fbpx

जानिए कैसे की जाती है धनिया की खेती? ये किस्में देंगी अधिक उत्पादन

0 961

किसान भाइयों हमेशा आपको अपनी लागत के मुकाबले कम ही लाभ मिल पाता है, ऐसे में आप किसी भी फसल का उत्पादन करने से पहले इससे जुड़ी थोड़ी जानकारी प्राप्त कर ले ताकि आप इसका भरपूर लाभ उठा सके। आप चाहे तो धनिया की खेती करके कम लागत में अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। धनिया के बगैर भारतीय भोजन अधूरा माना जाता है। यह एक बहुत उपयोगी मसाला है जिसका उपयोग भारत की लगभग हर रसोई में किया जाता है। धनिया का इस्तेमाल खाने को सुगंधित बनाने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी बनाता है। कुछ लोग धनिया की चटनी का भी सेवन करते हैं जो काफी स्वादिष्ट होती है। ऐसे में धनिया की मार्केट में भी अधिक मांग है। बता दें, धनिया की खेती मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पंजाब, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में सबसे ज्यादा की जाती है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि, आप धनिया की खेती किस तरह से कर सकते हैं और धनिया की खेती करने के क्या फायदे हैं।

धनिया का परिचय

बता दें, विश्व भर में भारत देश को ‘मसालों की भूमि’ के नाम से पहचाना जाता है। ऐसे में धनिया भी एक मसाला है जिसकी मांग दुनिया भर में है। धनिया के बीज औषधीय गुण के रूप में भी जाने जाते हैं। धनिया के बीज और पत्तियां भोजन को स्वादिष्ट और सुगंधित बनाने का काम करती है।

धनिया की खेती करने के लिए सही जगह

धनिया की खेती

धनिया की खेती करना काफी सरल है क्योंकि यह किसी भी मिट्टी में पैदा हो सकता है। यदि खेती में जैविक खाद का उपयोग किया जाता है तो ऐसे में दोमट भूमि धनिया के लिए अच्छी मानी जाती है। वहीं असिंचित फसल के लिए काली मिट्टी भी सही रहती है। बता दे, धनिया लवणीय और क्षारीय मिट्टी भूमि को सहन नहीं कर पाता है। ऐसे में आप अच्छे जल निकास एवं उर्वरा शक्ति वाली भूमि का इस्तेमाल करें।

धनिया की बुवाई के लिए करें भूमि की सही तैयारी

धनिया की अच्छी पैदावार के लिए आपको सबसे पहले भूमि की अच्छी तैयारी करनी चाहिए। बता दें, अच्छी फसल के लिए आप जुताई से पहले 5-10 टन प्रति हेक्टेयर गोबर की खाद खेत में डालें। आप चाहे तो 5-5 मीटर की क्यारियां बना लें, ऐसा करने से बीज में पानी देने में आसानी होगी। साथ ही निराई-गुड़ाई करने में भी आसानी होगी।

धनिया की खेती करने के लिए जलवायु 

धनिया की खेती शुष्क और ठंडे मौसम में अच्छी मानी जाती है। इसके अलावा बीज को अंकुरित करने के लिए 25-26 सेंटीग्रेड तापमान सही होता है। बता दें, धनिया शीतोष्ण जलवायु की फसल होती है जिसके कारण फूल और दाना बनने की अवस्था पर पाला रहित मौसम की जरूरत होती है। दरअसल पाला से धनिया को नुकसान हो सकता है ऐसे में आप पाला रहित धनिया की खेती करें। अच्छी गुणवत्ता वाले धनिया को प्राप्त करने के लिए ठंडी जलवायु और तेज धूप साथ ही समुद्र से अधिक ऊंचाई भूमि की जरूरत होती है।

कितने होते हैं धनिया बीज के प्रकार?

