fbpx

सरसों की खेती: कम लागत में अच्छी आय

1 2,301
Farmtrac 60 Powermaxx

सरसों की खेती में किसान को कम लागत में अच्छी आय हो जाती है और इसमें ज्यादा लागत भी नहीं आती है सबसे बड़ी बात जहाँ पानी की कमी हो वहां इसका उत्पादन किया जा सकता है। इसके खेत को किसान दूसरी फसलों के लिए भी प्रयोग में ला सकता है. सरसों की फसल को दूसरी फसलों के साथ भी किया जा सकता है.इसको दूसरी फसलों के मेढ़ों पर लगा दिया जाता है इससे भी अच्छी पैदावार मिल सकती है.जैसे चने के खेत की मेंढ़, बरसीम की मेंढ़, गेंहूं की मेंढ़, मटर आदि की मेंढ़ पर भी लगाया जा सकता है। इसको जब किसी दूसरी फसल के साथ किया जाता है तो इसको बोलते हैं की सरसों की आड़ लगा दी है. इससे सरसों के पेड़ों की दूरी की वजह से सरसों की क्वालिटी भी बहुत अच्छी होती है और इनमे तेल भी अच्छा मिलता है।

सरसों की खेती के लिए खेत की तैयारी:


सरसों के खेत की तैयारी करते समय याद रखें की इसकी खेत में घास न होने पाए और हर बारिश के बाद खेत की जुताई कर देनी चाहिए जिससे की सरसों में पानी देने की जरूरत नहीं पड़ती या फिर कम पानी की जरूरत होती है। सरसों के खेत की जुताई गहरी होनी चाहिए तथा इसकी मिटटी भुरभुरी होनी चाहिए। सरसों की जड़ें गहरी जाती हैं इसलिए इसको गहरी जुताई की आवश्यकता होती है। याद रहे की इसकी खेती समतल खेत में ज्यादा सही होती है इसको ज्यादा पानी की आवश्यकता नहीं होती है तो इसके खेत में पानी नहीं भरना चाहिए नहीं तो इसकी फसल के गलने की समस्या हो जाती है।

सरसों की खेती के लिए बुवाई का समय:


सरसों की बुवाई दो समय पर की जा सकती है जो अगस्त से लेकर अक्टूबर तक की जाती है. राई सरसों को अगस्त के अंतिम सप्ताह या सितम्बर के पहले सप्ताह में लगा देना चाहिए। पीली सरसों को सितम्बर में लगा देना चाहिए तथा सामान्य सरसों या काली सरसों को 15 अक्टूबर से पहले बो देना चाहिए। ध्यान रहे की खेत में में पर्याप्त नमी होनी चाहिए जिससे की पौधे को पनपने में आसानी हो।

सरसों की खेती के लिए खाद और उर्वरक:


उर्वरकों का प्रयोग मिट्‌टी परीक्षण के आधार पर किया जाना चाहिए, इसके लिए हमें अपने खेत की मिट्‌टी की जाँच करा लेनी चाहिए जिससे की हमें पता रहता है की हमारी फसल के लिए किन-किन आवश्यक पोषक तत्वों की जरूरत है इससे हमारी लागत में भी कमी आती है और फसल को भी भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मिलते हैं। लेकिन फिर भी हम निम्न प्रकार से खाद और पोषक तत्व दे सकते हैं, सिचांई वाले क्षेत्रों मे नाइट्रोजन 120 किलोग्राम, फास्फेट 60 किलोग्राम एवं पोटाश 60 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करने से अच्छी उपज प्राप्त होती है। फास्फोरस का प्रयोग सिंगिल सुपर फास्फेट के रूप में अधिक लाभदायक होता है। क्योकि इससे सल्फर की उपलब्धता भी हो जाती है, यदि सिंगल सुपर फास्फेट का प्रयोग न किया जाए तों गंधक की उपलब्धता की सुनिश्चित करने के लिए 40 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से गंधक का प्रयोग करना चाहियें| साथ में आखरी जुताई के समय 15 से 20 टन गोबर की खाद या कम्पोस्ट का प्रयोग लाभकारी रहता है।

असिंचित क्षेत्रों में उपयुक्त उर्वरकों की आधी मात्रा बेसल ड्रेसिग के रूप में प्रयोग की जानी चाहिए| यदि डी ए पी का प्रयोग किया जाता है, तो इसके साथ बुवाई के समय 200 किलोग्राम जिप्सम प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करना फसल के लिये लाभदायक होता है तथा अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए 80 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से सड़ी हुई गोबर की खाद का प्रयोग बुवाई से पहले करना चाहियें.

