Ad

walnut

अखरोट में है अद्भुत स्वास्थ्य लाभ, सेहत के लिए है गुणकारी

अखरोट में है अद्भुत स्वास्थ्य लाभ, सेहत के लिए है गुणकारी

अखरोट के अंदर बेहद लाभकारी गुण पाए जाते है , जो की स्वास्थ्य की लिए फायदेमंद होते है। अखरोट के अंदर मैग्नेसियम , विटामिन बी और फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। साथ ही अखरोट को प्रोटीन का सबसे अच्छा श्रोत माना जाता है। अखरोट के अंदर अन्य तत्वों की तुलना में एएलए ओमेगा एसिड की मात्रा 3 फीसदी ज्यादा पायी जाती है। एएलए ओमेगा एसिड शरीर के अंदर एलडीएल कैलेस्ट्रोल को कम करता है और शरीर में स्वस्थ कैलेस्ट्रोल के स्तर को बनाये रखता है।  

अखरोट हृदय के लिए भी बेहद लाभकारी साबित हुआ है। ये रक्तचाप के स्तर को संतुलित बनाये रखता है ,और हृदय से जुडी परेशानियों को कम करता है। ये खून में जमने वाले थक्कों की स्तिथि को भी नियंत्रित करता है।  ये शरीर को एंटीऑक्सीडेंट भी प्रदान करता है। अखरोट सूजन को कम करने के साथ साथ वजन को भी कम करने में सहायक रहता है। 

अखरोट को ब्रेन फ़ूड के नाम से भी जाना जाता है , क्योंकि अखरोट देखने में बिलकुल दिमाग के जैसे दिखता है। रोजाना अखरोट का सेवन करने से दिमाग बेहतर तरीके से काम करता है। साथ ही अखरोट के अंदर प्रचुर मात्रा में कैलोरी पायी जाती है , इसीलिए इसका उपयोग संयम के साथ खाने के लिए कहा जाता है। 

आँत के स्वास्थ्य के लिए है बेहद फायदेमंद 

अखरोट में बहुत से पोषक तत्व ऐसे पाए जाते है , जिनके रोजाना आहार करने से आँतों में होने वाली सूजन और परेशानी को नियंत्रित किया जा सकता है। साथ ही ये पेट से जुडी परेशानियों में भी राहत प्रदान करता है। यह पाचन तंत्र को स्वस्थ और मजबूत बनाये रखता है। यह शरीर को अधिक मात्रा में पोषक तत्व भी प्रदान करता है। 

ये भी पढ़ें: अखरोट की फसल आपको कर देगी मालामाल जाने क्यों हो रही है ये खेती लोकप्रिय

याददाश्त को बेहतर मनाने में मदद करता है 

अखरोट का उपयोग याददाश्त को बेहतर बनाने के लिए भी किया जाता है। अखरोट के अंदर पाए जाने वाले तत्व तनाव को दूर करने के लिए किया जाता है। अखरोट का सेवन करने से दिमाग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ते है। अखरोट के अंदर विटामिन - इ , पॉलीअनसेचुरेटेड फैट पाया जाता है , जो मानसिक लचीलेपन और स्मृति जैसे कार्यो को बढ़ाने के लिए मददगार होते है। 

कैंसर रोग के लिए है उपयोगी 

अखरोट के अंदर पॉलीफिनोल तत्व पाया जाता है , जो कैंसर के रोग को नियंत्रित करने के लिए लाभकारी माना जाता है।  साथ ही शोध के अनुसार बताया गया है , यह कैंसर के ट्यूमर को भी शरीर के अंदर पनपने से रोकता है। अखरोट कैंसर की वजह से  शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों को भी कम करता है। 

हड्डियों के लिए है फायदेमंद 

अखरोट में कैल्शियम और फॉस्फोरस के साथ साथ अल्फा लिनोलेनिक एसिड भी पाया जाता है। यह एसिड हड्डियों को मजबूत बनाये रखता है। अखरोट हड्डियों में होने वाले ऑस्टियोपोरोसिस नामक रोग को भी प्रतिबंधित यानी रोकता है। अखरोट  हड्डियों में से आने वाली कट कट की आवाज को भी ख़त्म करता है और हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनाता है। 

ये भी पढ़ें: इस ड्राई फ्रूट की खेती से किसान कुछ समय में ही अच्छी आमदनी कर सकते हैं

