Cloud Computing: कृषि क्षेत्र में क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक की क्या भूमिका होती है

By: MeriKheti
Published on: 27-Jul-2023

आज भारत में कृषि को उन्नत बनाने के लिए हर तरह की कोशिशें की जा रही हैं। इन्हीं कोशिशों को लेकर अगर कृषि को क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक आधारित बना दिया जाए तो यह वर्तमान मुनाफे से कई गुणा तक बढ़ जाता है। आइये जानते हैं, कि क्लाउड कंप्यूटिंग क्या होता है और इसके कितने लाभ होते हैं। क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक ने विभिन्न उद्योगों में क्रांति लादी है और कृषि भी इसका अपवाद नहीं है। हाल के वर्षों में, कृषि में क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक के एकीकरण ने उल्लेखनीय बदलाव लाए हैं, जिससे कृषकों एवं कृषि व्यवसायों को दक्षता, उत्पादकता और स्थिरता में सुधार के नए अवसर मिले हैं। यह लेख क्लाउड कंप्यूटिंग की अवधारणा, इसकी विशेष खासियतों और कृषि क्षेत्र को इसके द्वारा प्रदान किए जाने वाले महत्वपूर्ण लाभों की जाँच करता है।

कृषि क्षेत्र में क्लाउड कंप्यूटिंग का क्या अर्थ है

क्लाउड कंप्यूटिंग एक ऐसी तकनीक होती है, जो कि इंटरनेट पर डेटा और एप्लिकेशन के भंडारण, प्रसंस्करण और साझा करने लायक बनाती है, जिससे ऑन-प्रिमाइसेस बुनियादी ढांचे की जरूरत खत्म हो जाती है। लोकल सर्वर अथवा भौतिक हार्डवेयर पर निर्भर रहने की जगह क्लाउड-आधारित सेवाओं को Third-Party प्रदाताओं द्वारा होस्ट और रखरखाव किया जाता है, जो इंटरनेट कनेक्शन के साथ कभी भी और कहीं भी पहुंचने योग्य होती हैं। ये भी पढ़े: जाने किस व्यवसाय के लिए मध्य प्रदेश सरकार दे रही है 10 लाख तक का लोन

कृषि क्षेत्र में क्लाउड कंप्यूटिंग की प्रमुख खासियतें

डेटा भंडारण और पहुंच

क्लाउड कंप्यूटिंग मौसम के पैटर्न, फसल प्रदर्शन, मिट्टी की गुणवत्ता और बाजार के रुझान समेत बड़ी मात्रा में कृषि डेटा के सुरक्षित भंडारण की सुविधा प्रदान करती है। किसान विभिन्न उपकरणों से वास्तविक समय में इस डेटा तक पहुंच सकते हैं, जिससे उन्हें तुरंत फैसला लेने में मदद मिलती है।

स्केलेबिलिटी

क्लाउड सेवाएं स्केलेबल समाधान प्रदान करती हैं, जो कि कृषि व्यवसायों की गतिशील आवश्यकताओं को समायोजित करती हैं, चाहे उनका आकार कुछ भी हो। किसान अपनी डेटा भंडारण और प्रसंस्करण क्षमताओं को अपनी जरूरतों के अनुसार सुगमता से ऊपर अथवा नीचे कर सकते हैं। ये भी पढ़े: दुग्ध प्रसंस्करण एवं चारा संयंत्रों को बड़ी छूट देगी सरकार

सहयोग और कनेक्टिविटी

क्लाउड प्रौद्योगिकी कृषि आपूर्ति श्रृंखला के अंतर्गत हितधारकों के मध्य निर्बाध मदद को प्रोत्साहन देती है। किसान, शोधकर्ता, कृषिविज्ञानी और खरीदार आसानी से डेटा, अंतर्दृष्टि और सर्वोत्तम विधियों को साझा कर सकते हैं। ज्ञान के आदान-प्रदान को प्रोत्साहन दे सकते हैं और फैसला लेने की क्षमता भी बढ़ा सकते हैं।

लागत दक्षता

क्लाउड कंप्यूटिंग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में महत्वपूर्ण अग्रिम निवेश की जरूरतों को खत्म कर देती है। इसके बजाय, उपयोगकर्ता उन सेवाओं के लिए भुगतान करते हैं, जिनका वह इस्तेमाल करते हैं। छोटे स्तर के किसानों को किफायती खर्चे पर अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों तक पहुंचने में सहयोग मिलता है।

सुरक्षा

प्रतिष्ठित क्लाउड सेवा प्रदाता संवेदनशील कृषि डेटा को उल्लंघनों और साइबर हमलों से संरक्षण हेतु मजबूत सुरक्षा उपाय जारी करते हैं। यह डेटा गोपनीयता निर्धारित करता है, जो आधुनिक कृषि पद्धतियों के संदर्भ में काफी महत्वपूर्ण है। ये भी पढ़े: वर्टिकल यानी लंबवत खेती से कम जगह और कम समय में पैदावार ली जा सकती है