सिंचाई वाले क्षेत्रों में नाइट्रोजन की आधी मात्रा व फास्फेट एवं पोटाश की पूरी मात्रा बुवाई के समय कूंड़ो में बीज के 2 से 3 सेंटीमीटर नीचे नाई या चोगों से दी जानी चाहिए।  नाइट्रोजन की शेष मात्रा पहली सिंचाई (बुवाई के 25 से 30 दिन) के बाद टापड्रेसिंग में डाली जानी चाहिए।
ऊपर दी गई जानकारी क्षेत्र एवं मिटटी के अनुसार कम या ज्यादा भी हो सकती है।

सरसों की प्रजातियां:

सरसों का खेत

2018 तक एआईसीआरपी- आरएम की छतरी के तहत, रेपसीड-सरसों की कुल 248 किस्में जारी की गई हैं, इनमें से 185 किस्मों को अधिसूचित किया गया है (भारतीय सरसों-113; टोरिया -25; पीली सरसों -17; गोभी सरसों -11) भूरा सरसों -5; करन राई -5; तारामिरा -8 और काली सरसों -1)। इनमें छह संकर और जैविक (सफेद जंग, अल्टरनेरिया ब्लाइट, पाउडर फफूंदी) और अजैविक तनाव (लवणता, उच्च तापमान) के लिए सहिष्णुता वाले किस्में और विशिष्ट लक्षणों को विशिष्ट बढ़ती परिस्थितियों के लिए अनुशंसित किया गया है।

ICAR-DRMR द्वारा विकसित रेपसीड-मस्टर्ड वैरायटी
पहला सीएमएस आधारित हाइब्रिड (NRCHB 506) और भारतीय सरसों की 05 किस्में (NRCDR 02, NRCDR 601, NRCHB 101, DRMRI 31 और DRMR150-35) और एक किस्म की पीली सरसों (NRCYS 05-02) DRMR द्वारा विकसित की गई है।

NRCDR 2 (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2006
अधिसूचना का वर्ष: – 2006/2007
अधिसूचना संख्या: 122 (ई)
अधिसूचना की तारीख: 06/02/2007
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: II (दिल्ली, हरियाणा, J & K, पंजाब और राजस्थान)
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: समय पर सिंचित स्थितियों की बुवाई।
पौधे की ऊंचाई: 165- 212 सेमी
औसत बीज की उपज: 1951-2626 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 36.5- 42.5%
बीज का आकार: 3.5-5.6 ग्रा
परिपक्वता के दिन: 131-156 दिन
बोने के समय लवणता और उच्च तापमान के लिए सहिष्णु है। सफेद जंग की कम घटना, अल्टरनेरिया ब्लाइट, स्क्लेरोटिनिया स्टेम रोट, पाउडर फफूंदी और एफिड्स।

NRCHB-506 हाइब्रिड (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2008
अधिसूचना का वर्ष: – २०० of / २०० ९
अधिसूचना संख्या: 454 (E)
अधिसूचना की तारीख: 11/02/2009
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: III (राजस्थान और उत्तर प्रदेश)
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: अत्यधिक अनुकूलन
पौधे की ऊंचाई: 180- 205 सेमी
औसत बीज की उपज: 1550-2542 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 38.6- 42.5%
बीज का आकार: 2.9-6.5 ग्राम
परिपक्वता के दिन: 127-148 दिन
टिप्पणी: उच्च तेल सामग्री

NRCDR 601 (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2009
अधिसूचना का वर्ष: – 2009/2010
अधिसूचना संख्या: 733 (ई)
अधिसूचना दिनांक: 01/04/2010
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: II (दिल्ली, हरियाणा, J & K, पंजाब और राजस्थान)
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: समय पर सिंचित स्थितियों की बुवाई।
पौधे की ऊंचाई: 161- 210 सेमी
औसत बीज की उपज: 1939-2626 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 38.7- 41.6%
बीज का आकार: 4.2-4.9 ग्राम
परिपक्वता के दिन: 137-151 दिन
टिप्पणी: बुवाई के समय खारेपन और उच्च तापमान पर सहिष्णु। सफेद जंग की कम घटना, (हरिण सिर), अल्टरनेरिया ब्लाइट और स्क्लेरोटेनिया सड़ांध।

NRCHB 101 (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2008
अधिसूचना का वर्ष: – २०० of / २०० ९
अधिसूचना संख्या: 454 (E)
अधिसूचना की तारीख: 11/02/2009
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: III (एम.पी., यू.पी., उत्तराखंड और राजस्थान) और वी (बिहार, जेके, डब्ल्यूबी, ओडिशा, असोम, छत्तीसगढ़, मणिपुर)।
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: जोन III के लिए सिंचित लेट ज़ोन और ज़ोन V स्थितियों के लिए वर्षा आधारित।
पौधे की ऊंचाई: 170- 200 सेमी
औसत बीज की उपज: 1382-1491 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 34.6- 42.1%
बीज का आकार: 3.6-6.2 ग्राम
परिपक्वता के दिन: 105-135 दिन
टिप्पणी: देर से बोए गए सिंचित और वर्षा की स्थिति के लिए उपयुक्त है