साथ ही अखरोट में प्रचुर मात्रा में फाइबर भी पाया जाता है , जो की भूख को नियंत्रित कर वजन को कम करता है। अखरोट में कैलोरी और फैट भरपूर मात्रा में होने के बावजूद यह वजन कम करने में भी सहायक सिद्ध हुआ है। अखरोट में एंटी इंफ्लेमेट्री और एंटीऑक्सीडेंट गुण भी पाए जाते है , जो थकान और चिंता को भी कम करने में सहायक होते है। 

लो ब्लड प्रेशर में सहायक 

लो ब्लड प्रेशर की स्तिथि में व्यक्ति को चिड़चिड़ापन होना , चक्कर आना  आदि समस्याएं हो सकती है। साथ ही ब्लड प्रेशर के ज्यादा कम होने से व्यक्ति कोमा में भी जा सकता है।  इन सभी बीमारियों के लिए अखरोट का सेवन उचित माना जाता है। साथ ही ब्लड प्रेसर के बार बार घटने या बढ़ने से व्यक्ति को हृदय सम्बन्धी रोगों का भी सामना करना पड सकता है। 

अखरोट का तासीर गर्म होता है इसीलिए इसका सेवन सर्दियों के मुकाबले गर्मियों में कम करना चाहिए। अखरोट खाने से बहुत से फायदे होते है। कुछ लोगो द्वारा इसका सेवन सूखे मेवे के रूप में और कुछ लोगो द्वारा इन्हे भिगोकर किया जाता है। जिन लोगो को पित की पथरी की समस्या है, उनके लिए भी ये बेहद लाभकारी है। अखरोट का सेवन सुबह खाली पेट भी किया जा सकता है। 

ये भी पढ़ें: खुबानी तेल का व्यवसाय शुरू कर किसान लाखों की आय कर सकते हैं

हर किसी चीज के दो पहलू होते है, ऐसा ही नहीं अखरोट खाने से सिर्फ फायदे ही होते और कोई नुक्सान नहीं। अखरोट का अत्यधिक सेवन नुकसानदायक साबित हो सकता है। अखरोट का सेवन गर्मियों के समय में कम करें , क्योंकि अखरोट का तासीर गर्म होता है। साथ ही किसी गर्भवती महिला के लिए भी अखरोट का सेवन हानिकारक सिद्ध हो सकता है। इसीलिए डॉक्टर से परामर्श लेकर ही इसका उपयोग करें। साथ ही, अखरोट के छिलके में कई ऐसे तत्व पाए जाते है, जो त्वचा पर लाल रैसेज पैदा कर सकते है।

अखरोट की खेती कर किसानों को होगा बेहद मुनाफा

अखरोट की खेती कर किसानों को होगा बेहद मुनाफा

दोस्तों आज हम बात करेंगे अखरोट (अंग्रेजी: Walnut (वालनट), वैज्ञानिक नाम : Juglans Regia) की खेती की, अखरोट की खेती कर किसान बहुत ही ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं। क्योंकि अखरोट में बहुत सारे आवश्यक तत्व मौजूद होते हैं, जिसे लोग खाना पसंद करते हैं। अखरोट की फसल की अच्छी देखरेख कर किसान अपने आय के साधन को मजबूत कर सकते हैं। अखरोट की खेती से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारियों को हासिल करने के लिए हमारे इस पोस्ट के अंत तक जरूर बने रहें:

