सोयाबीन की फसल को प्रभावित करने वाले रोग व उनकी रोकथाम

Published on: 03-May-2024

सोयाबीन की बुवाई जून के प्रथम सप्ताह से शुरू हो जाती है। ऐसे में सोयाबीन की बंपर पैदावार लेने के लिए किसानों को इसकी उन्नत किस्में और बुवाई के सही तरीके की जानकारी होना बेहद जरूरी है। 

सोयाबीन के किसानों को अच्छे भाव मिलते हैं। क्योंकि सोयाबीन से तेल निकाला जाता है। इसके अलावा सोयाबीन से सोया बड़ी, सोया दूध, सोया पनीर आदि चीजें बनाई जाती है।

बतादें, कि सोयाबीन तिलहनी फसलों में आता है और इसकी खेती देश के कई राज्यों में होती है। विशेषकर मध्यप्रदेश में इसकी खेती प्रमुखता से की जाती है। 

सोयाबीन का भारत में 12 मिलियन टन उत्पादन होता है। यह भारत में खरीफ की फसल है। भारत में सबसे ज्यादा सोयाबीन मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान में उत्पादित होती है। 

मध्य प्रदेश का सोयाबीन उत्पादन में 45 प्रतिशत जबकि महाराष्ट्र का 40 प्रतिशत हिस्सा है। इसके अलावा बिहार में किसान इसकी खेती कर रहे है। मध्यप्रदेश के इंदौर में सोयाबीन रिसर्च सेंटर है।

बैक्टेरियल ब्लाइट / Bacterial blight 

इस रोग के कारण बीजों पर उभरे हुए या धंसे हुए घाव विकसित हो सकते हैं और वे सिकुड़े हुए और बदरंग हो सकते हैं। रोग के कारण पत्तियों पर छोटे, कोणीय, पारभासी, पानी से लथपथ, पीले से हल्के भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं। 

नई पत्तियाँ सबसे अधिक संक्रमित होती हैं और नष्ट हो जाती हैं। कोणीय घाव बड़े होते हैं और विलीन होकर बड़े, अनियमित मृत क्षेत्र बनाते हैं।

अधिक संक्रमण के कारण निचली पत्तियों का जल्दी झड़ाव हो सकता है और तनों और डंठलों पर बड़े, काले घाव विकसित हो जाते हैं। 

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • रोग को नियंत्रण करने के लिए गर्मी में खेत की गहरी जुताई करें। 
  • बुवाई के लिए स्वस्थ/प्रमाणित बीजों का प्रयोग करें।
  • संक्रमित फसल अवशेषों को नष्ट कर दें। 
  • खड़ी फसल में रोग के नियंत्रण के लिए 250 पीपीएम (2.5 ग्राम/10 किग्रा बीज) की दर से स्ट्रेप्टोसाइक्लिन से बीज उपचार करें। 
  • इसके आलावा 250 पीपीएम (2.5 ग्राम/10 लीटर पानी) की दर से स्ट्रेप्टोसाइक्लिन के साथ 2 ग्राम/लीटर की दर से किसी भी तांबे के कवकनाशी का उपयोग करें। 

सर्कोस्पोरा लीफ ब्लाइट / Cercospora leaf blight 

संक्रमित पत्तियां चमड़े जैसी, गहरे, लाल बैंगनी रंग की दिखाई देती हैं।

ये भी पढ़ें: ICAR ने बताए सोयाबीन कीट एवं रोग नियंत्रण के उपाय

गंभीर संक्रमण से पत्ती के ऊतकों में तेजी से क्लोरोसिस और परिगलन होता है, जिसके परिणामस्वरूप पत्तियां गिर जाती हैं।

डंठलों और तनों पर घाव थोड़े धंसे हुए, लाल बैंगनी रंग के होते हैं ।

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • बुवाई के लिए स्वस्थ/प्रमाणित बीजों का प्रयोग करें।
  • बीज उपचार थिरम + कार्बेन्डाजियम (2:1) @ 3 ग्राम/किग्रा बीज से करें।
  • मैंकोजेब या कॉपर ऑक्सीक्लोराइड 2.5 ग्राम/लीटर या कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम/लीटर का उपयोग करें। 

ड्राई रूट रोट / Dry root rot 

यह रोग तब होता है जब पौधे नमी के तनाव में होते हैं या नेमाटोड के हमले के कारण या मिट्टी के संघनन के कारण या पोषक तत्वों की कमी के कारण होते हैं। यह सोयाबीन के पौधे का सबसे आम बेसल तना और जड़ रोग है।