  • हिसार आनंद

इस बीज में कई शाखाएं निकलती है और यह अधिक झाड़ियों का निर्माण करता है। यह थोड़ी मध्यम पछेती किस्म है। इसके पौधे के तने का रंग हल्का बैंगनी होता है हालांकि बदलते समय के अनुसार इसके पत्ते और बीज के रंग में हल्का परिवर्तन हो जाता है। इसके गुच्छे थोड़े मोटे दाने वाले होते हैं और दाने का रंग भूरा और हरा होता है। यह बीज अधिक उपज देने वाला बीज है।

  • पंत हरितमा

इस किस्म के बीज के पौधे नीचे जमीन में फैले रहते हैं। इसके दानों का आकार छोटा और रंग भूरा होता है। इस किस्म की सबसे खास बात यह है कि, इसके उपज में दो कटाई की जा सकती हैं। इसके अलावा इस बीज की पैदावार भी अधिक होती है।

  • नारनौल सलेक्शन

इस किस्म के बीज की भी अधिक शाखाएं होती है। इस किस्म के धनिया के दाने बाकी किस्म से थोड़े बड़े आकार के होते हैं और इनका रंग हल्का भूरा होता है। यह किस्म कम समय में धनिया की अधिक उपज देती है।

धनिया बोने की सही प्रक्रिया

जानिए कैसे की जाती है धनिया की खेती: ये किस्में देंगी अधिक उत्पादन और मनचाहा मिलेगा मुनाफा

  • धनिया की फसल रबी मौसम में की जाती है।
  • धनिया की फसल करने के लिए सबसे अच्छा समय 15 अक्टूबर से 15 नवंबर तक का है।
  • धनिया की हरी पत्तियों की फसल करने के लिए अक्टूबर से दिसंबर का समय सबसे सही है, जबकि इसके दाने की फसल के लिए सबसे सही समय नवंबर का प्रथम सप्ताह है।
  • इसके अलावा पाला से बचाने के लिए धनिया को नवंबर के द्वितीय सप्ताह में बोना सबसे सही समय है।

धनिया बीज की मात्रा

धनिया की अच्छी फसल प्राप्त करने के लिए आपको करीब 15 से 20 किलोग्राम बीज पर्याप्त होता है। धनिया को बोने से पहले इसके बीज यानी दानों को दो भागों में तोड़ लेना चाहिए। तोड़ने के वक्त ध्यान दें कि, बीज का अंकुरण भाग नष्ट न हो। अच्छी फसल की पैदावार करने के लिए बीज को करीब 12 से 24 घंटे पानी में भिगोकर रख दें और इसे कुछ देर धूप में सुखाएं। अच्छी तरह बीज सूखने पर इसकी मिट्टी में बुवाई करें।

धनिया की सिंचाई करने के लिए सही प्रक्रिया

  • धनिया की बुवाई करने के दसवें दिन सबसे पहले पानी और जैविक खाद डालते हैं।
  • इसके बाद दूसरा पानी करीब 20 दिन के आसपास डाला जाता है, इसके साथ ही आप 35 से 40 किलो डीएपी डाल सकते हैं।
  • यदि तापमान स्तर कम है तो आप 25 दिन के अंदर 250 से 300 ग्राम यूरिया का छिड़काव कर दें।
  • बता दें, 16 लीटर पानी में 100 ग्राम यूरिया डाला जाता है और बीघे भर की जमीन में तीन टंकी का छिड़काव करें, इससे धनिया की उपज में लाभ होगा।
  • यदि गर्मी बहुत तेज है तो आप हफ्ते में दो बार धनिया की फसल में पानी दे।
  • आप जिस दिन भी धनिया की बुवाई करें इसके ठीक 20 दिन बाद इसका बीज मिट्टी से बाहर आता है।

कैसे करें धनिया का खरपतवार से बचाव?

