जाड़े में गेंहू की वानस्पतिक वृद्धि की अवस्था में यदि पत्तियां पीली हो रही तो परेशान न हो,सही कारण जानकर, करें प्रबंधित

By: Merikheti
Published on: 24-Dec-2023

गेहूं की फसल को रबी में लगाते है ,इसलिए स्वाभाविक तौर पर यह ठंडा तापमान को पसंद करने वाली फसल है। गेंहू की अच्छी वानस्पतिक वृद्धि के लिए ठंडक का होना आवश्यक है। लेकिन अत्यधिक ठंडक की वजह से पहली सिंचाई एवं कही कही पर दूसरी सिंचाई की वजह से तो कही कही पर सिंचाई का पानी लग जाने की वजह से गेंहू की नीचे की पत्तियां पीली हो रही है जिसकी वजह से गेंहू उत्पादक किसान बहुत चिंतित है ,उन्हें समझ में नहीं आ रहा है की आखिर इसका सही कारण क्या है।सही जबाब नही मिलने की वजह किसान चिंतित है।

यह जानना बहुत आवश्यक है की गेंहू की निचली पत्तियां आखिर पीली क्यों हो रही है। इसके पीछे का विज्ञान क्या है? सर्दी का मौसम मिट्टी में सूक्ष्मजीवी गतिविधियों पर बहुत ही महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है, जिससे पौधों द्वारा पोषक तत्व ग्रहण करने पर असर पड़ता है। सर्दियों के मौसम में सूक्ष्मजीव जीवन और पौधों के पोषक तत्वों के अधिग्रहण के बीच यह जटिल संबंध पारिस्थितिक तंत्र की पारिस्थितिक गतिशीलता को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।



ये भी पढ़ें:
गेहूं की फसल में लगने वाले प्रमुख रतुआ रोग

सर्दियों में तापमान जब बहुत कम हो जाता है तो इस पर्यावरणीय कारक का मिट्टी में सूक्ष्मजीवो पर गहरा प्रभाव पड़ता है। बैक्टीरिया और कवक जैसे सूक्ष्मजीव, पोषक तत्व चक्र और मिट्टी की उर्वरता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उनकी मेटाबॉलिज्म (चयापचय) प्रक्रियाएं तापमान से सीधे जुड़ी हुई हैं, और जैसे ही सर्दी शुरू होती है, समग्र माइक्रोबियल गतिविधि कम हो जाती है। सर्दियों के दौरान माइक्रोबियल गतिविधि में कमी का एक प्राथमिक कारण मेटाबॉलिज्म(चयापचय)दर पर कम तापमान का प्रभाव है।

सूक्ष्मजीव, अन्य सभी जीवित जीवों की तरह, अपने चयापचय कार्यों के लिए अनुकूल विशिष्ट तापमान सीमाओं के भीतर काम करते हैं। जैसे-जैसे तापमान गिरता है, माइक्रोबियल चयापचय प्रक्रियाएं धीमी हो जाती हैं, जिससे उनकी समग्र गतिविधि में कमी आती है। यह मंदी प्रमुख माइक्रोबियल कार्यों को प्रभावित करती है, जिसमें कार्बनिक पदार्थों का अपघटन और पोषक तत्वों का खनिजकरण शामिल है। कार्बनिक पदार्थों का अपघटन सूक्ष्मजीवों द्वारा सुगम की जाने वाली एक मौलिक प्रक्रिया है, जो जटिल कार्बनिक यौगिकों को सरल रूपों में तोड़ती है।



ये भी पढ़ें:
HD 2967 Wheat Variety in Hindi: गेहूं की इस किस्म से किसानों को शानदार पैदावार मिल सकती है

यह अपघटन नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम के साथ साथ सूक्ष्म पोषक तत्वों जैसे आवश्यक पोषक तत्वों को मिट्टी में छोड़ता है, जिससे वे पौधों के ग्रहण के लिए उपलब्ध हो पाते हैं। हालाँकि, सर्दियों के दौरान, इस प्रक्रिया की दक्षता में भारी कमी आ जाती है, और अपघटन दर कम हो जाती है। कार्बनिक पदार्थों के अपघटन में यह मंदी सीधे तौर पर पौधों के लिए पोषक तत्वों की उपलब्धता को प्रभावित करती है। इसके अलावा, ठंडे तापमान में रोगाणुओं द्वारा पोषक तत्वों का खनिजकरण भी बाधित होता है।

सूक्ष्मजीव पोषक तत्वों के कार्बनिक रूपों को अकार्बनिक रूपों में परिवर्तित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जिन्हें पौधे आसानी से अवशोषित करते हैं। इस खनिजकरण प्रक्रिया में एंजाइमेटिक गतिविधियाँ शामिल होती हैं, और ये एंजाइम विशिष्ट तापमान सीमाओं के भीतर बेहतर ढंग से कार्य करते हैं। सर्दियों में, ठंडा तापमान एंजाइमेटिक गतिविधि को बाधित करता है, जिससे पोषक तत्वों के खनिजकरण की दर कम हो जाती है। नतीजतन, पौधों को मिट्टी से आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। जबकि सर्दियों के दौरान समग्र सूक्ष्मजीव गतिविधि कम हो जाती है।



ये भी पढ़ें:
कहीं आप की गेहूं की फसल भी इस रोग से प्रभावित तो नहीं हो रही, लक्षणों पर जरूर दें ध्यान

सर्दियों के मौसम में अत्यधिक ठंडक की वजह से गेंहू के खेत में भी माइक्रोबियल गतिविधि कम हो जाती है,जिसके कारण से नाइट्रोजन का उठाव (Uptake) कम होता है , गेंहू के पौधे अपने अंदर के नाइट्रोजन को उपलब्ध रूप में नाइट्रेट में बदल देता है। नाइट्रोजन अत्यधिक गतिशील होने के कारण निचली पत्तियों से ऊपरी पत्तियों की ओर चला जाता है, इसलिए निचली पत्तियाँ पीली हो जाती हैं। संतोष की बात यह है की यह कोई बीमारी नहीं है ये पौधे समय के साथ ठीक हो जाएंगे। यदि समस्या गंभीर हो तो 2 प्रतिशत यूरिया (20 ग्राम यूरिया प्रति लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें) का छिड़काव करने की सलाह दिया जा सकता है। अत्यधिक ठंढक से गेंहू एवम अन्य फसलों को बचाने के लिए हल्की सिंचाई करनी चाहिए, यथासंभव खेतों के किनारे (मेड़) आदि पर धुआं करें। इससे पाला का असर काफी कम पड़ेगा। पौधे का पत्ता यदि झड़ रहे हो या पत्तों पर धब्बा दिखाई दे तो डायथेन एम-45 नामक फफुंदनाशक की 2 ग्राम मात्रा को प्रति लीटर पानी में घोलकर छिडक़ाव करने से पाला का असर कम हो जाता है। इससे फसल को नुकसान होने से बचाया जा सकता है।

श्रेणी