भारत में इस राज्य के लिए विश्व बैंक ने खोला खजाना

Published on: 22-Nov-2022

जैसा कि हम सब जानते हैं, कि भारत एक कृषि प्रधान देश है, देश की अधिकांश जनसँख्या जीवनयापन हेतु कृषि पर आश्रित रहती है। मृदा एवं जलवायु के अनुरूप कई प्रकार की फसल उगाई जा रही हैं। बतादें कि कृषि जगत में विकसित नवीनतम तकनीक एवं आधुनिक उपकरणों की सहायता से बंजर जमीन पर भी बेहतरीन उत्पादन किया जा रहा है। साथ ही, फसल को विभिन्न देशों में भी भेजा जाता है, कृषि की आधुनिक व नवीन तकनीकों की सहायता से ऐसे पहाड़ क्षेत्रों से पैदावार भी की जा सकती है, जहां कभी उत्पादन की कोई उम्मीद नहीं की जा सकती है। इसी बात का उदाहरण है, नागालैंड (Nagaland) जहां किसान पहाडों की ढलानों को सीढ़ीनुमा आकर के रूप में प्रयोग करके अच्छा खासा मुनाफा उठा रहे हैं। नागालैंड के किसान ८० प्रतिशत भाग में सिर्फ चावल और २० प्रतिशत में दलहन, बाजरा और मक्का की फसल उगाई जाती है।

ये भी पढ़ें: ब्रोकली की नई वैज्ञानिक उत्पादन तकनीक का सहारा लेकर पहाड़ी राज्यों के किसान कमा रहे हैं अच्छा मुनाफा, आप भी जानिए पूरी प्रक्रिया

यहां होगी पहाड़ों के प्रयोग से खेती

नागालैंड के किसानों ने अपनी मेहनत के बल पर पहाड़ों का सीना चीर कर फसल उगा दी है। जिस जगह पर बहुत सारे पेड़ खड़े रहते थे, उस जगह पर नागालैंड के किसानों ने खेती कर भूमि की उत्पादकता बढ़ा दी। बारिश के कारण फसल उत्पादन असंभव सा हो जाता है। लेकिन नागालैंड के किसानों ने आपदा को अवसर में बदलने का कार्य किया है। पहाड़ों पर सीढ़ीनुमा खेत बनाकर किसान अधिकतर धान की फसल का उत्पादन करते हैं, क्योंकि धान उत्पादन हेतु अधिक जल की आवश्यकता होती है।

विश्व बैंक ने जाहिर की सीढ़ीनुमा खेती की प्रशंसा

बतादें कि नागालैंड के किसानों की सीढ़ीनुमा खेती बहुत ही चर्चा में है। साथ ही, किसानों के द्वारा सीढ़ीनुमा फसल के आकर्षक दृश्य को देखने हेतु पर्यटकों की भीड़ देखी जा रही है, नागालैंड के किसानों की रचनात्मक सोच और मेहनत दोनों रंग लायी। किसानों के अथक प्रयास और मेहनत से नागालैंड की उन्नति व प्रगति हो रही है। पूरे विश्व में आज नागालैंड की खूबसूरत खेती की खूब प्रशंसा हो रही है। इसी दौरान विश्व बैंक की टीम द्वारा जलवायु व वैज्ञानिक खेती को बढ़ावा देने हेतु सहायता करने की बात कही गयी है। मीडिया के अनुसार बताया गया कि विश्व बैंक संगठन की बैठक में एलीमेंट परियोजना के बारे में भी चर्चा की है।

ये भी पढ़ें: बैंकिंग से कृषि स्टार्टअप की राह चला बिहार का यह किसान : एक सफल केस स्टडी

किन जगहों पर विश्व बैंक ने सर्वे किया

विश्व बैंक की टीम ने नागालैंड में भ्रमन के दौरान वहां की प्राकृतिक खूबसूरती को विशेष रूप से देखा, जिसमें फार्मिंग-एनआईएसएफ परियोजना, सेंडेन्यू बायो डायवर्सिडी रिसर्व, पारंपरिक सीढ़ीनुमा खेती,  एग्रो फॉरेस्ट्री, चीचमा में झूम खेती एवं नागा इंटीग्रेटेड सेटल्ड के सम्बंधित जानकारी प्राप्त की। बतादें कि अतिशीघ्र ही टीम नागालैंड स्थित मधुमक्खी पालन, हनी मिशन, चुमौकेदिमा, दिमाबांस मिशन जैविक बाजार का भी भ्रमन करेगी। इस सन्दर्भ में नागालैंड के कृषि उत्पादन आयुक्त वाई द्वारा भी विश्व बैंक संगठन द्वारा राज्य में कृषि परिदृश्य एवं कृषि के विभिन्न नमूनों के संबंध में जानकारी दी।

श्रेणी