जानें आईएआरआई-पूसा किस तरह किसानों को MSP से दोगुनी कीमत दिला रहा है ?

By: Merikheti
Published on: 18-Jan-2024

किसान भाइयों आज हम आपके लिए एक अच्छी खबर लेकर आए हैं। अब आप यह सोच रहे होंगे कि, आपके लिए अच्छी खबर क्या है। तो अगर आपसे कोई कहे कि आपकी फसल का एमएसपी से डेढ़ गुना ज्‍यादा भाव मिल सकता है, तो यह किसानों के लिए काफी खुशी का समाचार होगा। जी हाँ, बेशक आपको यह सुनकर बड़ा ही अजीब लग रहा होगा। अब आप यह सोच रहे होंगे कि जब सरकार ने एमएसपी तय कर रखी है तो उससे ज्‍यादा भाव कैसे मिल सकता है। यदि यह कहा जाए कि इसमें स्‍वयं इंडियन एग्रीकल्‍चर रिसर्च इंस्‍टीट्यूट (आईएआरआई-पूसा) कृषकों की सहायता कर रहा है, तो आपको और भी ज्यादा अचम्भा होगा। परन्तु यह बात एकदम सत्य है। हजारों की संख्या में किसान पूसा की सहायता से एमएसपी से फसल का डेढ़ गुना या इससे भी ज्यादा भाव प्राप्त कर रहे हैं।

आईएआरआई कैसे कर रहा है किसानों की मदद

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के प्रधान वैज्ञानिक और बीज उत्‍पादन इकाई के प्रभारी डा. ज्ञानेंद्र सिंह का कहना है, कि "आईएआरआई किसानों की पैदावार और आय बढ़ाने में मदद कर रहा है। यह प्रयास इसी कड़ी में ही किया गया है। उन्‍होंने बताया कि आईएआरआई के पास इतनी जमीन नहीं है, कि वो तमाम किसानों को उच्‍च गुणवत्‍ता वाले बीज मुहैया करा पैदावार बढ़वा सके। इसके लिए वो किसानों के खेतों में बीज तैयार करा रहा है। आईएआरआई का यह प्रयास किसानों की आय और पैदावार दोनों को बढ़ाने में मददगार हो रहा है। शोधों से स्‍पष्‍ट हो गया है, कि उन्‍नत किस्‍म के बीजों से 30 से 40 प्रतिशत तक उपज बढ़ाई जा सकती है।

ये भी पढ़ें: 13 फसलों के जीएम बीज तैयार करने के लिए रिसर्च हुई शुरू

किसानों को MSP से दोगुनी कीमत पाने के लिए इस प्रकिया से गुजरना पड़ेगा

डा. ज्ञानेंद्र सिंह का कहना है, कि "सबसे पहले वैज्ञानिक यह देखते हैं कि किस फसल की कौन सी प्रजाति अच्‍छी है और उसके बीज के लिए कौन-कौन से इलाके सबसे अच्‍छे रहेंगे। जहां पर सबसे उच्‍च गुणत्‍ता का बीज पैदा करा सकते हैं। वैज्ञानिक इस पर रिसर्च करते हैं। इसके बाद वहां के किसानों से संपर्क करते हैं। इसमें किसानों के चयन के बहुत सारे आधार होते हैं। बीज तैयार करने में लागत किसान के द्वारा ही लगाई जाती है। लेकिन गाइड यानी दिशा निर्देशन आईएआरआई के वैज्ञानिक करते हैं। इस प्रक्रिया में आईएआरआई केन्‍द्र के 100-120 किमी. के दायरे में रहने वाले किसानों का चयन किया जाता है, जिससे उन्‍हें बीज तैयार होने के बाद केन्‍द्र में पहुंचाने में ज्‍यादा खर्च ना करना पड़े। कई किसान मिलकर भी बीज उत्‍पादन में शामिल हो सकते हैं, जिससे उनका बीज पहुंचाने में भाड़ा कम लगेगा।"

किसानों द्वारा तैयार की गई फसल का इस तरह भुगतान होगा

किसान अपनी फसल को तैयार होने के बाद आईएआरआई केन्‍द्र पर ले जाता है। किसान को उसी समय एमएसपी के मुताबिक भुगतान किया जाता है। इसके पश्चात वैज्ञानिक उसकी जांच-पड़ताल करते हैं, जिसमें औसतन 8 फीसदी माल गुणवत्‍ता के अनुरूप नहीं निकलता है। इसके लिए किसान और खरीदार को केन्‍द्र में बुलाया जाता है, जो इस माल को बेचता है। चूंकि, आईएआरआई इसे बीज के रूप में तैयार कराता है। इस वजह से फसल और बीज कीमत में एमएसपी के अनुसार करीब डेढ़ गुना या इससे भी ज्यादा का अंतर होता है। आईएआरआई किसान को अंतर में आए रुपये का भुगतान करता है। इस तरह से किसान को डेढ़ गुना से अधिक लागत मिल जाती है।

ये भी पढ़ें: इस राज्य में इन पांच किस्मों के बीजों पर 50% फीसद अनुदान प्रदान किया जा रहा है

कृषकों को मिलेगी घर बैठे जानकारी

किसान भाई पूसा दिल्‍ली के बीज उत्‍पादन से सीधा 011 25842686 पर डायल करके संपर्क कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त देशभर के किसान विज्ञान केन्‍द्र (केवीके) और एग्रीकल्‍चर टेक्‍नीकल इनफार्मेशन केन्‍द्र (एटीके) से संपर्क कर इसकी जानकारी हांसिल कर सकते हैं।

दिल्‍ली, उत्तर प्रदेश समेत इन राज्‍यों के किसान यहां संपर्क कर सकते हैं 

दिल्‍ली के समीपवर्ती शहरों में रहने वाले भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) दिल्‍ली में बीज इकाई में जाकर सीधा संपर्क कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश में वाराणसी, मेरठ, मोदीपुरम, मऊ, इज्‍जतनगर, लखनऊ, झांसी और कानपुर, मध्‍य प्रदेश में भोपाल, हरियाणा में करनाल और हिसार, राजस्‍थान में जोधपुर और बीकानेर, बिहार में पटना, छत्‍तीसढ़ में रायपुर, झारखंड में रांची, उत्‍तराखंड में देहरादून और अल्‍मोड़ा के आईसीएआर में जाकर इसकी जानकारी हांसिल कर सकते हैं।

भारत के अन्‍य राज्‍यों के लोग कैसे करें संपर्क

पूरे भारत के किसान फार्मर व्‍हाट्सअप हेल्‍पलाइन 9560297502, पूसा हेल्‍पलाइन 011-25841670 / 25841039, 25842686 और पूसा एग्रीकॉम 1800-11-8989 टोल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। ऑनलाइन सवाल https://www.iari.res.in/bms/faq/index.php पर भेज सकते हैं। 

श्रेणी