सरकार से मिल रहा ड्रोन लेने पर १०० % तक अनुदान, तो क्यों न लेगा किसान

Published on: 11-Oct-2022

आजकल खेती के लिए नयी नयी तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है, जिससे फसल के उत्पादन के लिए कम से कम लागत में ज्यादा से ज्यादा उत्पादन किया जा सके। आधुनिक कृषि यंत्रों की सहायता से खेती की देखभाल और रख रखाव बेहद आसान हो गया है, कृषि क्षेत्र में ड्रोन  (Agriculture Drone) की उपस्थिति ने एक नयी कृषि प्रणाली को प्रचलन में ला दिया है। किसान ड्रोन की सहायता से फसल को कीटनाशकों से बचाने के लिए छिड़काव आदि कर सकते हैं। ज्यादातर किसान आर्थिक रूप से ड्रोन जैसे महंगे उपकरण खरीदने के लिए सक्षम नहीं है, इन सब बातों को ध्यान में रखकर ही सरकार कृषि यंत्रों पर अनुदान देती है, जिससे किसान आवश्यक यंत्रों को आसानी से खरीद सकें। साथ ही, सरकार के द्वारा ड्रोन के उपयोग को खेती किसानी में बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत है, इसी के अनुरूप सरकार द्वारा बम्पर सब्सिडी देने की बात कही जा रही है।

ये भी पढ़ें: कृषि कार्यों के अंतर्गत ड्रोन के इस्तेमाल से पहले रखें इन बातों का ध्यान

ड्रोन पर कितना अनुदान मिल रहा है ?

फसल की कम लागत में अधिक उत्पादन के लिए आधुनिक कृषि यंत्रों की उपलब्धता बेहद आवश्यक है, सरकार ड्रोन जैसे कृषि उपकरणों पर अनुदान दे रही है, जिसमें कृषि प्रशिक्षण संस्थानों एवं कृषि विश्वविद्यालयों को ड्रोन की खरीद पर १०० % तक या १० लाख रुपये तक अनुदान दिया जायेगा। कृषि से स्नातक युवा, अनुसूचित जनजाति वर्ग एवं महिला किसान ५० % या ५ लाख रुपये तक अनुदान प्राप्त कर सकेंगे। कृषक उत्पादक संगठनों को ड्रोन की खरीद पर ७५ % तक अनुदान दिया जायेगा। इसके साथ ही अन्य किसानों को ४० % या ४ लाख रुपये तक सब्सिडी प्रदान की जाएगी। सरकार द्वारा भिन्न भिन्न वर्गों के लिए अनुदान का प्रतिशत भी भिन्न भिन्न है, हालाँकि सरकार अधिकतर किसानों को लाभान्वित करने के लिए पूरी योजना में है।

ड्रोन किसानों के लिए किस प्रकार उपयोगी है

किसान जिस भूमि में १ घंटे में जितना कीटनाशक छिड़काव कर पाते हैं, ड्रोन की सहायता से उतनी ही फसल में २० मिनट में छिड़काव कर सकते हैं। साथ ही किसानों को फसलीय कीड़े मकोड़ों से होने वाली क्षति से भी दूर रखा जा सकता है।

ये भी पढ़ें: इन ड्रोन को है भारत में उड़ाने की अनुमति : जानें डीजीसीए गाइडलाइन
आकस्मिक रूप से फसलों में कीट और रोगों के आने के बाद पूरी फसल में समयानुसार छिड़काव, किसानों के लिए चुनौतीपूर्ण साबित होता है, जिसमे ड्रोन उनकी इस समस्या के निराकरण के लिए बेहद सहायक होगा। ड्रोन की क्षमता कम समय में अधिक भूमि में बेहतर रूप से छिड़काव करने की है।

क्या किसान ड्रोन को अच्छी तरह से उपयोग कर पाएंगे

बदलते दौर में किसानों ने समयानुसार कृषि यंत्रों को सुचारु रूप से उपयोग में लाने का कार्य किया है एवं आधुनिक यंत्रों से उत्पादन में भी वृद्धि की है। धीरे धीरे किसान ड्रोन के उपयोग को बड़े स्तर पर कृषि उत्पादन में लाने का कार्य करेंगे। सरकार द्वारा दिये जा रहे अनुदान से किसानों को ड्रोन खरीदने और उपयोग में लाने का अवसर मिलेगा। परिणामस्वरूप इससे किसानों की आय में वृद्धि होगी और उत्पादन में निश्चित रूप से सहजता भी होगी।

श्रेणी