गन्ने का सर्वाधिक मूल्य दे रही हरियाणा सरकार

1

हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार देश में सर्वाधिक गन्ने के भाव दे रही है। हाल ही में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 340 रूपये प्रति क्विंटल के भाव को बढ़ाकर 350 रूपए प्रति क्विंटल करने की घोषणा की है, इससे किसानों को काफी फायदा होगा ।

जीन्द सहकारी चीनी मिल का 37वां गन्ना पिराई सत्र आज से शुरू हो गया है जिसकी विधिवत शुरुआत सहकारिता मंत्री              डॉ बनवारी लाल ने बटन दबाकर की।

सहकारिता मंत्री श्री बनवारी लाल ने गन्ना उत्पादक किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि सहकारी चीनी मिलों के विकास में गन्ना उत्पादक किसानों का हमेशा अहम योगदान रहा है। किसानों को नवीनतम तकनीक अपनाकर गन्ना उत्पादन करना चाहिए और हरियाणा सरकार द्वारा लागू की गई सभी योजनाओं का लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश के हर नागरिक को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सकारात्मक कदम उठाए जा रहे हैं। हरियाणा सरकार भी केन्द्र की तर्ज पर लोगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए पशुपालन व्यवसाय शुरू करने वाले लोगों को तीन लाख रूपये की राशि का ऋण प्रदान कर रही है।

उन्होंने कहा कि सहकारी चीनी मिलों में गन्ना लेकर आने वाले किसानों को कोई परेशानी न हो, इसके लिए यहां आवश्यक प्रबंध किये गए हैं । उन्होंने चीनी मिलों के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि किसानों को गन्ना बिक्री की राशि की अदायगी अविलम्ब करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि गन्ना उत्पादन के प्रति किसानों का रूझान बढ़ रहा है, निश्चित रूप से गन्ने के रकबे में बढौतरी लगातार हो रही है। आवश्यकता पड़ी तो चीनी मिलों की पिराई क्षमता को बढाया जाएगा।इस अवसर पर सहकारिता मंत्री ने मिल में सबसे पहले गन्ने से लदी ट्रॉली लेकर पंहुचने वाले गन्ना उत्पादक किसान बलबीर सिंह, होशियार सिंह, रमेश, श्यामा, बलजीत सिंह, सुखबीर, जयदीप, हरिओम, बलजीत तथा धर्मपाल को चदर भेंटकर सम्मानित किया। उन्होंने दौड़ में राष्ट्रीय स्तर पर दूसरा स्थान हासिल करने वाले मिल के कर्मचारी आजाद सिंह तथा हवन यज्ञ करने वाले लिजे राम तथा राजेश शास्त्री को भी सम्मानित किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More