अखरोट की खेती

किसानों के लिए बागवानी फसलों में से ड्राई फ्रूट की फसलें ज्यादा मुनाफा देती है। ड्राई फ्रूट की खेतियो में अखरोट की खेती सबसे मुख्य मानी जाती है। साथ ही साथ यह फसल किसानों के लिए फायदेमंद होती है। मार्केट तथा बाजारों में अखरोट की मांग दिन प्रतिदिन और बढ़ती जा रही है। क्योंकि लोग अखरोट से तरह-तरह की स्वीट डिशेस बनाते हैं, तथा अखरोट का सेवन भी करते हैं, यहां तक कि लोगों ने अखरोट के तेल का भी इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। ऐसे में अखरोट की फसल एक बहुत महत्वपूर्ण फसल बनकर विकसित हो गई है। अखरोट की मांग न सिर्फ भारत देश अपितु अंतरराष्ट्रीय में भी तेजी से बढ़ती जा रही है। भारत देश में अखरोट का इस्तेमाल विभिन्न विभिन्न प्रकार की मिठाई बनाने तथा दवाओं के लिए भी इस्तेमाल किया जा रहा है। ना सिर्फ अंतरराष्ट्रीय बल्कि भारत देश में भी अखरोट का इस्तेमाल तेजी से हो रहा है। आयुर्वेद के क्षेत्र में अखरोट का इस्तेमाल तेजी से किया जा रहा है। ऐसे में आप अखरोट की फसल से किसानों को होने वाले मुनाफे का अंदाजा लगा सकते हैं। अखरोट की फसल किसानों के आय के साधन को मजबूत बनाने में सक्षम है। 

ये भी पढ़े: अंजीर के फायदे, अंजीर की खेती कैसे करे, उन्नत किस्में – पूरी जानकारी

अखरोट की खेती करने वाले क्षेत्र

पहले अखरोट की खेती मुख्य रूप से पहाड़ी क्षेत्रों में ही की जाती थी। परंतु अखरोट की बढ़ती मांग को देखते हुए, हमारे भारत देश  के कई राज्यों में भी इसकी खेती की शुरुआत हो चुकी है। किसान यदि अखरोट की फसल के लिए उन्नत किस्मो और कृषि वैज्ञानिकों के अंतर्गत खेती करते हैं, तो अखरोट की खेती से बेहद ही मुनाफा कमा सकते हैं, अखरोट की खेती के दौरान सही तरीकों का पालन करें जिससे फसल की उत्पादकता को और बढ़ावा मिल सके। अखरोट की खेती मुख्य रूप से जम्मू कश्मीर, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश आदि क्षेत्रों में की जाती है। लेकिन अखरोट की खेती का मुख्य क्षेत्र जम्मू कश्मीर को ही माना जाता है। अखरोट की फसल का मुख्य उत्पादन जम्मू कश्मीर में होता।

अखरोट की खेती करने के लिए भूमि का चयन

अखरोट की खेती करने के लिए किसान सर्वप्रथम गड्ढेदार भूमि का चयन करते हैं। अच्छी गहराई प्राप्त करने के बाद, हल द्वारा मिट्टी को पलटे। जुताई के कुछ दिनों बाद खेत को ऐसे ही खुला छोड़ देना चाहिए। उसके बाद रोटावेटर चलाकर जुताई करें। रोटावेटर द्वारा जुताई करने से भूमि के ढेले अच्छी तरह से भुरभुरी मिट्टी में परिवर्तित हो जाते हैं। 

अखरोट के पौधे लगाने का उपयुक्त समय

अखरोट के पौधे लगाने से पहले उन को अच्छी तरह से नर्सरी में देख रेख कर लेना उचित होता है। हमेशा अखरोट के स्वस्थ पौधे लगाएं ताकि उत्पादन अच्छा हो। अखरोट के पौधे लगाने का उपयुक्त समय दिसंबर से मार्च तक का होता है। सर्दियों का मौसम अखरोट के पौधे लगाने के लिए सबसे उचित समझा जाता है। कभी-कभी किसान बारिश के मौसम में भी अखरोट का पौधा रोपण करते हैं। परंतु कृषि विशेषज्ञों के अनुसार सर्दी का मौसम सबसे उचित होता है। 

अखरोट की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु

किसानों के अनुसार अखरोट की खेती के लिए समान प्रकार की जलवायु सबसे उपयुक्त मानी जाती है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार ज्यादा गर्मी और ज्यादा ठंड दोनों ही प्रकार की जलवायु अखरोट के पौधों के लिए हानिकारक होती है। ज्यादा पाला पढ़ने से अखरोट के पौधे प्रभावित होते हैं। जहां पर जलवायु समान हो उस क्षेत्र में अखरोट की खेती करनी चाहिए। ज्यादा बारिश का मौसम भी इसकी उत्पादकता को रोकता है। 