  • धनिया के साथ-साथ उगे खरपतवार इसके ऊपर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं जिससे धनिया की सही पैदावार नहीं हो पाती है।
  • धनिया की सही और अधिक उपज के लिए आप समय-समय पर इसकी निराई-गुड़ाई करते रहे।
  • धनिया की बुवाई के करीब 40 दिन बाद पौधे जब 7 से 8 सेंटीमीटर ऊंचे हो जाए तब इसकी निराई-गुड़ाई कर दें।
  • निराई -गुड़ाई करने से धनिया के साथ उगा हुआ खरपतवार आसानी से निकल जाता है और धनिया पूरी तरह से सुरक्षित रहता है।
  • धनिया की बुवाई पंक्तियों के रूप में करें।
  • इसके अलावा बीज को मिट्टी में 2 से 4 सेंटीमीटर तक ही रखें, यदि आप इसको अधिक गहराई में बोते हैं तो इसका सही तरह से अंकुरण नहीं होता है और यह जमीन के अंदर ही सड़ जाता है।

कब करें धनिया की फसल की कटाई?

धनिया की कटाई तब की जाती है जब इसकी पत्तियां पीली और इसके बीज यानी कि डोडी का रंग थोड़ा चमकीला भूरा या पीला होने लगे। ध्यान रखें कि, इसके दानों में लगभग 18% नमी हो, इसी दौरान फसल कटाई करने से बीज अच्छा रहता है। दरअसल नमी के कारण बीज झड़ता नहीं है और यह आसानी से कट जाता है। यदि आप धनिया की फसल की कटाई समय पर नहीं करते हैं तो इसके दानों का रंग खराब होने लगता है, ऐसे में आप समय पर ही इसकी कटाई कर ले। धनिया की कटाई करने के बाद आप इसके छोटे-छोटे बंडल बना दें और इन बंडलो को आप 1 से 2 दिन खेत में ही खुली धूप में सुखाएं।

कितनी होती है धनिया की पैदावार?

धनिया की पैदावार आपकी सही देखभाल, किस्म और मौसम के ऊपर निर्भर करती है। यदि आप अच्छी किस्म के धनिया का उत्पादन करते हैं तो आप इसमें अधिक लाभ कमा सकते हैं। जबकि धनिया की खेती वैज्ञानिक तकनीक से करते हैं तो सिंचित फसल से लगभग आपको 15 से 20 क्विंटल बीज प्राप्त होगा जबकि असिंचित फसल से 7 से 9 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त हो सकती हैं।

 धनिया की फसल से कितना मिलेगा लाभ?

धनिया की फसल एक ऐसी फसल है जिससे आप अपने अनुसार लाभ कमा सकते हैं। आप चाहे तो सूखा धनिया मंडी में बेचकर इससे मुनाफा कमा सकते हैं। इसके अलावा आप चाहे तो इसका पाउडर भी मार्केट में बेच सकते हैं। बता दें यदि आपके द्वारा पैदा किए गए धनिया की क्वालिटी अच्छी है तो शुद्ध धनिया पाउडर खरीदने के लिए कोई भी व्यक्ति एडवांस तक देने के लिए तैयार रहता है। ऐसे में आप होलसेल या रिटेल में भी इसको बेचकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं। यदि आप धनिया की हरी पत्तियों की बिक्री करते हैं तो इससे भी आप मनचाही इनकम कर सकते हैं। हरे धनिया की बिक्री एक नकदी फसल होगी जिसे आपको हाथों-हाथ लाभ प्राप्त होगा। आप चाहे तो धनिया की बिक्री ऑनलाइन के माध्यम से भी कर सकते हैं। ऑनलाइन के माध्यम से धनिया की बिक्री करने से आप कम समय में अधिक से अधिक लोगों से जुड़ पाएंगे। यदि आप धनिया को ऑनलाइन बेचना चाहते हैं तो फ्लिपकार्ट, बिग बास्केट, अमेज़न और इंडियामार्ट जैसी कंपनी से संपर्क करके इनसे डील कर सकते हैं। आप ऑनलाइन के माध्यम से कम समय में अपनी फसल को अधिक लोगों तक पहुंचा पाएंगे।

 

 

 

 

 

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

The maximum upload file size: 5 MB. You can upload: image, audio, document, interactive. Drop file here

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More