fbpx

आम की बागवानी से कमाई

0 1,109
Massey Ferguson 1035DI

आम भारत का राष्ट्रीय फल है। देश में इसका सर्वाधिक क्षेत्रफल उत्तर प्रदेश में पाया जाता है किंतु उत्पादन की दृष्टि से आंध्र प्रदेश ही श्रेष्ठ रहता है। रंग, सुगंध और स्वाद के मामले में आम देश ही नहीं विदेशों तक जाना पहचाना जाता है। यह विटामिन ए एवं बी के प्रचुर स्रोत है विटामिन ए नेत्रों एवं विटामिन बी शक्ति के स्रोत के रूप में काम आता है। कच्चे आम से अनेक प्रकार की चटनी, आचार, मुरब्बा, सिरप आदि का निर्माण किया जाता है। तरह के पेय पदार्थ बनाए जाते हैं। आम की बागवानी लाभकारी होने के कारण पूर्वांचल के और बुलंदशहर के कई इलाकों में बहुतायत में की जाती है।

आम की बागवानी के लिए मिट्टी पानी

आम की बागवानी हर तरह की मृदा में की जा सकती है लेकिन भूगर्भीय जल जिन इलाकों में सरी पाया जाता है | वहां इससे अच्छे फल की उम्मीद नहीं की जा सकती। इसकी श्रेष्ठ बढ़वार के लिए दो से ढाई मीटर मिट्टी की आवश्यकता होती है। आम के बाग 24 से 27 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान वाले इलाकों में अच्छे होते हैं। लेकिन 23.8-26. 6 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान को इसके लिए आदर्श तापमान माना जाता है। यानी ज्यादा गर्मी वाले इलाकों में इससे अच्छा उत्पादन नहीं मिलता।

आम की उन्नत किस्में

आम की उन्नत किस्में

आम की एक से बढ़कर एक किस्म तैयार हो चुकी है। कई किस्मों की मांग देश नहीं विदेशों तक होने लगी है।

दशहरी किस्म सबसे लोकप्रिय है। इसे 10 दिन तक सुरक्षित रखा जा सकता है। बनावट स्वाद सुगंध और रंग की दृष्टि से यह बेहद ही खूबसूरत लगता है।

दूसरी किस्म मुंबई हरा के नाम से जानी जाती है और यह है अगेती किस्म है। इसे माल्दा एवं सरोली भी कहते हैं। फल मध्यम आकार का अंडाकार, पकने पर भी हर अपन लिए हुए रहता है। इसे ज्यादा दिन तक सुरक्षित नहीं रखा जा सकता।

लंगड़ा भी दशहरे की तरह मध्य मौसम में पकने वाली किस्म है इससे दरभंगा रूह अफजा एवं हर दिल अजीत भी कहते हैं। 4 दिन की भंडारण क्षमता वाला यह आम बेहद मीठा होता है।

रटोल किस्म को भी अगेती माना जाता है। इसका फल भी छोटे आकार का होता है। उसका फल छोटे आकार का अंडाकार, सुगंधित एवं मीठा होता है।

चौसा पछेती किस्म है। इसे काजरी एवं खाजरी के नाम से भी जाना जाता है। 5 दिन की भंडारण क्षमता वाला यह आम आकार में बड़ा होता है।

फजरी किस्म का आम पछेती होता है यानी कि बाजार में इसके फल देर से आते हैं । इसे फजली भी कहते हैं। धारण क्षमता कम होती है।

राम अकेला भी देर से पकने वाली किस्म है इसका फल पकने के बाद भी खट्टापन लिए हुए रहता है। इसे अचार के लिए सर्वोत्तम किस्म माना जाता है।

आम्रपाली किस्म दशहरी एवं नीलम किस्मों के सहयोग से विकसित की गई है। यह मध्य मौसम की बोनी व नियमित फलत वाली किस्म है। इसका एक हेक्टेयर में बाग लगाने के लिए ढाई मीटर भाई ढाई मीटर पर पौधा लगाने पर 16 सौ पौधे लगाए जा सकते हैं।

मल्लिका किस्म नीलम एवं दशहरी के संयोग से विकसित हुई है। यह मध्यम मौसम की फसल है। यह नियमित रूप से चलने वाली मध्य मौसम की किस्में है। भंडारण क्षमता अधिक है किंतु फल कम लगते हैं। निर्यात के लिए इसके फलों को अच्छा माना जाता है।

सौरभ किस्म का आम दशहरी एवं फजरी जाफरानी के संयोग से विकसित किया गया है | यह मध्य मौसम की किस्म है।

गौरव किस्म के आम को दशहरी एवं तोता परी हैदराबादी किस्मों के क्रॉस से तैयार किया गया है।

राजीव कृष्ण के आम को दशहरे एवं रोमानी किस्मों के सहयोग से तैयार किया गया है यह जुलाई के तीसरे सप्ताह में जाकर पकती है ।फल मध्यम आकार के होते हैं।

