ज्वार की खेती से पाएं दाना और चारा

By: MeriKheti
Published on: 18-Jun-2021

ज्वार को ज्यादा तादाद में किसान चारे के लिए उगाते हैं लेकिन कई इलाकों में इसकी खेती दाने के लिए भी की जाती है। ज्वार की खेती के लिए 6 से 8.30 पीएच वाली मिट्टी उपयुक्त रहती है। उचित जल निकासी, बेहतर जल धारण क्षमता वाली उपजाऊ मिट्टी में इसकी खेती श्रेष्ठ रहती है। देसी किस्में कमजोर जमीन में भी हो जाती है। ज्वार ऐसी फसल है जो कम पानी में भी हो जाती है तथा दो-चार दिन अगर पानी भरा भी रहे तब भी यह बची रहती है। ज्वार की खेती उत्तर भारत में खरीफ सीजन में एवं दक्षिण भारत में रबी सीजन में की जाती है। इसलिए ज्वार की मांग साल भर बनी रहती है।

खेत की तैयारी

ज्वार की खेती के लिए खेत को कल्टीवेटर एवं हैरो दोनों से जुड़ना चाहिए ताकि मिट्टी भुरभुरी हो जाए। अच्छी फसल के लिए कंपोस्ट खाद का प्रयोग जरूर करना चाहिए। यदि खेत साल में कुछ महीने के लिए खाली रहता हो तो हरी खाद के लिए ढेंचा लगा देना चाहिए। ढैंचा की 60 दिन की फसल को दो ढाई फीट की अवस्था पर खेत में हैरों चलाकर जोत देना चाहिए। यदि सिंचाई के लिए पानी संभव हो तो खेत में पानी लगा देना चाहिए ताकि ढेंचा जल्दी से गल जाए।

ज्वार की उन्नत किस्में

मध्यप्रदेश के लिए ज्वार की संकर किस्म सी एस एच 5, 9, 14 एवं 18 उपयुक्त हैं। पुन्ह बीज से जमने वाली ओपी किस्मों में जवाहर ज्वार 741, जवाहर ज्वार 938, एसपीवी 1022, जवाहर ज्वार 1041 एवं एएसआर-1 जैसी अनेक किस्में बाजार में उपलब्ध रहती हैं। उत्तर प्रदेश के लिए सीएचएस 16, 14, 9, सीएसवी 13 एवं 15, वर्षा, मऊ t1 एवं मऊ टी2 किस्म उपयुक्त हैं। शंकर किस्मों से दाना 38 कुंटल एवं चारा 140 क्विंटल तक प्राप्त हो जाता है।

ये भी पढ़ें:
खाद्य एवं चारे के रूप में उपयोग की जाने वाली ज्वार की फसल की संपूर्ण जानकारी

कम उपजाऊ जमीन के लिए किस्में

यूं तो ज्वार की संकर किस्में बेहद अच्छा उत्पादन देने वाली बाजार में मौजूद हैं लेकिन प्रतिकूल परिस्थितियों और कमजोर जमीन में देसी किस्में अच्छा उत्पादन दे जाती हैं। इनमें उज्जैन की उज्जैन है लव कुश, विदिशा, आंवला आदि किस्मों से दाने की उपज 12 से 16 कुंटल एवं चारे की उपज 30 से 40 कुंटल तक मिल जाती है।

उर्वरक प्रबंधन

बुवाई के समय 50 किलोग्राम नाइट्रोजन 80 किलोग्राम फास्फोरस एवं 30 किलोग्राम पोटाश संस्तुत की जाती है। नाइट्रोजन की आधी मात्रा ही जुताई के समय डालनी चाहिए बाकी उर्वरक पूरे डाल देने चाहिए।

श्रेणी