ग्रीष्मकाल में इस प्रकार से करें जायद मूंग की खेती, होगा बंपर उत्पादन

Published on: 30-Mar-2023

मूंग एक ऐसी फसल है जो खरीफ के साथ-साथ जायद में भी उगाई जाती है। इसे जायद या ग्रीष्मकालीन मूंग कहा जाता है। गर्मियों के समय में भी किसान मूंग की खेती करके अच्छी खासी आमदनी प्राप्त कर सकते हैं। अगर पिछले कुछ सालों की बात करें तो ग्रीष्मकाल में बुवाई के लिए मूंग की कई प्रकार की प्रजातियां विकसित की गई हैं। जिनमें भीषण गर्मी को सहन करने की क्षमता के साथ-साथ प्रमुख रोगों और कीटों से लड़ने के क्षमता भी विकसित की गई है। ये किस्में शीघ्र पकने वाली होती है तथा इनकी फलियां भी दूसरी किस्मों के मुकाबले बड़ी होती हैं। ये किस्में परंपरागत प्रजातियों की अपेक्षा 20% तक ज्यादा उत्पादन दे सकती हैं।

ग्रीष्मकाल में जायद मूंग की खेती

जायद मूंग की खेती के लिए इस प्रकार से करें खेत की तैयारी

रबी की खेती के बाद खेत में पड़ी नरवाई को आग न लगाएं। कटाई के ठीक बाद ट्रैक्टर की सहायता से रोटावेटर को तीन से चार बार तक खेत में चलाएं। इससे नरवाई पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी। इसके बाद खेत को 2 से 3 बार जुताई करें और जुताई के साथ ही पाटा का प्रयोग अवश्य करें। खेत में नमी से प्रबंधन के उपाय करें ताकि खेत पूरी तरह से सूखने न पाए और खेत की मिट्टी में नमी बरकरार रहे। जब मिट्टी भुरभुरी दिखने लगे तब खेत बुवाई के लिए तैयार है।

इस प्रकार से करें बीज की उन्नत किस्मों का चयन

वैसे तो बाजर में जायद मूंग की खेती के लिए बहुत सारी किस्में उपलब्ध हैं, लेकिन इस मौसम में बुवाई के लिए पूसा बैशाखी, पूसा विशाल, आई.पी.एम.  205-7 (विराट), एम.एच. 421, आई.पी.एम. 410-3 (शिखा), पी.डी.एम. 139 (सम्राट) किस्में ज्यादा अच्छी मानी जाती हैं। गर्मियों के समय मूंग की बुवाई के लिए एक हेक्टेयर में 30 किलोग्राम बीज पर्याप्त होता है। इसी अनुपात से बुवाई के लिए बीज तैयार कर लें।

ऐसे करें मूंग की बुवाई

ग्रीष्मकालीन मूंग की बुवाई मार्च के पहले सप्ताह से 15 अप्रैल के बीच की जाती है। इसकी खेती वहीं की जाती है जहां सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था हो। रबी की फसल के पकने के बाद 70 से 80 दिनों में पकने वाली मूंग की प्रजातियों की बुवाई की जा सकती है। इसके साथ ही जहां रबी की फसल देर से आई है वहां 60 से 65 दिनों में पकने वाली मूंग की किस्मों की बुआई किसान भाई बेहद आसानी से कर सकतें हैं। मध्य प्रदेश में नर्मदा घाटी के आसपास मूंग की बुवाई 31 मार्च तक कर देनी चाहिए। यह इस क्षेत्र में इसकी खेती के लिए बेहद उपयुक्त समय है। ये भी पढ़े: केंद्र सरकार की मूंग सहित इन फसलों की खरीद को हरी झंडी, खरीद हुई शुरू

इस प्रकार से करें खाद एवं उर्वरक प्रबंधन

फसल में खाद एवं उर्वरक के प्रयोग से पहले मिट्टी की जांच जरूर करवा लें। बुवाई के समय नाइट्रोजन, फास्फोरस व पोटाश का प्रयोग किया जा सकता है। इसके साथ ही उत्पादन बढ़ाने के लिए राइजोबियम जैविक उर्वरक का भी प्रयोग किसान भाई कर सकते हैं। इसके प्रयोग से उत्पादन में लगभग 15% की वृद्धि हो सकती है। मूंग में उत्पादन लागत को कम करने के लिए फास्फेट घुलनशील जीवाणु का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसकी सहायता से मृदा में उपस्थित अघुलनशील फास्फोरस की उपलब्धता को बढ़ाया जा सकता है।

इस प्रकार से करें सिंचाई का प्रबंधन

ग्रीष्मकालीन मूंग में सिंचाई बेहद आवश्यक है, नहीं तो फसल तुरंत ही सूख जाएगी। इस मौसम में फसल को बचाए रखने के लिए समान अवधि में कम से कम 4 बार सिंचाई अवश्य करें। इससे फसल का अच्छे से विकास होगा तथा उत्पादन तेजी से बढ़ सकता है।

इस प्रकार से करें ग्रीष्मकालीन मूंग में खरपतवार का नियंत्रण

तेज गर्मी के कारण इस फसल में खरपतवार का ज्यादा आक्रमण नहीं होता है। लेकिन फिर भी फसल के साथ ही कई प्रकार के खरपतवार उग आते हैं, जो फसल को नुकसान पहुंचाते हैं। जिससे मूंग की पैदावार और गुणवत्ता कमजोर हो जाती है। इससे बचने के लिए बुवाई के 20-25 दिनों बाद निराई-गुड़ाई करके खरपतवारों को नष्ट कर दें। यदि निराई-गुड़ाई के लिए मजदूर नहीं मिल रहे रहे हैं तो खेत में शाकनाशी का प्रयोग कर सकते हैं। ये भी पढ़े: मूंग का भाव एमएसपी तक पहुंचाने के लिए मध्यप्रदेश सरकार की कवायद शुरू

अन्य फसलों के साथ भी की जा सकती है मूंग की ग्रीष्मकालीन खेती

मूंग तेजी से उगने वाली फसल है, ऐसे में इसकी खेती अन्य फसलों के साथ सहफसली खेती के रूप में की जा सकती है। इससे अन्य फसल के ऊपर किसी भी प्रकार का प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता। मूंग की खेती को गन्ने के खेत में दो पंक्तियों के बीच आसानी से किया जा सकता है। इससे खरपतवार भी कम पनपते हैं और किसान का मुनाफा भी बढ़ता है।

श्रेणी