कृषि क्षेत्र में क्लाउड कंप्यूटिंग के क्या-क्या लाभ होते हैं

आपकी जानकारी के लिए बतादें कि कृषि क्षेत्र में इस तकनीक का बहुत फायदा होता है। किसान यदि इस तकनीक के मुताबिक अपनी फसलों के उत्पादन को निर्धारित करते हैं, तो बेहद आसानी से आप बेहतरीन पैदावार हांसिल कर सकते हैं। साथ ही, बाजार की संपूर्ण जानकारी को प्राप्त कर अच्छा मुनाफा भी कमा सकते हैं। हम इस तकनीक से निम्न कृषि लाभ हांसिल कर सकते हैं।

सही व सटीक खेती एवं डेटा-संचालित फैसला पर एक नजर

क्लाउड कंप्यूटिंग किसानों को मौसम पूर्वानुमान, मिट्टी की स्थिति एवं फसल स्वास्थ्य जैसे अहम डेटा तक वास्तविक समय में पहुंच प्रदान करती है। विभिन्न स्रोतों और सेंसरों से डेटा को इकठ्ठा करके, सटीक कृषि पद्धतियाँ ज्यादा सुलभ एवं प्रभावी हो जाती हैं। किसान सिंचाई, उर्वरक एवं कीट नियंत्रण का सटीक प्रबंधन कर सकते हैं। संसाधनों के इस्तेमाल को अनुकूलित कर सकते हैं और अपशिष्ट को कम कर सकते हैं। डेटा-संचालित फैसलों से फसलीय उत्पादन ज्यादा होता है। गुणवत्ता में सुधार होने के साथ-साथ पर्यावरणीय प्रभाव कम होता है।

उन्नत फसल निगरानी एवं प्रबंधन करने में क्या भूमिका है

क्लाउड-आधारित रिमोट सेंसिंग एवं इमेजिंग प्रौद्योगिकियां किसानों को दूर से भी अपनी फसलों की निगरानी करने योग्य बनाती है। कैमरे और सेंसर से युक्त ड्रोन उच्च-रिज़ॉल्यूशन वाली तस्वीर खींच पाऐंगे, जिससे फसल के तनाव, बीमारियों अथवा पोषक तत्वों की कमी की शीघ्रता से जाँच करने में मदद मिलती है। यह लक्षित हस्तक्षेपों की अनुमति प्रदान करता है, व्यापक स्पेक्ट्रम रसायनों की आवश्यकताओं को कम करता है और टिकाऊ कृषि को प्रोत्साहन देता है।

सुव्यवस्थित आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन करने में क्या भूमिका है

क्लाउड कंप्यूटिंग कृषि आपूर्ति श्रृंखला के विभिन्न चरणों के दौरान सहज समन्वय की सुविधा प्रदान करती है। बीज आपूर्तिकर्ताओं से लेकर वितरकों और खुदरा विक्रेताओं तक लाभ लेने वाले सुगमता से जानकारी साझा कर सकते हैं। यह बढ़ी हुई कनेक्टिविटी इनपुट एवं उत्पादों की समय पर डिलीवरी सुनिश्चित करती है। यह नुकसान को कम करने के साथ-साथ किसानों के लिए लाभप्रदता भी काफी बढ़ा देती है। ये भी पढ़े: जैविक पध्दति द्वारा जैविक कीट नियंत्रण के नुस्खों को अपना कर आप अपनी कृषि लागत को कम कर सकते है

कृषि क्षेत्र में क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक का सार

क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक कृषि क्षेत्र के लिए एक गेम-चेंजर के तौर पर उभरी है, जो कि किसानों और कृषि व्यवसायों को डेटा-संचालित, टिकाऊ एवं कुशल प्रथाओं को अपनाने के लिए समर्थ बनाती है। क्लाउड की शक्ति का फायदा उठाकर सटीक खेती एक वास्तविकता बन जाती है, जिसमें किसान वास्तविक समय के डेटा एवं बाजार अंतर्दृष्टि के आधार पर सही फैसला लेते हैं। क्लाउड-आधारित समाधानों की मापनीयता एवं लागत-प्रभावशीलता अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों तक पहुंच को लोकतांत्रिक बनाती है, जिससे बड़े और छोटे दोनों स्तर के किसानों को समान रूप से फायदा होता है। इसके अतिरिक्त IoT उपकरणों एवं रिमोट सेंसिंग प्रौद्योगिकियों के साथ क्लाउड कंप्यूटिंग का एकीकरण फसल निगरानी, ​​संसाधन प्रबंधन एवं जलवायु लचीलापन को बढ़ाता है। जैसे-जैसे क्लाउड कंप्यूटिंग का विकास जारी है, कृषि क्षेत्र आगे की प्रगति देखने के लिए तैयार है, जो खेती के भविष्य को ज्यादा स्थिरता एवं पैदावार को प्रोत्साहन देगा।

श्रेणी