आज लगाएं यह पौधा, बारह साल में बन जाएंगे करोड़पति - Meri Kheti

आज लगाएं यह पौधा, बारह साल में बन जाएंगे करोड़पति

0

भारत किसानों का देश है, लेकिन किसानों की हालत को ले कर दशकों से चर्चा चल रही है कि इसे कैसे सुधारा जाए। दूसरी तरफ, किसान भी पारंपरिक खेती से अन्य प्रयोग करने से कतराते हैं। इसकी भी अपनी वजह हैं। लेकिन, किसानों की आर्थिक हालात बदले, इसके लिए आवश्यक है कि किसान पारंपरिक खेती के साथ ही अन्य किस्म की खेती भी करें। आज हम आपको ऐसे ही एक पेड़ के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसको अगर आज किसी किसान ने लगा लिया, तो 12 साल बाद वह निश्चित ही करोड़पति हो जाएगा। तो हम बता दें कि उस पेड़ का नाम है, सफेद चंदन (chandan; sandalwood; Santalum album) और सबसे अच्छी बात यह है कि उत्तर भारत के किसान भी सफेद चंदन के पेड़ (safed chandan; white sandalwood) अपने खेतों में लगा सकते हैं।

लाल चन्दन के बारे में तो आपने सुना ही होगा कि वह बहुत महँगा होता है। हाल ही में आई एक दक्षिण भारतीय फिल्म में भी लाल चंदन की चर्चा है। लेकिन हम बता दें कि सफेद चंदन की लकड़ी की कीमत भी कोइ कम नहीं होती और इसके इस्तेमाल भी बहुतायत में होते हैं। हजारों रूपये किलो बिकने वाला सफेद चन्दन का एक पेड़ लाखों रूपये दे कर जाता है।

ये भी पढ़ें: चन्दन की खेती : लाखों कमाएं

एक सवाल यह मन में आता है कि क्या सफेद चंदन की खेती नार्थ इंडिया के किसान भी कर सकते हैं ? तो हम बता दें कि इसकी खेती वैसे तो पूरे भारत में की जा सकती है, लेकिन इसके लिए मिट्टी का पीएच लेवल 6 से 8.5 के बीच सबसे अच्छा माना गया है। जहां सफेद चंदन के पेड़ लगाए गए हो वहाँ जल जमाव नहीं होना चाहिए। हां, इसे बर्फ से भी बचाया जाना जरूरी है।

गौरतलब है कि सफेद चंदन के एक पेड़ को विकसित होने में 12 से 15 साल का समय लग सकता है। अगर किसी किसान के पास एक एकड़ जमीन है तो उसमें वह सफेद चंदन के 400 पौधे लगा सकता है। हर दो पेड़ के बीच 12 फीट की जगह खाली होनी चाहिए। यानी, बीच की खाली जमीन में किसान सब्जी की भी खेती कर सकते हैं। अगर किसान चाहें तो चंदन के खेत में हरी सब्जी की भी खेती कर सकते हैं। 12 साल बाद इन चार सौ पेड़ों की कीमत इतनी होगी कि किसान निश्चित ही करोड़पति बन जाएंगे। तो देर किस बात की है, आज ही सफेद चंदन के पेड़ अपनी जमीन में लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More