इस राज्य की मशहूर अंगूर की खेती व खाद, सिंचाई, मृदा के बारे में जानें

Published on: 21-Dec-2022

महाराष्ट्र राज्य में अंगूर का सर्वाधिक उत्पादन किया जाता है। अंगूर की कृषि हेतु राज्य का योगदान कुल उत्पादन का 81.22 प्रतिशत है। नासिक अंगूर का उत्पादन करने वाला प्रमुख जनपद है। बागवानी फसलों में अंगूर की खेती का भी एक प्रमुख स्थान है। देश में अंगूर का उत्पादन महाराष्ट्र के नासिक जनपद में की जाती हैं। नासिक में इतनी ज्यादा अंगूर का उत्पादन किया जाता है, कि माना जाता है कि देश का 70 प्रतिशत अंगूर नासिक में ही किया जाता है। इसके अतिरिक्त पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली में की जा जाती है। यहां किसान अंगूर का उत्पादन करके अच्छा खासा लाभ अर्जित कर रहे हैं। भारत में व्यावसायिक रूप से अंगूर की कृषि पूर्व के तकरीबन छः दशकों से की जा रही है एवं फिलहाल आर्थिक दृष्टिकोण से सबसे ज्यादा जरुरी बागवानी उद्यम के रूप से अंगूर की खेती काफी उन्नति पर है। अंगूर की खेती करने का तरीका काफी अलग होता है और इसे खाद से लेकर कीट से बचाने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है।

भी पढ़ें: महाराष्ट्र और कर्नाटक के किसान अंगूर से किशमिश बनाने की इस नई तकनीक का सहारा ले बढ़ा रहे हैं अपनी आय : कैसे करें शुरुआत

अंगूर के उत्पादन हेतु कैसी होनी चाहिए मृदा एवं जलवायु

अंगूर की खेती हेतु बेहतर जल निकास वाली दोमट, रेतीली मिट्टी उपयुक्त मानी गई है। इसमें इसकी कृषि सफलतापूर्वक की जा सकती है। वहीं अधिक चिकनी मिट्टी इसकी कृषि हेतु उचित नहीं होती है। इसके उत्पादन हेतु गर्म, शुष्क एवं दीर्घ ग्रीष्म ऋतु के माफिक रहती है। [embed]https://www.youtube.com/watch?v=JeQ8zGkrOCI&t=243s[/embed]

जानें अंगूर के पौधे को लगाने के बारे में

अंगूर की बागवानी एवं उत्पादन हेतु गड्ढे की तैयारी -तकरीबन 50*50*50 सेमी आकार के गड्ढे खोदकर प्रारूपित करते हैं एवं इसको एक सप्ताह के लिए बिल्कुल खुला छोड़ देते हैं। अंगूर का पौधरोपण के वक्त गड्ढों में सड़ी गोबर की खाद (15-18 किलोग्राम), 250 ग्राम नीम की खली, 50 ग्राम सुपर फॉस्फेट व 100 ग्राम पोटेशियेम सल्फेट प्रति गड्ढे में मिलाकर भरी जाती है।

अंगूर के उत्पादन हेतु बेहतर एवं सटीक वक्त

दिसंबर से जनवरी माह में फसल की तैयार की गई जड़ की रोपाई की जाती है, अंगूर की विभन्न तरह की किस्में होती हैं। जिसमें से प्रमुख उन्नत किस्मों परलेट, ब्यूटी सीडलेस, पूसा सीडलेस है।


ये भी पढ़ें:
सीखें वर्मी कंपोस्ट खाद बनाना

अंगूर की फसल में कब और कैसे खाद लगता है

अंगूर की फसल को अनेक प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, इसलिए नियमित एवं संतुलित मात्रा सही ढंग से खाद का उपयोग करें।अंगूर की फसल में मुख्य रूप से खाद जड़ों मे गड्ढे बनाकर दिया जाता है एवं उसे मिट्टी द्वारा ढका जाता है। छंटाई के तुंरत उपरांत जनवरी के अंतिम सप्ताह में नाइट्रोजन एवं पोटाश की आधी मात्रा व फास्फोरस की पूर्ण मात्रा दाल देनी चाहिए। शेष मात्रा फल लगने के उपरांत दें, खाद एवं उर्वरकों को बेहतरीन ढंग से मृदा में मिश्रण के तुंरत बाद सिंचाई करें। खाद को मुख्य तने से दूर 15-20 सेमी गहराई पर डालें।

कैसे की जानी चाहिये अंगूर की सिंचाई ?

अंगूर की कृषि देश के अर्धशुष्क क्षेत्रों में की जाती है, इसलिए इस फसल में वक्त वक्त पर सिंचाई की जरुरत होती है। अंगूर की फसल मे पर्याप्त नमी बनाए रखने हेतु 7-8 दिनों में एक पानी दें परंतु कृषक मौसमिक आवश्यकतानुसार सिंचाई करें। भारत में अधिकाँश कृषक आजकल अंगूर की खेती में टपक सिंचाई का प्रयोग किया जाता है, जिससे बहुत सारे लाभ होते हैं। जब फलों की तुड़ाई हो जाये उसके बाद भी एक सिंचाई जरूर कर देनी चाहिए।

श्रेणी