नौहझील में बारिश ने मचाई तबाही, किसानों में मचा हाहाकार

Published on: 10-Oct-2022

लोकेन्द्र नरवार संवाद न्यूज एजेंसी नौहझील। फोटो परिचय 1- गांव चांदपुर कलां स्थित सरकारी स्कूल में भरा बारिश का पानी 2- गांव शल्ल में धान की गिरी हुई फसल के ऊपर तैरता बरसात का पानी 3- बरसात से गांव मानागढ़ी में तालाब बने खेत 4- बारिश के बाद गांव बादौठ में टूटी सड़क ----

बेबस किसान खेत से नहीं उठा पा रहे अपनी पकी हुई फसल

आज बेबस किसान अपने ही खेत से अपनी पकी हुई फसल नहीं उठा पा रहे हैं। किसानों पर लगातार हो रही मौसम की मार से किसानों के कलेजा छलनी हो रहे हैं। बीते दो दिन से लगातार हो रही बारिश ने चारों ओर तबाही मचाकर रख दी है। किसानों में हाहाकार मचा हुआ है और बेबस किसान खेत पर बैठकर अपनी बर्बादी का तमाशा देख रहा है। नौहझील ब्लॉक क्षेत्र के लगभग हर गांव में फसल नष्ट हुईं हैं। इनमें भी यमुना किनारे के गांवों में भारी नुकसान है। पूर्व मंत्री श्यामसुंदर शर्मा, रालोद नेता चौ. भगवती प्रसाद चेयरमैन, जिला पंचायत सदस्य कैलाश प्रधान, पूर्व जिला पंचायत सदस्य चौ. योगेन्द्र सिंह, प्रधान संगठन के ब्लॉक अध्यक्ष राकेश प्रधान बरौठ, अरविन्द प्रधान कानेका, भंवर सिंह प्रधान दौलतपुर, केदार प्रधान पालखेड़ा, अशोक प्रधान शल्ल, शेरा ठाकुर प्रधान, गिर्राज ठाकुर प्रधान, बसंत प्रधान आदि ने सरकार से किसानों को आर्थिक मदद दिलाने की मांग की है।

भाड़े पर जमीन और साहूकार से कर्जा लेकर खेती करने वाले किसान परिवारों के घर नहीं जल रहे चूल्हे

नौहझील। ऐसे किसान जिनके पास जमीन का एक भी टुकड़ा नहीं है, भाड़े पर जमीन लेकर खेती की। साहूकार से कर्जा लेकर उस खेती में रकम लगाई। एक-एक दिन गिन-गिनकर फसल को सींचा। आज उम्मीद थी कि फसल पककर तैयार है। एक-दो सप्ताह में फसल की पैदावार को बाजार में बेचकर पैसा मिलेगा। उस पैसे से साहूकार का कर्जा चुकाऊंगा और शेष बचेगा तो उससे बच्चों के लिए कुछ खरीदूंगा। लेकिन आज मौसम की मार ने किसानों की सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। बेबस किसान अपनी पकी हुई फसल को नष्ट होते देख रहा है और उसकी बेबसी तो देखिए, नष्ट होती फसल को बचा भी नहीं पा रहा है। ऐसे किसान परिवार जिन्होंने भाड़े पर जमीन ली, और साहूकार से कर्जा लेकर खेती में लागत लगाई, आज उन किसान परिवारों के घरों में चूल्हा नहीं जल रहा है। घरों में मातम छाया हुआ है। भयभीत व दुःखी किसान खेत पर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है। इस असहनीय दर्द की पीड़ा अन्नदाता ही झेल सकता है।

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से किसानों को क्या है फायदा

माइनर की नहीं हुई सफाई, चांदपुर कलां में घरों में घुसा पानी

नौहझील। क्षेत्र के गांव चांदपुर कलां में घरों में पानी घुस गया है। इससे मकानों में दरारें पड़ गईं हैं। सरकारी स्कूल में पानी भर गया है। ग्रामीण श्यामसुंदर, सुरेन्द्र कुमार, राजकुमार, रामवीर शर्मा, सौरभ, कन्हैया आदि ने आरोप लगाया है कि शिकायत के बाद भी शल्ल माइनर की खुदाई एवं सफाई नहीं हुई, जिससे कारण माइनर का पानी गांव में घुस गया है। गांव में चारों आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। ग्रामीण ने डीएम से लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है।

बिरजूगढ़ी में बारिश से गिरा मकान, बाल-बाल बचे दम्पति

नौहझील। क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से हर तरफ तबाही मची हुई है। रविवार को ब्लॉक क्षेत्र के गांव बिरजूगढ़ी में अर्जुन सिंह पुत्र भगवान सहाय का मकान भरभराकर गिर पड़ा। इस दौरान अर्जुन सिंह अपनी पत्नी के साथ घर में ही थे। लेकिन गनीमत रही है कि वह दोनों बच गए। ग्राम प्रधान अशोक चौधरी ने डीएम से पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद दिलाने की मांग की है। ---- लोकेन्द्र नरवार

श्रेणी