इस राज्य के किसान फसल पर हुए फफूंद संक्रमण से बेहद चिंतित सरकार से मांगी आर्थिक सहायता

Published on: 30-Dec-2022

महाराष्ट्र राज्य में संतरा, मिर्च, पपीता पर रोगिक संक्रमण के बाद वर्तमान में चने की फसल भी संक्रमित हो रही है। चने पर फफूंद संक्रमण की वजह से पौधे बर्बाद होते जा रहे हैं, इस बात से किसान बहुत चिंतित दिखाई दे रहे हैं। बतादें, कि इस वर्ष में चने की पैदावार काफी कम हुई है। इसके साथ साथ अन्य फसल भी जैसे कि मिर्च, संतरा और पपीता सहित बहुत सारी फसलों पर फफूंद संक्रमण एवं कीटों का प्रकोप जारी है। उत्पादकों को लाखों की हानि वहन करनी पड़ रही है। महाराष्ट्र राज्य में फसलीय रोगों की वजह से फसलें बेहद गंभीर रूप से नष्ट होती जा रही हैं। किसान सरकार से सहायता की फरियाद कर रहे हैं। ऐसे में महाराष्ट्र के किसानों की चने की फसल भी फफूंद के कारण रोगग्रसित हो गयी है। विशेषज्ञों के अनुसार, कीट एवं फफूंद से फसलों को बचाने हेतु किसानों को बेहतर ढंग से फसल की देखभाल करने की अत्यंत आवश्यकता है।

चने की फसल को बर्बाद कर रहा फफूंद

महाराष्ट्र राज्य में चने की फसल फफूंद की वजह से गंभीर रूप से प्रभावित हो रही है। प्रदेश में चने का उत्पादन फसल बर्बाद होने के कारण घटता जा रहा है। महाराष्ट्र राज्य के नंदुरबार जनपद में चने की फसल का उत्पादन काफी बड़े क्षेत्रफल में उच्च पैमाने पर किया जाता है। फफूंद की वजह से चने के पौधे खराब होना आरंभ हो चुके हैैं। किसान इस बात से बेहद चिंतित हैं, कि यदि चने की फसल इसी प्रकार नष्ट होती रही तो, उनके द्वारा फसल पर किया गया व्यय भी निकाल पाना असंभव सा साबित होगा।

ये भी पढ़ें:
चने की फसल को नुकसान पहुँचाने वाले प्रमुख रोग और इनका प्रबंधन

आखिर किस वजह से यह समस्या उत्पन्न हुई है

महाराष्ट्र के बहुत सारे जनपदों में चने की फसल का उत्पादन किया जाता है। प्रतिवर्ष चने का उत्पादन कर किसान अच्छा खासा मुनाफा कमाते हैं। परंतु चने की फसल में फफूंद संक्रमण की वजह से किसानों को इससे अच्छी आय मिलने की अब कोई संभावना नहीं बची है। फसल रोगिक संक्रमण की वजह से काफी प्रभावित हो गयी है। विशेषज्ञों द्वारा चने की फसल पर फफूंद लगने का यह कारण बताया गया है, कि बेमौसम बरसात एवं आसमान में बादल छाए रहने की वजह से फसल को पर्याप्त मात्रा में धूप नहीं मिल पायी है और धूप न मिलना इस संक्रमण की मुख्य वजह बना है। फफूंद ने चने की फसल को गंभीर रूप से बर्बाद करना आरंभ कर दिया है।

किसानों ने सरकार से की आर्थिक सहायता की गुहार

फसल के गंभीर रूप से प्रभावित होने की वजह से पीड़ित किसान राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार से सहायता हेतु गुहार कर रहे हैं। राज्य के बहुत सारे जनपदों के किसानों ने महाराष्ट्र कृषि विभाग से भी सहायता के लिए मांग की है। किसानों का कहना है, कि फसलों को बर्बाद कर रहे इस रोग से चना की फसल के उत्पादन में निश्चित रूप से घटोत्तरी होगी। फफूंद रोग बेहद तीव्रता से पौधों को बर्बाद करता जा रहा है, यहां तक कि बड़े पौधे भी इस रोग की वजह से नष्ट होते जा रहे हैं। बचे हुए पौधे भी कोई खाश उत्पादन नहीं दे पाएंगे। किसानों ने बहुत बेहतरीन ढंग व मन से चने की फसल का उत्पादन किया था। इसलिए उनको इस वर्ष रबी सीजन में चने की फसल से होने वाली पैदावार से अच्छा खासा मुनाफा मिलने की आशा थी। परंतु परिणाम बिल्कुल विपरीत ही देखने को मिले हैं। किसान केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार से आर्थिक सहायता हेतु गुहार कर रहे हैं।

श्रेणी
Ad
Ad