इन राज्यों के आलू उत्पादन से बिहार के आलू किसानों की आई सामत

Published on: 05-Feb-2023

भारत के उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल में आलू की पैदावार का हर्जाना बिहार के किसानों को वहन करना पड़ रहा है। आपको बतादें, कि बिहार में उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल का आलू सस्ता होने की वजह से देशवासी बिहार के आलू को खरीद नहीं रहे हैं। भारत के ज्यादातर इलाकों में रबी सीजन की विशेष फसलों में से एक आलू की खुदाई चालू हो गई है। किसान भाई उत्पादन का फायदा प्राप्त करने हेतु फसल विक्रय के लिए मंडी के चक्कर काट रहे हैं। विभिन्न राज्यों में बेहतर भाव पर किसान भाई आलू की फसल का विक्रय भी कर रहे हैं। परंतु, बिहार राज्य में किसानों को आलू विक्रय करने पर काफी हानि उठानी पड़ रही है। यहां के किसान भाई मंडी में आलू का विक्रय करने के लिए पहुंचते हैं। हालाँकि, कारोबारी किसानों की तरफ से निर्धारित किए गए भावों से अत्यंत कम भाव पर आलू खरीदे जा रहे हैं। इसकी वजह से किसानों को लाखों रुपये की हानि का सामना किया जा रहा है। ये भी देखें: जाने आलू उगाने की नई ‘56 इंच’ तकनीक, एक एकड़ में उगाएं 200 क्विंटल फसल वास्तविक, रूप से इस वक्त बिहार की मंडियों में पश्चिम बंगाल सहित बाकी के राज्यों से भी आलू की आवक हो रही है। हालाँकि, इन सब में पश्चिम बंगाल एवं उत्तर प्रदेश का आलू बेहद ही सस्ते भाव पर मिल रहा है। बिहार राज्य की मंडियों में उत्तर प्रदेश एवं पश्चिम बंगाल के आलू का भाव प्रति क्विंटल 560 से 570 रुपये तक है। वहीं, बिहार राज्य के आलू की कीमत 600 से 700 रुपये प्रति क्विंटल पर बने हुए हैं। इन राज्यों की कीमतों में 200 रुपये प्रति क्विंटल तक अंतर देखा जा रहा है। इस वजह से लोग बिहार राज्य के आलू को खरीदना पसंद नहीं कर रहे।

किसान फसल की लागत तक ना निकलने पर बेहद चिंतित

किसानों ने बताया है, कि एक बोरी आलू के उत्पादन में 2600 रुपये तक की लागत लगी है। जबकि, खर्च केवल 2400 रुपये तक ही प्राप्त हो रहा है। प्रत्येक बोरी पर 200 रुपये की हानि देखने को मिल रही है। आलू की फसल पर हुए खर्च एवं बिक्री में इतना फरक होने की वजह से किसान लागत तक निकालने में असमर्थ हैं। किसानों ने बताया है, कि अगर स्थानीय आलू की कीमत नहीं बढ़ी तो प्रति क्विंटल अत्यधिक हानि होगी।

किसान आलू को कोल्ड स्टोरेज में रखने लायक स्थिति में भी नहीं हैं

जानकारों ने बताया है, कि बिहार राज्य में आलू के भाव की यह स्थिति है, कि किसान भाई कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने का व्यय तक भी स्वयं वहन करने में असमर्थ हैं। कोल्ड स्टोरेज में एक क्विंटल आलू रखने के लिए किसान 280 रुपये प्रति क्विंटल का किराया देते हैं। बिहार शरीफ में 13 कोल्ड स्टोरेज उपस्थित हैं। इस कोल्ड स्टोरेज की आलू रखने की क्षमता 15 लाख क्विंटल है। परंतु, किसानों के आलू कोल्ड स्टोरेज में न रख पाने की वजह से यह शीतगृह बिल्कुल सुमसान पड़े हैं। कोल्ड स्टोरेज संचालकों को इससे भी बेहद हानि का सामना करना पड़ रहा है।

श्रेणी