अखरोट की खेती के लिए उपयुक्त खाद और उर्वरक

अखरोट की खेती के लिए किसान सड़ी हुई गोबर की खाद का ही इस्तेमाल करते हैं। गोबर की सड़ी हुई खाद सबसे उत्तम मानी जाती है। उर्वरक के रूप में 25 ग्राम नाइट्रोजन तथा 50 ग्राम फास्फोरस, पोटाश की मात्रा 25 ग्राम, प्रति पेड़ के हिसाब से 20- 25 वर्षों तक देते रहना उचित होता है। 

अखरोट के पौधों की सिंचाई

अखरोट के पौधों की सिंचाई दो प्रकार से होती है। गर्मियों में अखरोट के पौधों को हर सप्ताह सिंचाई की आवश्यकता पड़ती है। वहीं दूसरी ओर सर्दियों और ज्यादा ठंडी के मौसम में 25 से 30 दिनों तक के बाद सिंचाई देना उचित होता है। ऐसा करने से अखरोट के पौधे अच्छी तरह से उत्पादन करते हैं और भारी मात्रा में विकसित होते हैं। अखरोट के पौधे उत्पादन करने के लिए लगभग 7 से 8 महीनों तक का समय लेते हैं। किसानों के अनुसार अखरोट के पौधे 4 साल बाद पौधे देने के लायक हो जाते हैं। विकसित होने के बाद या लगभग 25 से 30 साल तक फल देते रहते हैं। अच्छी सिंचाई और उचित जल निकास की व्यवस्था को बनाए रखना आवश्यक होता है। 

अखरोट की उन्नत किस्में

किसान अखरोट की अलग - अलग तरह की किस्मों को उगाते हैं या किस्मत कुछ इस प्रकार है जैसे:
  • अखरोट की पूसा किस्म

लोग अखरोट की पूसा किस्म को खाना ज्यादा पसंद करते हैं। 3 से 4 वर्षों में इसके फल आने शुरू हो जाते हैं इसकी ऊंचाई समान होती है।
  • अखरोट ओमेगा 3 किस्म

 अखरोट की ओमेगा 3 किस्म एक विदेशी किस्म है, इसमें लगभग 60% तेल की प्राप्ति होती है। अखरोट की यह किस्म ज्यादातर औषधि और दवाई बनाने के काम आती है। इसके पौधों की ऊंचाई अधिक होती है। हृदय रोगियों के लिए यह अखरोट उपयुक्त हैं।
  • अखरोट की कोटखाई सलेक्शन 1 किस्म

इनके पौधों की ऊंचाई समान होती है। इन के छिलके बहुत पतले और हल्के होते हैं। अखरोट की इस किस्म को हरा खाना स्वादिष्ट लगता हैं। अखरोट कि यह किस्म कम समय में ज्यादा उत्पादन करने वाली किस्म है।
  • अखरोट की लेक इंग्लिश किस्म

अखरोट की यह किस्म जम्मू और कश्मीर में ज्यादा उगाई जाती है। यह समय से फल देने वाली किस्म है, अखरोट की यह एक विदेशी किस्म है। इन पौधों की लंबाई अधिक होती है।

अखरोट में पाए जाने वाले आवश्यक तत्व:

अखरोट की फसल किसानों के लिए जितनी उपयोगी है, उतनी ही या स्वास्थ्य के लिए भी  महत्वपूर्ण है। अखरोट में विभिन्न विभिन्न तरह के आवश्यक तत्व मौजूद होते हैं, जिनसे हमारा शरीर स्वस्थ और कार्य करने युक्त सक्षम रहता है।

Walnut Fruit on tree 

By George Chernilevsky - Own work, Public Domain, https://commons.wikimedia.org/w/index.php?curid=7299223

अखरोट मे गिरी की मात्रा लगभग 14 पॉइंट 8 ग्राम प्रोटीन मौजूद होता है तथा 64 से 65 ग्राम वैसा होता है। वहीं दूसरी ओर इनमें कार्बोहाइड्रेट 15 पॉइंट 80 ग्राम तक मौजूद होता है और रेशा लगभग 2.1 ग्राम होता है, राख की मात्रा 1.9 होती है। अखरोट में कैल्शियम लगभग 99 मिलीग्राम होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाता है। फास्फोरस की मात्रा 380 ग्राम होती है। पोटेशियम 450 ग्राम होता है। अखरोट में कैलोरी ऊर्जा लगभग 390 से 392  तक की होती है। आधी मुट्ठी अखरोट में आप यह कैलोरी ऊर्जा को प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही साथ अखरोट में विटामिन ई और विटामिन बी दोनों विटामिंस का स्त्रोत मिलता है। कैल्शियम मिनेरल आपको अखरोट में पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। यह कुछ आवश्यक तत्व हैं जो अखरोट में मुख्य रूप से पाए जाते हैं, जिनसे हमारा शरीर तंदुरुस्त और स्वस्थ रहता है। 

ये भी पढ़े: ऐसे एक दर्जन फलों के बारे में जानिए, जो छत और बालकनी में लगाने पर देंगे पूरा आनंद

अखरोट का पेड़ कैसा होता है ?

