रंगीन मक्के की खेती से आ सकती है आपकी जिंदगी में खुशियों की बहार, जाने कैसे हो सकते हैं मालामाल

Published on: 11-Jan-2023

आजकल वो जमाना नहीं रहा जब किसान वही एक ही तरह की फसल का उत्पादन करते हुए उससे मुनाफा होने की उम्मीद लगाए बैठे रहें। 

आजकल किसान भाई भी अपने खेत में अलग अलग तरह की फसल लगा कर पारंपरिक खेती से अलग हटकर भी कमाई कर रहे हैं। रंग बिरंगी मक्का यानि मल्टी कलर्ड मक्का (Multi Colored Maize) भी ऐसी ही खेती है। 

यह दिखने में जितनी शानदार है, उतनी ही कमाई में भी इससे होती है। देश का बड़ा वर्ग खेती किसानी से जुड़ा है। भारत में गेहूं, मक्का, धान, दलहन, तिलहन की खेती किसान हर साल करोड़ों हेक्टेयर में करते हैं। 

खरीफ सीजन की प्रमुख फसल धान और रबी की गेहूं है। इन फसलों की बुवाई कर किसान कमाई करते हैं। एक्सपर्ट का मानना है, कि एक बार अगर किसान गेहूं, धान, दलहन, तिलहन जैसी पारंपरिक फसलों से हटकर कुछ करते हैं, तो इससे कमाई बंपर हो सकती है। 

रंगीन मक्का की खेती भी ऐसी ही फसल है। इसे सूझबूझ कर किसान सालाना लाखों रुपये की कमाई कर सकते हैं।

3 हजार साल पुरानी है रंगीन मक्के की खेती

भारत की बात की जाए तो यह अलग-अलग राज्यों में की जाती है। लेकिन मिजोरम में इसे बड़े पैमाने पर उगाया जाता है। स्थानीय लोग इससे होने वाली कमाई को देखते हुए अधिक बुवाई करना पसंद करते हैं। 

विशेषज्ञों का कहना है, कि रंगीन मक्का की खेती का इतिहास काफी पुराना है। भारत में रंगीन मक्का की खेती पिछले 3 साल से की जा रही है। 

ये भी देखें: मक्का लगाएगी नोटों का छक्का

क्या है मक्के के रंगीन होने का कारण

मक्का देश में कई रंगों में पाई जाती है। लाल, नीली, बैंगनी और काले रंग की मक्का की खेती भारत में प्रचलन में है। मक्का में फेनोलिक और एथोसायनिन तत्व पाए जाते हैं। इसी कारण मक्का अलग अलग रंग की होती है। मैजेंटा रंग पौधे में मौजूद एंथोसायनिन वर्णक के कारण होता है।

अच्छी पैदावार होने के लिए कैसा मौसम है उचित

मक्का की फसल एक प्रकार की उष्ण कटिबंधीय फसल है। अगर तापमान की बात की जाए तो इसकी पैदावार 20 से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच के तापमान पर अच्छी होेती है। पौधों की रोपाई के समय हल्की नमी होनी चाहिए। 

यदि मिट्टी की बात करें तो इसके लिए बलुई दोमट मिटटी बेहतर है। इसके अलावा एक्सपर्ट का मानना है, कि अगर बलुई मिट्टी नहीं है, तो आप इसे सामान्य मिट्टी में भी आसानी से उगा सकते हैं।

रोपाई और सिंचाई का तरीका

बीजों को खेत में लगाने से पहले दो से तीन बार गहरी जुताई कर दें और ऐसा करने के बाद कुछ समय के लिए खेत को खुला छोड़ दें। बेहतर उपज के लिए 7 से 8 टन गोबर की खाद डाली जा सकती है। 

पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए नाइट्रोजन, जिंक सल्फेट व अन्य तत्वों का छिड़काव कर देना चाहिए। एक एकड़ में करीब 22 हजार बीज उगाए जा सकते हैं। दो बीजों के बीच की दूरी 75 सेंटीमीटर होनी चाहिए। 

सिंचाई करने के कुछ दिन बाद बीजों की बुवाई कर दें। मक्का के बीज उगने लगे तो सिंचाई कर देनी चाहिए। हर फसल की तरह इस फसल में से भी सभी तरह के खरपतवार समय समय पर साफ करते रहें। इसके अलावा समय समय पर सिंचाई करते रहना भी आवश्यक है।

इतनी होती है कमाई

मक्का पककर तैयार होने पर कटाई की जा सकती है। एक अनुमान के अनुसार, एक हेक्टेयर खेत में 30 से 35 क्विंटल तक मक्का हो जाती है। 

बाजार में एक क्विंटल मक्का 3 से 4 हजार रुपये में बिकती हैं। एक हेक्टेयर में सवा से डेढ़ लाख रुपये तक की मक्का हो जाती है। किसान इसे बेचकर अच्छी कमाई कर सकते हैं।

श्रेणी