Ad

सम्पादकीय

शिवराज सिंह चौहान ने ली कृषि मंत्री पद की शपथ किसानों के हित में करेंगे कार्य

शिवराज सिंह चौहान ने ली कृषि मंत्री पद की शपथ किसानों के हित में करेंगे कार्य

मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के तीसरे कार्यकाल के पहले दिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट मंत्रियों को अलग-अलग विभागों में बांट दिया, जिसमें शिवराज सिंह को गांवों और किसानों की विकास की जिम्मेदारी दी गई है।मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, जिन्हें जनता के 'मामा' और 'भैया' के नाम से जाना जाता था, अब नई भूमिका में हैं।                                कृषि एवं किसान कल्याण और ग्रामीण विकास मंत्री के रूप में पदभार ग्रहण करने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वह पूरी क्षमता और मेहनत...
मेरीखेती ने मई माह की किसान पंचायत का आयोजन किया

मेरीखेती ने मई माह की किसान पंचायत का आयोजन किया

मेरीखेती हर माह किसान और कृषि वैज्ञानिकों के परस्पर संवाद के लिए मेरीखेती किसान पंचायत का आयोजन करती है। मई महीने की मासिक किसान पंचायत का आयोजन मोहन चौधरी की अध्यक्षता में गांव नया नगला, जिला हाथरस (उत्तर प्रदेश) में किया गया। इस मासिक किसान पंचायत में वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ सी.बी सिंह, डॉ लक्ष्मीकांत और डॉ पी.के सिंह जैसे अनुभवी वैज्ञानिक और सैकड़ों की संख्या में किसान मौजूद रहे। किसान पंचायत की चर्चा का मुख्य विषय मिलेट्स यानी मोटे अनाज की फसलों का उत्पादन और मुनाफा रहा।डॉ सी.बी. सिंह ने मोटे अनाज का परिचय बताते हुए कहा कि मोटे अनाज पारंपरिक...
किसानों के दिल में जगह बना रहा 50 HP में सॉलिस कंपनी का शक्तिशाली ट्रैक्टर

किसानों के दिल में जगह बना रहा 50 HP में सॉलिस कंपनी का शक्तिशाली ट्रैक्टर

भारतीय कृषकों के बीच कुछ कंपनियों के ट्रैक्टर काफी ज्यादा लोकप्रिय हैं। सॉलिस यानमार ऐसी ही एक कंपनी है। यह कंपनी इंटरनेशनल ट्रैक्टर्स लिमिटेड (ITL) का प्रमुख ब्रांड है। सॉलिस के जापानी तकनीक वाले ट्रैक्टर भारत के कृषकों की प्रत्येक आवश्यकता को पूर्ण कर रहे हैं। यदि आप कृषि या उससे जुड़े कार्यों को आत्मविश्वास के साथ करना चाहते हैं, तो सॉलिस 5015 ई ट्रैक्टर सबसे अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। जापानी तकनीक से तैयार किए गया 50 एचपी का यह ट्रैक्टर किसानों की समृद्धि के लिए समर्पित है। सॉलिस 5015 ई ट्रैक्टर अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ फीचर्स...
फसल उत्पादकता को बढ़ाने के लिए मई माह में कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य

फसल उत्पादकता को बढ़ाने के लिए मई माह में कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य

कृषि में अच्छी उत्पादकता के लिए कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना होता है। सबसे पहले जुताई किसी भी फसल की खेती के लिए सर्वप्रथम कार्य है। फसल की पैदावार खेत की जुताई पर आश्रित होती है। क्योंकि, अब रबी फसलों की कटाई का कार्य तकरीबन पूर्ण हो चुका है। अब ऐसे में किसान खरीफ सीजन की खेती की तैयारियों में जुट गए हैं। रबी फसल की कटाई के पश्चात खेत बिल्कुल खाली हो जाते हैं।परंतु, खरीफ सीजन की खेती शुरू करने से पहले किसानों को ग्रीष्मकालीन जुताई अवश्य कर लेनी चाहिए। जमीन की उर्वरता को बढ़ाने के लिए...
कृषि जलवायु क्षेत्रों के अनुसार भारत में उगाई जाने वाली विभिन्न प्रकार की फसलें

कृषि जलवायु क्षेत्रों के अनुसार भारत में उगाई जाने वाली विभिन्न प्रकार की फसलें

भारत एक प्रमुख कृषि राष्ट्र है, जहां कृषि एक मुख्य आधारिक व्यवसाय है और लाखों लोगों के जीवन का आधार है। भारत में, फसलें विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों के अनुसार उगाई जाती हैं, जो तापमान, वर्षा, मृदा प्रकार, और भू-परिस्थितियों जैसे कारकों द्वारा परिभाषित किए जाते हैं। आज के इस लेख में हम यहां भारत में विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों में उगाई जाने वाली फसलों के प्रकार का एक सामान्य अवलोकन आपके सामने करेंगे।भारत में कृषि के बारे में जानकारी1. उष्णकटिबंधीय क्षेत्र   चावल, गन्ना, केले, आम, पपीता, नारियल, और मसाले जैसे काली मिर्च और इलायची भारत के उष्ण और आर्द्र तटीय क्षेत्रों...
सोनालीका ने वित्त वर्ष'24 में अब तक की सर्वाधिक कुल वार्षिक बाज़ार हिस्सेदारी 15.3% (est.) दर्ज की और घरेलू बाज़ार में वृद्धि दर्ज करने वाला एकमात्र ट्रैक्टर ब्रांड बना