अखरोट का पेड़ दिखने में बहुत ही खूबसूरत लगता है। अखरोट के गुच्छे हर टहनियों पर लगे होते हैं। साथ ही साथ अखरोट के पेड़ की सुगंध  दूर दूर तक फैली हुई रहती है। अखरोट की छालों का रंग काला होता है जो दूर से ही खूबसूरत दिखता है। अंग्रेजी में अखरोट को वालनट (Walnut) के नाम से जाना जाता है। 

अखरोट की उपयोगिता

अखरोट का इस्तेमाल मेवा के रूप में किया जाता है, यह एक सूखा मेवा है। ज्यादातर लोग इसे ऐसे ही सूखा खाना पसंद करते हैं। यदि बात करें अखरोट के बाहरी या ऊपरी हिस्से की, तो यह बहुत ही सख्त होता है। सख्त होने के साथ यह काफी कठोर भी होता है। आप अखरोट को तोड़ते हैं, तो अंदर का हिस्सा आपको मानव मस्तिष्क की तरह दिखाई देगा। 

अखरोट यानि वालनट By Ivar Leidus - Own work, CC BY-SA 4.0, https://commons.wikimedia.org/w/index.php?curid=98723321


अखरोट का उपयोग कुछ इस निम्न प्रकार से किया जाता है:

  • अखरोट की उपयोगिता ज्यादातर मिठाइयों की दुकान में होती है और लोग अधिकतर अखरोट की गिरी का इस्तेमाल करते हैं।
  • दिमाग की तरह दिखने वाला यह मेवा असल मायने में दिमाग की सोचने और समझने की शक्ति को बढ़ाता है।
  • बच्चों के लिए अखरोट बेहद ही उपयोगी है, अखरोट के सेवन से बच्चों को पढ़ाई लिखाई करने में सहायता मिलती है।
  • गिरते और झड़ते बालों के लिए अखरोट बेहद ही जरूरी होता है। अखरोट खाने से बालों में मजबूती तथा घना पन बना रहता है।
  • अखरोट का इस्तेमाल साबुन, तेल, वार्निश आदि के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।
  • त्वचा को चमकदार और स्वस्थ रखने के लिए भी अखरोट का इस्तेमाल किया जा रहा है।
ये भी पढ़े: खुबानी (रेड बोलेरो एप्रिकॉट) Red Bolero Apricot ki Kheti ki jaankari Hindi mein 

दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल 'अखरोट की खेती कर किसानों को होगा बेहद मुनाफा' पसंद आया होगा। हमारे इस आर्टिकल में अखरोट से जुड़े सभी प्रकार की आवश्यक और महत्वपूर्ण जानकारियां दी हुई है, जो आपके बहुत काम आ सकती हैं। आगे किसी भी प्रकार की अन्य जानकारियों को प्राप्त करने के लिए हमसे संपर्क करें। यदि आप हमारी दी हुई सभी जानकारियों से संतुष्ट हैं, हमारे इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर शेयर करें। धन्यवाद।

अखरोट की फसल आपको कर देगी मालामाल जाने क्यों हो रही है ये खेती लोकप्रिय

अखरोट की फसल आपको कर देगी मालामाल जाने क्यों हो रही है ये खेती लोकप्रिय

भारत में जब भी हम कृषि का नाम सुनते हैं, तो सबसे पहले दो ही फसलों के नाम हमारे दिमाग में आते हैं, और वह हैं धान और गेहूं की फसल। लेकिन अब समय और मांग बदलने के अनुसार किसानों को भी खेत में अलग-अलग तरह की फसल लगाने के बारे में सोचना चाहिए। ऐसी ही एक खेती है, ड्राई फ्रूट की खेती ड्राई फ्रूट की मार्केट में काफी मांग है और ऐसे में अगर आप अखरोट की खेती करते हैं, तो आप अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं। मुनाफा व्यंजन बनाने के काम आता है और साथ ही इससे तेल भी निकाला जा सकता है। इस तरह से किसान अखरोट की खेती करते हुए लाखों की कमाई कर सकते हैं।

