बकरी बैंक योजना ग्रामीण महिलाओं के लिये वरदान 

0

भारत देश में कृषि और पशुपालन एक दुसरे के पूरक रहे हैं. हमारे ज्यादातर किसान भाई-बहन खेती के साथ-साथ पशुपालन भी करते हैं. ज्यादातर घरेलु या छोटे स्तर पर पशुपालन के कार्य को महिलाएं कुशलता के साथ संभाल रही हैं.

ग्रामीण इलाकों में लगभग हर छोटे और मध्यम किसानों के घर में बकरी पालन किया जाता है, क्योंकि इसमें खर्च कम और मुनाफा अधिक होता है. बकरी के लिये आहार की उपलब्धता भी आसान है, वहीं खर्च भी कम होता है. बकरी पालन के लिये किसी बड़ी तकनीक की भी जरूरत नहीं होती है. कोई भी किसान आसानी से बकरी पालन कर लाभ कमा सकता है. इसीको देखते हुए ग्रामीण महिलाओं के उत्थान के लिय महाराष्ट्र सरकार की तरफ से बकरी पालन पर योजना चलाई जा रही है, जिसका नाम बकरी बैंक योजना है.  इस योजना में महिलाओं को बकरी पालने के लिए कम मूल्य पर बकरी उपलब्ध करवाई जाएगी. यही नहीं सरकार के इस बकरी पालन योजना में महिलाओं को बकरी पालन का उचित प्रशिक्षण भी दिया जाएगा.

ये भी पढ़े: कोरोना मरीजों पर कितना कारगर होगा बकरी का दूध

बकरी बैंक योजना का उद्देश्य

बकरी बैंक योजना का उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाना है. इससे बकरी पालन के व्यवसाय को बढ़ावा मिलेगा और इस व्यवसाय से महिलाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार आयेगी. अमूमन देखा जाता है कि ग्रामीण महिलाएं अपने घर आंगन में बकरी पालती हैं. लेकिन आबकारी खरीदने के लिये धनाभाव होता है, जिसके कारण चाह के भी वो बकरी नहीं पाल सकती हैं. इस योजना के तहत वैसी महिलाओं को बकरी उपलब्ध कराई जायेंगी, जिससे वो घर में रहते हुये बकरी पाल सकेंगी और इससे वे आर्थिक रूप से स्वावलंबी होंगी और उन्हें रोजगार भी उपलब्ध हो सकेगा. सबसे बड़ी बात यह है की बकरी के लिये महिलाओं को आसानी से चारा उपलब्ध हो जाता है और बीमा तथा टीकाकरण का खर्च भी सरकारी स्तर पर उठाया जायेगा.

ये भी पढ़ें: बकरी पालन और नवजात मेमने की देखभाल में रखे यह सावधानियां (goat rearing and newborn lamb care) in Hindi

कैसे मिलेगा महिलाओं को बकरी बैंक योजना का

बकरी बैंक योजना का लाभ लेने के लिए महिलाओं को किसी भी नजदीकी सरकारी बैंक में जाकर आवेदन करना होगा. बकरी बैंक योजना के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को 2 हजार रुपए में एक गर्भवती बकरी उपलब्ध कराई जाएगी. इसके लिए लाभार्थी महिलाओं को बैंक में 2 हजार रुपए और साथ ही जितने बकरी के बच्चें होंगे उसमें से एक बच्चा बैंक को देना होगा. इस प्रक्रिया के पूरा हो जाने के बाद बकरी महिलाओं के नाम कर दी जाएगी. बकरी बैंक योजना के तहत बकरी का बीमा और उनके लिए टीकाकरण का खर्च भी बैंक द्वारा वहां किया जायेगा.

ये भी पढ़ें: भेड़, बकरी, सुअर और मुर्गी पालन के लिए मिलेगी 50% सब्सिडी, जानिए पूरी जानकारी

बकरी बैंक योजना में निशुल्क होगा पंजीकरण

सरकार के इस योजना का लाभ उठाने के लिये इच्छुक महिलाओं को इसके लिए 1200 रुपए का पंजीकरण शुल्क देना होगा. इसके बाद बकरी के लिये ऋण के नियमों के तहत महिलाओं को बकरी उपलब्ध कराई जायेगी.

बैंक नियमानुसार, 40 महीने के समय के अंदर योजना के तहत बकरी प्राप्त करने वाली महिलाओं को 4 बकरी के बच्चे बैंक को देने होंगे. इसके बाद ही बकरी पर महिला का पूर्ण अधिकार होगा. इसके पूर्व बकरी बैंक की ही मानी जाएगी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More