कैसे लगाएं बाग

बाग लगाने के लिए मई से लेकर जून के महीने तक किस्म के अनुसार 11 से 13 मीटर की दूरी पर 1 वर्ग मीटर आकार के गड्ढे खोद देने चाहिए। कुछ दिन इन गड्ढों की मिट्टी को धूप में सूखने देना चाहिए ताकि मिट्टी में मौजूद कीट व अंडे समाप्त हो जाएं। गड्ढा खोदते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए की ऊपरी डेढ़ फीट मिट्टी बांई तरफ एवं नीचे की डेढ फीट मिट्टी दाईं तरफ डालनी चाहिए। हफ्ते 10 दिन मिट्टी को धूप लगने के बाद उसमें पर्याप्त सड़ी हुई गोबर की खाद मिलाकर आधी मिट्टी गड्ढे में भर देनी चाहिए। ध्यान रहे की गड्ढे में खुदाई के समय बाई तरफ डाली गई ऊपरी डेढ़ फीट मिट्टी ही डालनी चाहिए। ऊपरी मिट्टी को ही उपजाऊ माना जाता है। तत्पश्चात या तो एक दो बरसात होने का इंतजार करना चाहिए अन्यथा गड्ढे में एक दो बार पानी भरने के बाद पौधे लगा देनी चाहिए।

हम घरों में फल वृक्ष लगाते तो हैं लेकिन उनका पालन पोषण फसल की तरह से नहीं करते। नटू पौधों में पर्याप्त कम्पोस्ट डालते हैं और ना ही सुक्ष्म पोषक तत्वों का मिश्रण डालते हैं। हमें बागवानी के लिए समुचित रसायनों का प्रयोग करना चाहिए।

एक वर्ष के आम के पौधे के लिए 10 किलोग्राम कंपोस्ट 100 ग्राम नाइट्रोजन 50 ग्राम फास्फोरस सौ ग्राम पोटाश 25 ग्राम कॉपर सल्फेट एवं 25 ग्राम जिंक सल्फेट पहले साल में थाना बनाकर डालनी चाहिए। अगले साल से इस मात्रा को 10 साल तक बढ़ाकर दोगुना कर लेना चाहिए। पौधे को 5 साल का होने के बाद बोरेक्स का प्रयोग शुरु कर देना चाहिए ‌। पांच विशाल 100 ग्राम इसके बाद प्रतिवर्ष 50 ग्राम मात्रा बोरेक्स की बढ़ाती जाना चाहिए।

आम के कीट एवं रोगआम के कीट एवं रोग

  • आम को भुनगा कीट सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। उसके शरीर का आकार तिकोना होता है। इस कीट के नियंत्रण के लिए कीटनाशक का छिड़काव और आने और दो 3 इंच लंबा होने पर ही कर देना चाहिए। इसके 15-20 दिन बाद दूसरा छिड़काव करना चाहिए। इसकी को मारने के लिए किसी भी प्रभावशाली कीटनाशक का छिड़काव करना चाहिए इनमें मोनोक्रोटोफॉस, क्यूनालफास, डाईमेथोएट आदि शामिल हैं।
  • दूसरा कीट मैंगो मिलीबग यानी कढी कीट प्रभावित करता है। सफेद रंग का यह गीत शाखाओं का रस चूस लेते हैं इसके साथ ही एक चिपचिपा पदार्थ छोड़ते हैं जिस पर काली फफूंद उग आती है। बचाव के लिए दिसंबर माह में पौधों के छालों की बुराई करते समय मिथाइल पराथियान डस्ट 2% डेढ़ सौ से 200 ग्राम प्रति छाले मिला देनी चाहिए।
  • सिल्क कीट मुलायम टहनियों व पत्तियों की निचली सतह पर सैकड़ों की संख्या में चिपके रहते हैं पौधे और फल दोनों को प्रभावित करते हैं। नष्ट करने के लिए भी प्रभावी कीटनाशक का छिड़काव करना चाहिए।
  • आम को तना भेदक कीट से बचाने के लिए गिडार द्वारा तने में बनाए गए क्षेत्र में मोनोक्रोटोफॉस या डीडीवीपी का घोल छिड़ककर तने के छेद को गीली मिट्टी से बंद कर देना चाहिए।
  • शाखा भेधक कीट सबके लिए कार बोरवेल 50 डब्ल्यूपी 2 ग्राम प्रति लीटर पानी में बनाए घोल के 2-3 छिड़काव 15 से 20 दिन के अंतराल पर पौधों पर करना चाहिए।
  • आम के पौधों पर खर्रा यानी कि पाउड्री मिलड्यू का प्रभाव भी होता है। रोकथाम के लिए डायलॉग कैप 48 सीसी 1ml प्रति लीटर पानी में घोलकर या घुलनशील गंधक की 2 ग्राम मात्रा प्रति लीटर पानी की दर से घोल कर छिड़काव करना चाहिए। इसके अलावा कोयलिया, फल का आंतरिक सड़न, गोंद निकलने का रोग जैसी समस्याएं थी आम की फसल में रहती हैं। सभी रोगों का विशेषज्ञों की सलाह के बाद परीक्षण कराकर ही इलाज कराना चाहिए। इसके लिए हर ब्लाक स्तर पर स्थित कृषि रक्षा इकाई, जिला स्तर पर जिला कृषि अधिकारी एवं उप कृषि निदेशक तथा कृषि विज्ञान केंद्र के विशेषज्ञों के पास पौधों की संक्रमित टहनी ले जाकर रोग की पहचान और निदान कराना ज्यादा श्रेयस्कर रहेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

The maximum upload file size: 5 MB. You can upload: image, audio, document, interactive. Drop file here

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More