अखरोट की खेती के लिए सही वातावरण

अखरोट की खेती के बारे में एक बात जो बहुत अच्छी है, वह है कि इसे ठंडे और गर्म दोनों ही तापमान में उगाया जा सकता है। उचित तापमान की बात की जाए तो 20 डिग्री से 25 डिग्री का तापमान इसके लिए एकदम सही है। अगर आप इस तापमान में अखरोट की खेती कर रहे हैं, तो आपको अच्छा खासा मुनाफा होने की संभावना है। बस इसकी खेती करते समय आपको एक बात ध्यान में रखने की जरूरत है, कि जब भी आप अखरोट के पौधे लगाते हैं, तो वहां पर आपको जल निकासी की सुविधा का अच्छी तरह से ध्यान रखना पड़ेगा।

अखरोट के पोषक तत्व

अखरोट की गिरी में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, फैट और कार्बोहाइड्रेट होता है, इनमें कैल्शियम, फास्फोरस और पोटेशियम जैसे कई अन्य पोषक तत्व भी होते हैं। आधा मुट्ठी अखरोट में 392 कैलोरी एनर्जी, 9 ग्राम प्रोटीन, 39 ग्राम फैट और 8 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है। इस भोजन में कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इसमें पर्याप्त विटामिन ई और बी 6, कैल्शियम और खनिज भी हैं।


ये भी पढ़ें:
पौधे को देखकर पता लगाएं किस पोषक तत्व की है कमी, वैज्ञानिकों के नए निर्देश

भारत में कहां-कहां की जाती है अखरोट की खेती

अखरोट उत्तर पश्चिमी हिमालय में उगाए जाने वाला एक फल है, और अखरोट की खेती मुख्य रूप से भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में ही की जाती है। अगर बात की जाए तो अभी अखरोट की खेती जम्मू-कश्मीर, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तरांचल और अरुणाचल प्रदेश में होती है। अखरोट का प्रमुख उत्पादन जम्मू और कश्मीर में किया जाता है।

कितने समय में होगी फसल तैयार

अखरोट के पेड़ फल देने में थोड़ा समय लेते हैं, उन्हें फसलों का उत्पादन शुरू करने में लगभग 4 साल लगते हैं। अखरोट की सर्वोत्तम फसल प्राप्त करने के लिए, आपको तब तक प्रतीक्षा करनी चाहिए जब तक कि अखरोट के फल की ऊपरी परत फटने न लगे। जब अखरोट पक जाते हैं, तो उनके छिलके फट कर गिरने लगते हैं। जब किसी पौधे पर लगभग 20% फल गिर जाते हैं, तो आप पौधे से बचे हुए फलों को निकालने में मदद के लिए एक लंबे बाँस का उपयोग कर सकते हैं। गिरे हुए फलों को अखरोट के पेड़ के नीचे इकट्ठा करके पौधे की पत्तियों से ढक देना चाहिए। इस तरह से अगर आप आज के समय में मांग के हिसाब से मुनाफा कमाना चाहते हैं, तो आपको अपने पहले के तरीकों को बदलकर आजकल के तरीकों को अपनाकर खेती करने की जरूरत है।
इस ड्राई फ्रूट की खेती से किसान कुछ समय में ही अच्छी आमदनी कर सकते हैं