निचली पत्तियाँ हरितहीन हो जाती हैं और मुरझाकर सूखने लगती हैं।

रोगग्रस्त ऊतकों का रंग आमतौर पर भूरा हो जाता है। स्क्लेरोटिया काले पाउडर जैसे दिखते हैं इसलिए इस बीमारी को चारकोल रोट के नाम से जाना जाता है। 

जड़ों का काला पड़ना और टूटना सबसे आम लक्षण है। कवक शुष्क परिस्थितियों में मिट्टी और फसल के मलबे में जीवित रहता है। 

शुष्क परिस्थितियाँ, अपेक्षाकृत कम मिट्टी की नमी और पोषक तत्व और 25o C से 35o C तक का तापमान इस रोग के लिए अनुकूल है।

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • रोग को नियंत्रण में रखने के लिए ग्रीष्म ऋतु में गहरी जुताई करें।
  • फसल का संतुलित उर्वरकीकरण सुनिश्चित करें।
  • खेत को अच्छी तरह से सूखा रखें। 
  • पिछले वर्ष की संक्रमित पराली को नष्ट कर दें।
  • टी. विराइड 4 ग्राम/किग्रा या पी. फ्लोरोसेंस 10 ग्राम/किलो बीज या कार्बेन्डाजिम या थीरम 2 ग्राम/किलो बीज से बीजोपचार करें।
  • कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम/लीटर या पी. फ्लोरेसेंस/टी. विराइड 2.5 किग्रा/हेक्टेयर के साथ 50 किग्रा एफवाईएम के साथ स्पॉट ड्रेंचिंग करें।

ये भी पढ़ें: सोयाबीन फसल की सुरक्षा के उपाय

अल्टरनेरिया लीफ स्पॉट / Alternaria leaf spot

इस रोग से संक्रमित पौधों की फलियों में बीज छोटे एवं सिकुड़े हो जाते हैं और बीज पर गहरे, अनियमित, फैले हुए धँसे हुए क्षेत्र बन जाते हैं। 

पत्तों पर संकेंद्रित छल्लों के साथ भूरे, परिगलित धब्बों का दिखना, जो आपस में जुड़कर बड़े परिगलित क्षेत्रों का निर्माण करते हैं। मौसम के अंत में संक्रमित पत्तियाँ सूख जाती हैं और समय से पहले गिर जाती हैं। 

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • बुवाई के लिए स्वस्थ/प्रमाणित बीजों का प्रयोग करें। 
  • कटाई के बाद खेतों से फसल अवशेषों को नष्ट करें। 
  • रोग नियंत्रण के लिए बीज उपचार थिरम + कार्बेन्डाजियम (2:1) @ 3 ग्राम/किग्रा बीज से करें। 
  • कड़ी फसल में रोग नियंत्रण के लिए मैंकोजेब या कॉपर कवकनाशी 2.5 ग्राम/लीटर या कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम/लीटर का उपयोग करें। 

पॉड ब्लाइट / Anthracnose/pod blight 

इस रोग से संक्रमित बीज सिकुड़े हुए, फफूंदयुक्त और भूरे रंग के हो जाते हैं। बीजपत्रों पर लक्षण गहरे भूरे रंग के धंसे हुए कैंकर के रूप में दिखाई देते हैं। 

रोग की प्रारंभिक अवस्था में पत्तियों, तनों और फलियों पर अनियमित भूरे रंग के घाव दिखाई देते हैं। उन्नत चरणों में, संक्रमित ऊतक कवक के काले फलने वाले पिंडों से ढके होते हैं।

उच्च आर्द्रता के तहत, पत्तियों पर शिरा परिगलन, पत्ती का लुढ़कना, डंठलों पर कैंकर, समय से पहले पत्ते गिरना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। 

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • बुवाई के लिए स्वस्थ या प्रमाणित बीजों का प्रयोग करें।
  • कटाई के तुरंत बाद खेत की साफ जुताई करके पौधों के अवशेषों को पूरी तरह हटा दें।
  • पिछले वर्ष की संक्रमित पराली को नष्ट कर दें।
  • खेत को अच्छी तरह से सूखा रखें। 
  • बीज के उचित नियंत्रण के लिए थाइरम या कैप्टान या कार्बेन्डाजिम 3 ग्राम/किग्रा से बीजोपचार करें। 
  • खड़ी फसल में स्प्रे के रूप में मैंकोजेब 2.5 ग्राम/लीटर या कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम/लीटर का उपयोग करें।

श्रेणी
Ad
Ad