टमाटर की खेती में हो सकती है लाखों की कमाई : जानें उन्नत किस्में

By: MeriKheti
Published on: 15-Jul-2022

पंचसितारा का हो प्लेट या घर की थाली, हर जगह मिलेगी टमाटर की लाली. टमाटर सब्जी या अन्य व्यंजनों में स्वाद का खट्टा मीठा तड़का ही नहीं, फ्लेवर भी देता है. टमाटर को स्वास्थ्य के लिये भी जाना जाता है. अगर किसान टमाटर की खेती करने की सोच रहे हैं तो यह किसानों के लिए सबसे बढ़िया फसल हो सकती है। टमाटर की खेती से किसान बहुत लाभ कमा सकते हैं. टमाटर की खेती कैसे और कब करें इसके बारे में किसानों को ज्यादा जानकारी नहीं होती है। जबकि टमाटर की खेती कर किसान लाखों कमा सकते हैं।

टमाटर की उन्नत किस्में

किसी भी फसल की अच्छी पैदावार और अच्छी कमाई अच्छे बीज पर निर्भर करती है. टमाटर की खेती के लिये भी उन्नत बीज का चुनाव करना होगा. टमाटर की उन्नत किस्में निम्नलिखित हैं:

अर्का रक्षक

भारत में सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाले बीज में सबसे अच्छा अर्का रक्षक है। इसकी पैदावार सबसे ज्यादा होती है. इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता सबसे ज्यादा होता है. अर्का रक्षक की बेहतर क्वालिटी के कारण बाजार में इसकी मांग बहुत रहती है. अर्का रक्षक किसानों का सबसे पसंदीदा बीज माना जाता है.

पूसा शीतल

टमाटर की अच्छी पैदावार के लिये पूसा शीतल किस्म को माना जाता है. यह देशी किस्म का बीज है.

पूसा सदाबहार

पूसा सदाबहार की फसल की पैदावार लगभग 300 क्विंटल से लेकर 450 क्विंटल तक होती है।

अर्का विकास

देशी बीजों में अच्छे उत्पादन के लिये अर्का विकास बीज माना जाता है.

पूसा हाइब्रिड-1

टमाटर की पूसा हाइब्रिड किस्म के बीजों का बहुत सारे किसानो द्वारा फसल लगाया जाता है. यह भी एक उत्तम पैदावार के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला बीज है.

रश्मि

टमाटर के हाईब्रिड बीजों में रश्मि बीज का नाम भी शामिल है.

ये भी पढ़ें: भारत मौसम विज्ञान विभाग ने दी किसानों को सलाह, कैसे करें मानसून में फसलों और जानवरों की देखभाल

टमाटर की खेती का सही समय

मार्च से जुलाई के समय टमाटर काफी जल्दी बड़े होते हैं. उपयुक्त समय पर टमाटर की फसल लगाने से अच्छी पैदावार मिलती है. इसलिए आपको हम टमाटर की खेती करने के सही समय से जुड़ी जानकारी दे देते है. टमाटर की खेती उत्तरी मैदानी भाग में शरद और वसंत ऋतु में की जाती है. जबकि दक्षिणी भारत में टमाटर की खेती का सही समय जून – जुलाई, अक्टूबर – नवंबर और जनवरी – फरवरी होता है. पंजाब के किसानों के लिये बसंत से ग्रीष्म ऋतु का मौसम टमाटर की खेती के लिए सही समय है. उत्तम जलवायु टमाटर की खेती के लिये बहुत जरूरी है. हालाँकि टमाटर की खेती गर्मी और सर्दी दोनों ही मौसम में की जाती है। टमाटर की खेती के लिए तापमान 20 डिग्री से लेकर 25 डिग्री के बीच होना सबसे उपयुक्त माना जाता है.

ये भी पढ़ें: टमाटर की फसल में एकीकृत कीट प्रबंधन

टमाटर की खेती के लिए भूमि कैसे तैयार करें

टमाटर की खेती के लिए भूमि को अच्छे से खेती के लिए तैयार करना जरूरी होता है. भूमि के अंदर तोता हल की मदद से अच्छी तरह से जुताई करनी चाहिये और पाटा की मदद से जमीन को समतल कर क्यारियां बना देनी चाहिये. इस भूमि पर हल्का हल्का पानी लगा देना है और उस जमीन की कल्टीवेटर हल से जोत देना चाहिये. फिर से पाटा लगाकर जमीन को अच्छे तरीके से समतल कर देनी चाहिये जिससे मिट्टी समतल और भूरभूरी हो जाएगी. इसके बाद जमीन टमाटर के पोधों की रोपाई के लिए तैयार है.

बीज की मात्रा

टमाटर की खेती के लिये बीज न ही कम मात्रा में डालना है और न ही ज्यादा मात्रा में. अगर आप हाईब्रीड क़िस्मों के बीज का इस्तेमाल करते हैं तो 200 से 250 ग्राम बीज एक हेक्टेयर में डाल सकते हैं. वहीं अन्य क़िस्मों के बीज की बात की जाए तो आप एक हेक्टेयर में 350 से 400 ग्राम बीज एक हेक्टेयर में इस्तेमाल करें.  

श्रेणी