गर्मी की गहरी जुताई से क्या फायदा होता है जानिए इसके बारे में यहां

Published on: 25-Apr-2024

गर्मी की गहरी जुताई एक कृषि तकनीक है जो की रबी की फसल की कटाई के बाद गर्मी के महीनों में की जाती है ताकि भूमि को उपजाऊ और फलदायक बनाया जा सके। 

यह एक प्रकार की मूल जुताई है जिसमें खेत की ऊपरी स्तर से गहरे सबसॉइलर (Subsoiler) या प्लो द्वारा भूमि को उपेक्षित किया जाता है। यह तकनीक विभिन्न फायदे प्रदान करती है। इस लेख में आप गहरी जुताई के फायदों के बारे में विस्तार से जानेंगे।

खरपतवार नियंत्रण

ग्रीष्मकालीन गहरी जुताई से खरपतवार के बीजों को मिट्टी में गहराई तक दबाने में मदद मिलती है, जिससे उनका अंकुरण और विकास रुक जाता है। 

इससे पोषक तत्वों, पानी और सूरज की रोशनी के लिए प्रतिस्पर्धा कम हो जाती है, जिससे फसल की पैदावार बेहतर होती है।

बेहतर मृदा संरचना

गहरी जुताई से जमी हुई मिट्टी की परतों को तोड़कर मिट्टी के वातन और जल निकासी में सुधार होता है। यह जड़ों को मिट्टी में गहराई तक प्रवेश करने, पोषक तत्वों और पानी तक अधिक प्रभावी ढंग से पहुंचने की अनुमति देता है। इससे जड़ प्रणाली स्वस्थ होती है और पौधों की वृद्धि बेहतर होती है।

जल घुसपैठ में वृद्धि 

गहरी जुताई से मिट्टी की पानी को अवशोषित करने और बनाए रखने की क्षमता बढ़ जाती है। यह अनियमित वर्षा पैटर्न वाले या सूखे की स्थिति वाले क्षेत्रों में विशेष रूप से फायदेमंद है, क्योंकि यह मिट्टी की नमी को संरक्षित करने और पानी के बहाव को कम करने में मदद करता है।

ये भी पढ़ें: कृषि-जलवायु परिस्थितियों में जुताई की आवश्यकताएं (Tillage requirement in agro-climatic conditions in Hindi)

पोषक तत्वों की उपलब्धता  

ग्रीष्मकालीन गहरी जुताई से मिट्टी के भीतर गहरे दबे कार्बनिक पदार्थों के अपघटन को बढ़ावा मिलता है। इस अपघटन से नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम जैसे पोषक तत्व निकलते हैं, जिससे वे पौधों के लिए अधिक आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। यह समय के साथ मिट्टी की उर्वरता में भी सुधार करता है।

कीट और रोग प्रबंधन

गहरी जुताई से कुछ कीटों और बीमारियों को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है, उनके जीवन चक्र को बाधित करके या सर्दियों के चरणों को दफन करके। 

इससे बाद की फसलों में कीटों और बीमारियों का प्रकोप कम हो जाता है, जिससे समग्र फसल स्वास्थ्य और उपज स्थिरता में योगदान होता है।

मिट्टी का कटाव कम होता है 

गहरी जुताई से नाली या लकीरें बनती हैं जो सतही अपवाह को रोकने और मिट्टी के कटाव को रोकने में मदद करती हैं। यह ढलान वाले इलाकों या कटाव की संभावना वाले क्षेत्रों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जहां टिकाऊ कृषि के लिए मिट्टी की अखंडता बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

ये भी पढ़ें: गेहूं कटाई के बाद खेत की जुताई के लिए आधुनिक कृषि यंत्र

संरक्षण कृषि के लिए तैयारी

गहरी जुताई मिट्टी को बिना जुताई या न्यूनतम जुताई जैसी संरक्षित कृषि पद्धतियों के लिए तैयार करती है। जमी हुई मिट्टी की परतों को ढीला करके और मिट्टी की संरचना में सुधार करके, यह संरक्षण जुताई के तरीकों को अपनाने की सुविधा प्रदान करता है, जो मिट्टी की गड़बड़ी को कम करने और लंबे समय तक मिट्टी के स्वास्थ्य को संरक्षित करने में मदद करता है।

अवशेष प्रबंधन

गहरी जुताई से फसल के अवशेष मिट्टी में गहराई तक समा जाते हैं, जिससे उनके अपघटन और पोषक तत्वों के पुनर्चक्रण को बढ़ावा मिलता है। 

इससे बाहरी उर्वरकों की आवश्यकता कम हो जाती है और मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ की मात्रा में सुधार होता है, जिससे मिट्टी के स्वास्थ्य और दीर्घकालिक उत्पादकता में सुधार होता है।

इसके अलावा, गहरी जुताई से अवशेष पादपों को भूमि में मिलाया जा सकता है, जो खाद्य सामग्रियों की गुणवत्ता को बढ़ाता है। यह भूमि के पौधों के विकास को बढ़ावा देता है और उत्पादकता में सुधार करता है।

श्रेणी