जानिए मक्के की विश्वभर में उगने वाली किस्म के बारे में

By: MeriKheti
Published on: 30-Oct-2023

हम आपको मक्के की ग्लास जेम कॉर्न प्रजाति के विषय में बताने जा रहे हैं। यह प्रजाति अमेरिका में सबसे पहले उत्पादित की गई थी। परंतु, आज के वक्त में विभिन्न बाकी देशों में भी इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है। शारीरिक लाभों में भी यह प्रजाति बेहद फायदेमंद होती है। आपने मक्का की विभिन्न उन्नत प्रजातियों के विषय में काफी सुना होगा। परंतु, आज हम आपको अमेरिका की एक ऐसी सतरंगी मक्के की प्रजाति के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आज कल लोगों के मध्य चर्चा का विषय बना हुआ है। मक्के की इस प्रजाति को ग्लास जेम कॉर्न के नाम से भी जाना जाता है। दरअसल, यह प्रजाति भारत में नहीं बल्कि सबसे पहले अमेरिका में उत्पादित की गई थी। परंतु, इसके रंग बिरंगे दानों ने इसे आज बहुत से देशों में पसंदीदा बना दिया है। भारत में बहुत सारे किसान आज इस किस्म से मोटा पैसा भी कमा रहे हैं। ग्लास जेम कॉर्न की खेती आज के समय में कहीं भी की जा सकती है।

इस किस्म को किसने विकसित किया था

मक्के की इस किस्म की उन्नति के पीछे की कहानी सुनने में भले ही अटपटी लगे परंतु सच जानना बेहद जरूरी है। इसके विकास का श्रेय अमेरिका के एक किसान कार्ल बांर्स ने किया था। दरअसल, उस वक्त उसने अपने मक्के के खेत में लगी हुई ओक्लाहोमा नामक मक्के की किस्म के साथ प्रयोग कर विकसित किया था। वर्तमान में यह दुनिया के कई देशों में उगाई जाती है।

ये भी पढ़ें:
मक्का की खेती करने के लिए किसान इन किस्मों का चयन कर अच्छा मुनाफा उठा सकते हैं


इन पौधों को आप किस प्रकार उगा सकते हैं

इन पौधों को उगाने के लिए आपको सर्व प्रथम इसके बीजों को इकठ्ठा करना होगा। इसके पश्चात ग्लास जेम कॉर्न के बीजों को खेत अथवा बगीचे में आपके द्वारा विकसित की गई जमीन में पक्तियों को 30 इंच की दूरी के साथ बनाएं। वहीं, जब ग्लास जेम कॉर्न की बीजों को रोपित करने की बात आती है, तो आप इनका 6-12 इंच की दूरी पर रोपण करें। हालांकि ऐसी स्थिति में आप समय-समय पर खाद और पानी देते रहें। कुछ दिनों के अंतर्गत यह परिपक्व होकर कटाई के लायक हो जाएगी। आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि इसको पकने में तकरीबन 120 दिन का वक्त लगता है।


 

यह प्रजाति शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होती है

यह किस्म ना केवल दिखने में बल्कि शारीरिक रूप से भी बहुत फायदेमंद होती है। मक्के की इस प्रजाति में विटामिन A,B और E, मिनरल्स और कैल्शियम काफी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके साथ ही इसमें मिनरल्स और कैल्सियम की मात्रा भी भरपूर होती है। यही वजह है, कि यह किस्म शरीर की विभिन्न बीमारियों से छुटकारा दिलाने में लाभकारी होती है। आप इस किस्म की मक्का को भी अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

श्रेणी