प्राकृतिक खेती की महत्ता एवं इसके क्या-क्या फायदे हैं

Published on: 25-Sep-2023

प्राकृतिक खेती की जानकारी के लिए भारत सरकार द्वारा एक पोर्टल लॉन्च किया गया है। इस पोर्टल पर प्राकृतिक खेती से जुड़ी हर तरह की जानकारियां मिल जाऐंगी। भारत में प्राकृतिक खेती का प्रचलन निरंतर बढ़ता ही जा रहा है। इस खेती में किसान किसी रसायन का उपयोग नहीं करते हैं। यह खेती बड़े स्तर पर ऑन-फार्म बायोमास रीसाइक्लिंग पर आधारित है, जिसमें बायोमास मल्चिंग, गाय के गोबर, मूत्र के उपयोग पर विशेष जोर दिया जाता है। मृदा की उर्वरता को बनाए रखने के लिए नीम से निर्मित जैविक उर्वरकों का स्प्रे किया जाता है।

प्राकृतिक खेती के क्या-क्या फायदे हैं

प्राकृतिक खेती का प्रमुख लक्ष्य मिट्टी की गुणवत्ता को प्रभावित किए बिना फसल के उत्पादन को शानदार करना है। यह फसलों में विविधता को बनाए रखना, प्राकृतिक संसाधनों का सही इस्तेमाल करना, जैविक खाद और एक बेहतर खेती के वातावरण को प्रोत्साहन देता है। प्राकृतिक खेती एक जैव विविधता के साथ कार्य करती है। यह मिट्टी की जैविक गतिविधि को बढ़ाने के साथ-साथ खाद्य पैदावार को भी प्रोत्साहन देती है।

ये भी पढ़ें:
प्राकृतिक खेती से किसानों को होगा फायदा, जल्द ही देश के किसान होंगे मालामाल

प्राकृतिक खेती से पैदावार में सुधार आता है

प्राकृतिक खेती में उत्पादन पारंपरिक खेती के मुकाबले में काफी अच्छा होता है। इससे किसानों का मुनाफा भी काफी ज्यादा बढ़ता है। साथ ही, इससे उनकी आर्थिक स्थिति भी काफी बेहतर होती है। विगत कई वर्षों में परंपरागत कृषि करने वाले किसान इस प्राकृतिक खेती की ओर ज्यादा आकर्षित हुए हैं। इसके अतिरिक्त प्राकृतिक खेती मृदा संरक्षण, बेहतर कृषि विविधता तथा वातावरण में होने वाले कार्बन और नाइट्रोजन पदचिह्नों की कमी में भी अहम योगदान देती है।

प्राकृतिक खेती में कम लागत से अधिक उपज मिलती है

प्राकृतिक खेती का प्रमुख उद्देश्य किसानों को ऑन-फार्म, प्राकृतिक एवं घरेलू संसाधनों का इस्तेमाल कर बेहतरीन पैदावार करना है। इस विधि में किसानों की लागत काफी ज्यादा कम होती है। प्राकृतिक खेती का सबसे तात्कालिक प्रभाव मृदा के स्तर पर पड़ता है। रोगाणुओं एवं केंचुओं का प्राकृतिक कृषि पर एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं। रसायन मुक्त कृषि करने से मृदा के स्वास्थ्य पर काफी गहरा असर पड़ता है। साथ ही, यह फसलीय पैदावार में बेहतरीन योगदान देती है।

ये भी पढ़ें:
कम उर्वरा शक्ति से बेहतर उत्पादन की तरफ बढ़ती हमारी मिट्टी

प्राकृतिक खेती के लिए पोर्टल जारी किया है

भारत सरकार द्वारा देश में प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन देने के लिए एक वेबसाइट http://naturalfarming.dac.gov.in/ की शुरुआत की है। इस वेबसाइट पर प्राकृतिक खेती से जुड़ी हर तरह की जानकारियां मिल जाती हैं। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा प्राकृतिक खेती के लिए उठाए जा रहे समस्त कदमों के विषय में बड़ी आसानी से जानकारी मिल जाएगी। इस पोर्टल को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है।

श्रेणी