और अपनी जीवंत संस्कृति और विविध परिदृश्यों के लिए प्रसिद्ध है। पीढ़ियों से, मवेशी भारतीय कृषि और ग्रामीण जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा रहे हैं, जो देश की अर्थव्यवस्था, संस्कृति और धार्मिक रीति-रिवाजों में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। प्रत्येक नस्ल के अपने विशिष्ट गुण और अर्थ होते हैं। हम इस ब्लॉग में कुछ प्रसिद्ध गाय नस्लों की जानकारी देंगे जो पूरे भारत में पाई जाती हैं।भारतीय मवेशियों की विशेषताएँभारत में मवेशियों को आमतौर पर दूध और डेयरी उत्पादों के लिए पाला जाता है। भारत में, मवेशी हिंदू धर्म के अंतर्गत पवित्र जानवर...
जानिए गर्मी के मौसम में कैसे रखे पशुपालक अपने दुधारू पशुओं का ध्यान

जानिए गर्मी के मौसम में कैसे रखे पशुपालक अपने दुधारू पशुओं का ध्यान

गर्मी का मौसम दुधारू पशुओं के लिए मुश्किल हो सकता है। तापमान में वृद्धि से पशुओं में तनाव, दूध उत्पादन में कमी और बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। पशुपालकों को इस मौसम में अपने पशुओं का विशेष ध्यान रखना चाहिए। गर्मियों का मौसम वह समय होता है जब डेयरी उत्पादकों को अपनी गायों, भैंसों और अन्य पशुओं की देखभाल में विशेष सावधानी बरतनी पड़ती है। इस मौसम में शीतल पदार्थ और विशेष खाद सामग्रियों की आवश्यकता होती है ताकि पशुओं को ठंडक मिल सके। इस लेख में हम डेयरी पशुओं की गर्मियों में देखभाल के बारे में जानकारी देंगे।गर्मी मे...
भारत में भैंस पालन के लिए 4 उन्नत नस्लें: अधिक दूध उत्पादन के लिए बेहतरीन विकल्प

भारत में भैंस पालन के लिए 4 उन्नत नस्लें: अधिक दूध उत्पादन के लिए बेहतरीन विकल्प

कृषकों के लिए पशुपालन उनकी आमदनी बढ़ाने का सर्वोत्तम जरिया है। दरअसल, आज के दौर में भैंस पालन का कार्य काफी तेजी से बढ़ रहा है। गांव के साथ-साथ शहरों में भी अब लोग भैंस पालन का व्यवसाय कर काफी शानदार आमदनी कर रहे हैं।यदि आप भी हाल-फिलहाल में भैंस पालन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको इनकी उन्नत नस्ल की जानकारी होनी चाहिए। ताकि आप उनका पालन सुगमता से कर अपनी आय को बढ़ा सकें।दूध एक तरह से अमृत ही है, क्योंकि देश को स्वास्थ्य और शक्ति प्रदान करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है। भारत के कृषकों और...
योगी सरकार की इस योजना से गौ-पालन करने वालों को मिलेगा अनुदान

योगी सरकार की इस योजना से गौ-पालन करने वालों को मिलेगा अनुदान

नंदिनी कृषक समृद्ध योजना और गौ संवर्धन योजनाओं को संचालित कर रही है। राज्य सरकार इन समस्त योजनाओं के आधार पर किसानों को अथवा डेयरी खोलने वालों को सब्सिड़ी की धनराशि के साथ में कई अन्य तरह की सहायता भी प्रदान कर रही है। गौ पालन को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाओं को संचालित कर रही है। उत्तर प्रदेश सरकार का मुख्य उद्देश्य गौ वंश को प्रोत्साहन देने साथ-साथ राज्य में दुग्ध उत्पादन में बढ़ोतरी करना है। प्रदेश सरकार राज्य में गौ वंशों के पालन के लिए राज्य में गोपालक योजना, नंद बाबा योजना, नंदिनी...
भेड़-बकरियों में होने वाले पीपीआर रोग की रोकथाम व उपचार इस प्रकार करें

भेड़-बकरियों में होने वाले पीपीआर रोग की रोकथाम व उपचार इस प्रकार करें

भेड़-बकरियों को विभिन्न प्रकार की बीमारियाँ होती हैं, जिसमें से एक पीपीआर रोग भी शम्मिलित है। यह गंभीर बीमारी भेड़-बकरियों को पूर्णतय कमजोर कर देती है। परंतु, अगर आप शुरू से ही पीपीआर रोग का टीकाकरण एवं दवा का प्रयोग करें, तो भेड़-बकरियों को संरक्षित किया जा सकता है। साथ ही, इसकी रोकथाम भी की जा सकती है। बहुत सारे किसानों और पशुपालकों की आधे से ज्यादा भेड़-बकरियां अक्सर बीमार ही रहती हैं। अधिकांश तौर पर यह पाया गया है, कि इनमें पीपीआर (PPR) बीमारी ज्यादातर होती है। PPR को 'बकरियों में महामारी' अथवा 'बकरी प्लेग' के रूप में भी...
जानें कैसे आप बिना पशुपालन के डेयरी व्यवसाय खोल सकते हैं

जानें कैसे आप बिना पशुपालन के डेयरी व्यवसाय खोल सकते हैं

किसान भाई बिना गाय-भैंस पालन के डेयरी से संबंधित व्यवसाय चालू कर सकते हैं। इस व्यवसाय में आपको काफी अच्छा मुनाफा होगा। अगर आप भी कम पैसे लगाकर बेहतरीन मुनाफा कमाने के इच्छुक हैं, तो यह समाचार आपके बड़े काम का है। आज हम आपको एक ऐसे कारोबार के विषय में जानकारी देंगे, जिसमें आपकी मोटी कमाई होगी। परंतु, इसके लिए आपको परिश्रम भी करना होगा। भारत में करोड़ो रुपये का डेयरी व्यवसाय है। यदि आप नौकरी छोड़कर व्यवसाय करना चाहते हैं, तो हमारा यह लेख आपके लिए बेहद फायदेमंद है। दरअसल, हम अगर नजर डालें तो डेयरी क्षेत्र में...