पराली से होने वाले प्रदूषण को लेकर किसान हुए जागरुक इन राज्यों में इतने प्रतिशत मामले हुए कम

Published on: 29-Nov-2022

हरियाणा एवं पंजाब राज्य में पराली जलाने के मामलों में काफी गिरावट आयी है। किसानों में पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण के बारे में जागरुकता आयी है। राज्य सरकारें पराली जलाने से होने वाले पर्यावरण प्रदूषण से निपटने के लिए काफी सख्ती और गहनता से कार्य कर रही हैं। इससे भूमि की उर्वरक क्षमता भी काफी प्रभावित होती है। पराली जलाने से होने वाले प्रदुषण के कारण आम जन-मानस का स्वास्थ्य भी बेहद खराब हो सकता है और ऐसे मामले भी आम तौर पर सामने आते हैं। किसानों को पराली जलाने से रोकने हेतु विभिन्न राज्य सरकारें हर संभव प्रयास कर रही हैं। साथ ही, राज्य सरकार का प्रयास है कि पराली जलाने के स्थान पर किसान इसकी बिक्री कर लाभ उठा सकते हैं, इसके हेतु भी राज्य सरकारों द्वारा विभन्न योजनाएं जारी की गयी हैं। हालाँकि, पराली जलाने के संबंध में अच्छी खबर सामने आयी है, अधिकारिक आंकड़ों के अनुसार पराली जलाने के मामलों में काफी हद तक गिरावट आयी है।

पंजाब और हरियाणा में कितने प्रतिशत मामलों में गिरावट आयी है ?

पूर्व के कई वर्षों से पराली जलाने के मामले राष्ट्रीय स्तर पर छाये रहते हैं। हरियाणा, पंजाब, बिहार, दिल्ली व उत्तर प्रदेश तक पराली द्वारा धुआँ उत्पन्न होता है। जिसकी वजह से सरकार बेहद सजगता बरत रही है। प्रदेश में पराली जलाने के मामलों को उपग्रह के जरिए से देखा जायेगा। हाल ही में इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टीटयूट के डाटा में बताया गया है कि साल २०२० के उपरांत इस वर्ष बहुत कम पराली जलाई गयी है। बतादें कि, पूर्व वर्ष के आंकड़ों के अपेक्षाकृत पंजाब में करीब ३० फीसद व हरियाणा में ४८ फीसद तक पराली जलाने के मामलों में गिरावट आयी है। सरकार व अधिकारियों के लिए यह अच्छी बात है, लेकिन उद्देश्य इसको शून्य करने का है।

ये भी पढ़ें: पराली से प्रदुषण नहीं अब बढ़ेगी उर्वरकता

पराली जलाने के कितने मामले सामने आये हैं ?

बात करें आंकड़ों के मुताबिक, तो १५ नवंबर से लेकर २३ नवंबर के मध्य में पंजाब में अभी तक ४९६०४ पराली जलाने के मामले सामने आये हैं। २०२१ में यह आंकड़ा ७११८१ था, जबकि २०२० के दौरान ८२६९३ पराली जलाने के मामले सामने आए थे। हरियाणा राज्य के आंकड़ों के हिसाब से तो ५ सितंबर से लेकर २३ नवंबर तक ३५४९ पराली जलाने के मामले सामने आए हैं। पूर्व वर्ष में आंकड़ा ६७९२ था, २०२० में ४०२६ संख्या थी। उत्तर प्रदेश में इस वर्ष के इसी सीजन में २१०० पराली जलाने के मामले सामने आये हैं। २०२१ में ३३७६, साल २०२० में ३६२९ पराली जलाने के मामले सामने आये।

पराली जलाने वाले किसानों को किया पी एम किसान सम्मान निधि से वंचित

किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए सरकारी निधियों व सुविधाओं से वंचित कर राज्य सरकार सख्ती रख रही है। इसी क्रम में कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद के ९ किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि से वंचित कर दिया गया है। साथ ही, इसके अतिरिक्त भी सरकारी योजनाओं के लाभ से दूर कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश राज्य के गोरखपुर जिले के अधिकारियों द्वारा इस कार्य को अंजाम दिया गया है। निर्देशानुसार, अगर किसी किसान को पराली जलाते हुए पकड़ा गया तो उसे सरकारी योजनाओं से दूर क्र दिया जायेगा। बिहार सरकार द्वारा भी ऐसे ही निर्देश दिए गए हैं, सरकार की प्रतिक्रिया के भय से किसान लोग बहुत कम पराली जला रहे हैं। लेकिन चिंता की बात यह है, कि इतने प्रतिबंधों के बाद भी कुछ लोगों में सुधार नहीं हुआ, वह बेधड़क होकर पराली जला रहे हैं।

श्रेणी