सोनालीका ने वित्त वर्ष'24 में अब तक की सर्वाधिक कुल वार्षिक बाज़ार हिस्सेदारी 15.3% (est.) दर्ज की और घरेलू बाज़ार में वृद्धि दर्ज करने वाला एकमात्र ट्रैक्टर ब्रांड बना

दमदार प्रदर्शन से भरे एक गौरवशाली वर्ष का समापन करते हुए, सोनालीका ट्रैक्टर्स ने वित्त वर्ष'24 की कठिन परिस्थितियों को पार करते हुए 15.3% (est.) की सर्वाधिक कुल वार्षिक बाज़ार हिस्सेदारी के साथ वित्त वर्ष'24 में प्रशंसनीय प्रदर्शन किया और घरेलू बाज़ार में वृद्धि दर्ज करने वाला एकमात्र ट्रैक्टर ब्रांड बन गया है।नई दिल्ली, 10 अप्रैल, 2024: भारत से ट्रैक्टर एक्सपोर्ट में नंबर 1 ब्रांड, सोनालीका ट्रैक्टर्स इनोवेशन की अपनी प्रतिबद्धता को बढ़ावा देने और अपने किसान-केंद्रित दृष्टिकोण का लाभ उठाते हुए एक नई उपलब्धि हासिल की और वित्त वर्ष'24 का समापन करने के लिए उत्साहित है। कंपनी ने अब...
भारत में पाई जाने वाली इस नस्ल की गाय का दुग्ध उत्पादन में पहला स्थान

भारत में पाई जाने वाली इस नस्ल की गाय का दुग्ध उत्पादन में पहला स्थान

भारत के अंदर विभिन्न प्रकार की गायों की नस्लें पाई जाती हैं। कृषि के साथ-साथ पशुपालन किसानों की आय बढ़ाने में काफी सहयोगी भूमिका अदा करता है। पशुपालकों के लिए गाय पालन उनकी आय को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छा स्त्रोत माना जाता है। अब ऐसे में पशुपालन करने वाले किसानों को गाय की अच्छी नस्ल का चयन करना महत्वपूर्ण होता है। इसलिए आज के इस लेख में हम आपको गाय की ऐसी नस्ल की जानकारी देंगे जो कि सबसे ज्यादा दूध देती है। दरअसल, हम आज आपको बताऐंगे गाय साहीवाल नस्ल (Sahiwal Breed Cow) के बारे में। वैज्ञानिक ब्रीडिंग के माध्यम...
मई महीने में किए जाने वाले महत्वपूर्ण कृषि कार्य

मई महीने में किए जाने वाले महत्वपूर्ण कृषि कार्य

आज के बदलते समय और आधुनिकता से खेती-बाड़ी करने के लिए के किसान भाइयों के पास उन्नत किस्म के बीज, उन्नत रासायनिक खाद, कीटनाशक तथा पानी की समुचित व्यवस्था होनी अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसके साथ-साथ किस महीने में कौन- सा कृषि कार्य करना है, उसकी सही ढ़ंग से जानकारी होनी अति आवश्यक है। मई माह जिसको आप वैशाख-ज्येष्ठ भी कहते हैं। ग्रीष्म ऋतु का प्रारंभ और जाड़ों से ठिठुरी हुई धरती, मानव, पशु-पक्षियों में नई जान डालने वाले इस महीने में खरीफ की फसलें बोने का उचित समय होता है।मेरीखेती के इस लेख में आज हम आपको मई माह में किए...
पीएम मोदी द्वारा सबसे प्रभावशाली कृषि निर्माता अवार्ड से पुरुस्कृत लक्ष्य डबास की कहानी

पीएम मोदी द्वारा सबसे प्रभावशाली कृषि निर्माता अवार्ड से पुरुस्कृत लक्ष्य डबास की कहानी

भारत एक कृषि प्रधान देश है। देश की 60 से 70 प्रतिशत आबादी कृषि पर निर्भर होती है। इसलिए खेती-किसानी देश की अर्थव्यवस्था का भी आधार स्तंभ है। आजकल बदलते जमाने के चलते किसानों ने भी अपनी कृषि के अंदर आधुनिकता को अपनाना शुरू कर दिया। बहुत सारे किसान कृषि उघमिता में कामयाबी की बुलंदी पर पहुँच रहे हैं। ऐसे ही एक प्रगतिशील किसानों में से एक लक्ष्य डबास हैं। लक्ष्य डबास दिल्ली के सोनीपत बॉर्डर पर स्थित जट खोर के मूल निवासी हैं। बतादें, कि लक्ष्य बीते 10 वर्षों से खेती कर रहे हैं और हजारों युवाओं को प्रशिक्षण दे...