किसानों को समुचित वक्त पर खाद-बीज उपलब्ध कराए जाऐंगे, प्रत्येक चीज पर पैनी नजर रखी जाऐगी

By: MeriKheti
Published on: 21-Aug-2023

खाद-बीज की बेहतरीन बिक्री करने के लिए सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है, जिससे किसान भाइयों को समुचित समय पर फायदा प्राप्त होगा। खाद-बीज के वितरण में जब भी कोई अव्यवस्था होती है, तो इसकी जबावदेही व जिम्मेदारी प्रत्यक्ष रूप से सरकारी समितियों (Government Committees) की होती हैं। यदि हम एक नजर डालें तो भारत के कई सारे राज्यों से आए-दिन खाद-बीज को लेकर कुछ न कुछ समस्याऐं आती ही रहती हैं। बतादें, कि किसानों व समितियों की इस समस्या को दूर करने के लिए वर्तमान में उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने प्रदेश की सहकारी समितियों को हाईटेक करना चालू कर दिया है। इसकी तैयारी भी सरकार के द्वारा शीघ्रता के साथ की जा रही है। ऐसा कहा जा रहा है, कि इस काम के लिए समितियों ने सीसीटीवी कैमरे से युक्त करने का प्रयास शुरू हो चुका है। वहीं, कुछ ही दिनों में यह कार्य पूर्ण हो जाएगा।

इस जनपद में सीसीटीवी कैमरा लगाए जाऐंगे

प्राप्त जानकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जनपद में सर्व प्रथम खाद-बीज के वितरण (Fertilizer distribution) पर निगरानी रखने के लिए सीसीटीवी कैमरा लगेंगे। हमीरपुर जनपद में कुल 42 सहकारी समितियां उपस्थित हैं। अब इन सभी को CCTV कैमरे से युक्त किया जाने का कार्य किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: इ
स राज्य में किसानों को घर बैठे अनुदानित दर पर बीज मुहैय्या कराए जाएंगे

सरकार ने कर्मचारियों को निर्देशित किया

किसान भाइयों को सही समय पर खाद-बीज उपलब्ध करवाने के लिए सरकार ने समितियों के सभी कर्मचारियों को सख्त निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है, कि समितियों में मौजूद हर एक कर्मचारियों पर निगरानी रखने के लिए शीघ्र से शीघ्र कैमरा लगाए जाए।

इन जगहों पर उर्वरक नहीं मिल पाएगा

सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक सहकारिता आर.पी गुप्ता का कहना है, कि जिले की जिन भी समितियों में CCTV कैमरा नहीं लग पाया है। वहां पर किसी भी प्रकार के उर्वरक का आवंटन नहीं किया जाएगा। यदि किसी दूसरे गांव से किसानों को खाद और उर्वरक (Manure and Fertilizers) मुहैय्या करवाई जाती है, तो उनके ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई भी की जाऐगी। इसके अतिरिक्त उन्होंने यह भी बताया है, कि इन कैमरों की सहायता से किसान व कर्मचारियों समेत खाद व उर्वरक की हर एक जानकारी सरकार के पास उपलब्ध होगी।

श्रेणी