जानिए परिशुद्ध कृषि प्रणाली, ऊर्ध्वाधर खेती एवं टिकाऊ कृषि पद्धतियों के बारे में

By: Merikheti
Published on: 17-Dec-2023

भारतीय कृषि क्षेत्र निरंतर बढ़ता जा रहा है। साथ ही, कृषि क्षेत्र में नवीन प्रौद्योगिकियों एवं नए रुझानों को स्वीकृत कर रही है। ये प्रवृत्तियाँ इस युग में उत्पादन वृद्धि एवं सफल खेती में मददगार हैं। आइए भारतीय कृषि में शीर्ष 10 रुझानों पर एक नजर डालें।

परिशुद्धता कृषि (Precision Farming) 

परिशुद्धता खेती, जिसे परिशुद्धता कृषि के तौर पर भी जाना जाता है, खेती का एक आधुनिक दृष्टिकोण है, जो फसल की उपज को अनुकूलित करने एवं अपशिष्ट को कम करने के लिए प्रौद्योगिकी तथा डेटा विश्लेषण का इस्तेमाल करता है। सटीक खेती का प्रमुख उद्देश्य रोपण, कटाई और अन्य कृषि प्रक्रियाओं के बारे में सूचित फैसला लेने हेतु डेटा-संचालित तकनीकों का उपयोग करके कृषि प्रथाओं में दक्षता बढ़ाना है।

ये भी पढ़ें:
भारत के किसान खेती में इजराइली तकनीकों का उपयोग कर बेहतरीन उत्पादन कर रहे हैं
सटीक कृषि तकनीकों में फसल स्वास्थ्य, मृदा की नमी के स्तर एवं मौसम के पैटर्न की निगरानी के लिए सेंसर, ड्रोन, जीपीएस मैपिंग एवं डेटा एनालिटिक्स का उपयोग करना शम्मिलित है। इस डेटा को इकट्ठा और विश्लेषण करके, किसान कब बोना है, कितना उर्वरक का इस्तेमाल करना है और अपनी फसल की कटाई कब करनी है, इसके बारे में ज्यादा जानकारीपूर्ण फैसला ले सकते हैं। परिशुद्ध खेती के विभिन्न लाभ हैं, जिनमें फसल की पैदावार में वृद्धि, सिंचाई और बाकी संसाधनों का कम उपयोग तथा बेहतर स्थिरता शम्मिलित है। इसमें कीटनाशकों और अन्य रसायनों के उपयोग को कम करके, खेती के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने की भी क्षमता है। परिशुद्ध खेती कृषि में एक रोमांचक विकास है, जिसमें हमारे भोजन उगाने एवं उत्पादन करने के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव लाने की क्षमता है।

ऊर्ध्वाधर खेती (Vertical Farming) 

वर्टिकल खेती नियंत्रित-पर्यावरण कृषि (सीईए) तकनीक का इस्तेमाल करके लंबवत खड़ी परतों या संरचनाओं में फसल उत्पादन की एक विधि है। यह दृष्टिकोण स्थान के शानदार कुशल इस्तेमाल की अनुमति देता है, क्योंकि फसलें खड़ी खड़ी परतों या अलमारियों में उत्पादित की जाती हैं। सामान्यतः शहरी क्षेत्रों में या घर के अंदर। वर्टिकल फार्मिंग सिस्टम में पौधों के विकास के लिए नियंत्रित वातावरण प्रदान करने के लिए हाइड्रोपोनिक्स, एरोपोनिक्स और एक्वापोनिक्स जैसी विभिन्न तकनीकों को शामिल किया जा सकता है, जिसमें तापमान, आर्द्रता, प्रकाश तथा पोषक तत्वों जैसे कारकों को सावधानीपूर्वक नियंत्रित किया जाता है।