DRMRIJ-31 (गिरिराज) (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2013
अधिसूचना का वर्ष: – 2013/2014
अधिसूचना संख्या: 2815 (E)
अधिसूचना की तारीख: 19/09/2013
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: II (दिल्ली, हरियाणा, जम्मू और कश्मीर, पंजाब और राजस्थान के कुछ हिस्से)
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: समय पर सिंचित स्थितियों की बुवाई
पौधे की ऊंचाई: 180- 210 सेमी
औसत बीज की उपज: 2225-2750 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 39- 42.6%
बीज का आकार: 5.6 ग्राम
परिपक्वता के दिन: 137-153 दिन
टिप्पणी: बोल्ड बीज, उच्च तेल सामग्री और उच्च उपज किस्म।

DRMR 150-35 (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2015
अधिसूचना का वर्ष: –
अधिसूचना संख्या: –
अधिसूचना दिनांक: –
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: वी (बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असोम, छत्तीसगढ़ और मणिपुर)
एग्रो इकोलॉजिकल कंडीशन: अर्ली बोई गई रेनफेड कंडीशन
पौधे की ऊँचाई: जल्दी बोई गई बारिश की स्थिति
औसत बीज की उपज: 1828 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 39.8%
बीज का आकार: 4.66 ग्राम
परिपक्वता का दिन: 114 दिन (86- 140 दिन)
टिप्पणी: प्रारंभिक परिपक्वता, पाउडर फफूंदी और ए ब्लाइट के प्रति सहिष्णु

DRMR 1165-40 (भारतीय सरसों)
पहचान का वर्ष: 2018
अधिसूचना का वर्ष: –
अधिसूचना संख्या: –
अधिसूचना दिनांक: –
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
जोन के लिए अनुशंसित: II (राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और जम्मू और कश्मीर)
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: समय पर बुवाई की गई स्थिति
पौधे की ऊंचाई: 177-196 सेमी
औसत बीज उपज: 2200-2600 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 40-42.5%
बीज का आकार: 3.2-6.6 ग्राम
परिपक्वता के दिन: 133- 151 दिन
टिप्पणी: अंकुरित अवस्था में गर्मी सहनशील और नमी सहनशील होती है

NRCYS-05-02 (येलो सरसन)
पहचान का वर्ष: 2008
अधिसूचना का वर्ष: – २०० of / २०० ९
अधिसूचना संख्या: 454 (E)
अधिसूचना की तारीख: 11/02/2009
केंद्र / राज्य: केंद्रीय
अनुशंसित क्षेत्र / क्षेत्र: देश के पीले सरसों के बढ़ते क्षेत्र।
कृषि पारिस्थितिक स्थिति: प्रारंभिक परिपक्वता
पौधे की ऊंचाई: 110- 120 सेमी
औसत बीज उपज: 1239-1715 किग्रा / हे
तेल सामग्री: 38.2- 46.5%
बीज का आकार: 2.2-6.6 ग्राम
परिपक्वता के दिन: 94-181 दिन

खरपतवार नियंत्रण:
सरसों में खरपतवार नियंत्रण के लिए ज्यादा दवाओं का प्रयोग न करें जब सरसों में पहला पानी लगता है तो खरपतवार निकलने लगता है उसके लिए आप दवा या कीटनाशक की जगह खुरपी से निराई करा दें तो ज्यादा मुफीद रहेगा.अगर पानी से पहले सरसों के साथ अनेक प्रकार के खरपतवार उग आते है। इनके नियंत्रण के लिए निराई गुड़ाई बुवाई के तीसरे सप्ताह के बाद से नियमित अन्तराल पर 2 से 3 निराई करनी आवश्यक होती हैं। रासयानिक नियंत्रण के लिए अंकुरण पूर्व बुवाई के तुरंत बाद खरपतवारनाशी पेंडीमेथालीन 30 ई सी रसायन की 3.3 लीटर मात्रा को प्रति हैक्टर की दर से 800 से 1000 लीटर पानी में घोल कर छिडकाव करना चाहिए।

1 Comment
  1. तुलछा राम सारन says

    बहुत अच्छा

Leave A Reply

Your email address will not be published.

The maximum upload file size: 5 MB. You can upload: image, audio, document, interactive. Drop file here

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More