इस ड्राई फ्रूट की खेती से किसान कुछ समय में ही अच्छी आमदनी कर सकते हैं

अखरोट एक उम्दा किस्म का ड्राई फ्रूट है। जब हम ड्राई फ्रूट्स की बात करते हैं, तो अखरोट का नाम सामने ना आए ऐसा हो ही नहीं सकता है। साथ ही, अमेरिका अखरोट निर्यात के मामले में विश्व के अंदर प्रथम स्थान रखता है। हालांकि, चीन अखरोट का सर्वाधिक उत्पादक देश है। बतादें, कि अखरोट के माध्यम से स्याही, तेल और औषधि तैयार की जाती हैं। भारत के विभिन्न राज्यों में ड्राई फ्रूट्स की खेती की जाती है। परंतु, इसकी खेती पहाड़ी क्षेत्रों में अधिकांश होती है। ड्राई फ्रूट्स की मांग तो वर्षों से होती आई है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स के सेवन से शरीर को प्रचूर मात्रा में विटामिन्स और पोषक तत्वों की आपूर्ति होती है। साथ ही, इसकी कीमत भी काफी ज्यादा होती है। ऐसे में यदि किसान भाई ड्राई फ्रूट्स का उत्पादन करते हैं, तो वह कम वक्त में ही मालामाल हो सकते हैं। हालाँकि, ड्राई फ्रूट्स संतरा, अंगूर और सेब जैसे फलों की तुलना में महंगा बेचा जाता है। साथ ही, इसको दीर्घ काल तक भंड़ारित कर के रखा जा सकता है। यह मौसमी फलों के जैसे शीघ्र खराब नहीं होता है।

भारत में कितने ड्राई फ्रूट्स का उत्पादन किया जाता है

दरअसल, भारत में अंजीर, काजू, पिस्ता, खजूर, बादाम, अखरोट, छुहारा और सुपारी समेत विभिन्न प्रकार के ड्राई फ्रूट्स की खेती की जाती है। परंतु, अखरोट की बात तो बिल्कुल अलग है। पहाड़ी क्षेत्रों में इसका उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है। जम्मू- कश्मीर भारत में इसका सर्वोच्च उत्पादक राज्य है। अखरोट की भारत समेत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भी काफी मांग है। इसकी खेती करने हेतु सर्द और गर्म, दोनों प्रकार की जलवायु अनुकूल मानी जाती है। परंतु, 20 से 25 डिग्री तक का तापमान इसके उत्पादन हेतु काफी अच्छा माना जाता है। ये भी पढ़े: अखरोट की फसल आपको कर देगी मालामाल जाने क्यों हो रही है ये खेती लोकप्रिय

अखरोट के पेड़ की ऊंचाई कितने फीट रहती है

बतादें, कि अखरोट की रोपाई करने से एक वर्ष पूर्व ही इसके पौधों को नर्सरी में तैयार किया जाता है। विशेष बात यह है, कि नर्सरी में ग्राफ्टिंग विधि के माध्यम से इसके पौधे तैयार किए जाते हैं। बतादें, कि 2 से 3 माह में नर्सरी में पौधे तैयार हो जाते हैं। अगर आप चाहें तो दिसंबर अथवा जनवरी माह में अखरोट के पौधों को खेत में रोपा जा सकता है। जम्मू- कश्मीर के उपरांत उत्तराखंड एवं हिमाचल प्रदेश में भी सबसे ज्यादा अखरोट की खेती की जाती है। बतादें, कि इसके पेड़ की ऊंचाई लगभग 40 से 90 फीट तक हो सकती है।

यह ज्यादातर 35 डिग्री एवं न्यूनतम 5 डिग्री तक तापमान सह सकता है

अखरोट को सूखे मेवा बतौर भी उपयोग किया जाता है। अमेरिका अखरोट का सर्वोच्च निर्यातक देश है। हालांकि, चीन अखरोट का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। आपकी जानकारी के लिए बतादें कि अखरोट के माध्यम से स्याही, औषधि और तेल तैयार किया जाता है। ऐसी स्थिति में किसान भाई इसका उत्पादन कर बेहतरीन आमदनी कर सकते हैं। परंतु, इसका उत्पादन उस भूमि पर संभव नहीं है, जहां जलभराव की स्थित हो। साथ ही, अखोरट का उत्पादन के लिए मृदा का पीएच मान 5 से 7 के मध्य उपयुक्त माना गया है। अखरोट को ज्यादातर 35 डिग्री एवं न्यूनतम 5 डिग्री तक तापमान सहन कर सकता है। अखरोट के एक वृक्ष से 40 किलो तक उत्पादन हांसिल किया जा सकता है। बाजार में अखरोट की कीमत सदैव 700 से 1000 रुपये के दरमियान रहती है। आप ऐसी स्थिति में अखरोट के एक पेड़ के जरिए न्यूनतम 28000 रुपये की आमदनी की जा सकती है।