ये भी पढ़ें:
इस देश में सबसे ज्यादा वर्टिकल फार्मिंग (Vertical farming) की जा रही है ऊर्ध्वाधर खेती का एक प्रमुख लाभ यह है, कि यह मौसम की परिस्थितियों की कोई भी परवाह किए बगैर वर्ष भर फसल उत्पादन की अनुमति देता है। यह कीटनाशकों एवं शाकनाशियों के इस्तेमाल को भी कम करता है। क्योंकि, नियंत्रित वातावरण कीटों एवं बीमारियों के संकट को कम करता है। इसके अतिरिक्त, ऊर्ध्वाधर खेती पारंपरिक खेती के पर्यावरणीय असर को कम कर सकती है। क्योंकि, इसमें सामान्य तौर पर कम पानी एवं उर्वरक की जरूरत होती है। साथ ही, भूमि के बड़े भाग की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। हालाँकि, ऊर्ध्वाधर खेती से संबंधित चुनौतियाँ भी हैं, जिनमें उच्च स्टार्टअप लागत, ऊर्जा खपत एवं प्रौद्योगिकी को संचालित करने के लिए विशेष कौशल तथा ज्ञान की आवश्यकता शम्मिलित है। इन चुनौतियों के बावजूद, ऊर्ध्वाधर खेती खाद्य उत्पादन का एक तीव्रता से लोकप्रिय होने वाली पद्धति बन रही है, विशेष कर घनी आबादी वाले शहरी इलाकों में, जहां ताजा उत्पादन तक पहुंच सीमित हो सकती है।

टिकाऊ खेती (Sustainable Farming)

सतत खेती एक कृषि पद्धति है, जो दीर्घकालिक उत्पादकता, पर्यावरण संरक्षण एवं सामाजिक जिम्मेदारी पर बल देती है। इसमें ऐसी तकनीकों का इस्तेमाल करना शामिल है, जो पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभावों को काफी कम करती हैं, जैसे कि कीटनाशकों एवं सिंथेटिक उर्वरकों के इस्तेमाल को कम करना एवं नवीकरणीय संसाधनों तथा संरक्षण प्रथाओं के इस्तेमाल को प्रोत्साहन देना। टिकाऊ खेती का उद्देश्य प्राकृतिक संसाधनों को संरक्षित करते हुए स्वस्थ भोजन का उत्पादन करना एवं कृषक समुदायों की आर्थिक व्यवहार्यता को सुनिश्चित करना है।

ये भी पढ़ें:
स्मार्ट कृषि प्रणाली : किसानों की भविष्यकारी नीति और चुनौतियां

टिकाऊ कृषि पद्धतियों के कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:

फसल चक्र: इसमें मृदा के स्वास्थ्य में सुधार एवं कीट तथा बीमारी की समस्याओं को कम करने के लिए एक खेत में बारी-बारी से फसलें उगाना शामिल है। संरक्षण जुताई: इसमें मृदा के कटाव को कम करने एवं मृदा के स्वास्थ्य में सुधार के लिए फसल के अवशेषों को मृदा की सतह पर छोड़ना शम्मिलित है। एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम): इसमें कीटों के प्रबंधन और कीटनाशकों के इस्तेमाल को कम करने के लिए जैविक, सांस्कृतिक तथा रासायनिक नियंत्रण विधियों के संयोजन का उपयोग करना शामिल है। कवर फसल: इसमें मृदा के स्वास्थ्य में सुधार, कटाव को रोकने एवं लाभकारी कीड़ों के लिए आवास प्रदान करने के लिए मुख्य फसलों के मध्य मृदा को ढकने वाली फसलें लगाना शम्मिलित हैं। कृषि वानिकी: इसमें मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार, छाया और आश्रय प्रदान करने और जैव विविधता बढ़ाने के लिए पेड़ों और फसलों को एक साथ उगाना शामिल है।

ये भी पढ़ें:
बैंकिंग से कृषि स्टार्टअप की राह चला बिहार का यह किसान : एक सफल केस स्टडी
जल संरक्षण: इसमें पानी के उपयोग को कम करने और इस बहुमूल्य संसाधन को संरक्षित करने के लिए कुशल सिंचाई प्रणालियों और जल-बचत तकनीकों का उपयोग करना शामिल है। सतत खेती तेजी से महत्वपूर्ण होती जा रही है, क्योंकि वैश्विक जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता की हानि तथा मृदा के क्षरण जैसी चुनौतियों का सामना कर रही है। टिकाऊ कृषि पद्धतियों को अपनाकर, किसान पर्यावरण की रक्षा करने, स्वस्थ भोजन का उत्पादन करने तथा अपने समुदायों की आर्थिक तथा सामाजिक भलाई में योगदान करने में मदद कर सकते हैं।

श्रेणी