उद्यानिक फसलों में ह्यूमिक एसिड से होने वाले अप्रत्याशित लाभ एवं जानें सही प्रयोग विधि

By: Merikheti
Published on: 08-Dec-2023

हानिकारक रसायन युक्त उर्वरकों के प्रयोग से मिट्टी की उर्वरक क्षमता कम होने लगती है। जिसका सीधा असर फसलों की पैदावार पर होता है। मिट्टी की उर्वरक क्षमता को बढ़ाना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है। मिट्टी की संरचना में सुधार करने एवं उर्वरक क्षमता बढ़ाने के लिए ह्यूमिक एसिड किसी वरदान से कम नहीं है। बाजार में मिलने वाला ह्यूमिक एसिड असल में पोटेशियम हृमेट होता है, जिसे ह्यूमिक एसिड पर कास्टिक पोटाश की क्रिया के द्वारा तैयार किया जाता है। पोटेशियम ह्यूमेट से फसलों पर किसी तरह का प्रतिकूल असर नहीं होता है। ह्युमिक एसिड जैविक पदार्थ जैसे, लिग्निएट,पीट एवं मृदा समूह पदार्थो का सदस्य है।

यह पौधों में एवं मिट्टी को पोषण एवं संरचना सुधारने में सहायक की भूमिका निभाता है। ह्यूमिक एसिड का प्रयोग जैविक खेती में भी किया जा सकता है। ह्यूमिक एसिड से होने वाले लाभ के बारे में अभी तक बहुत कम किसानों को पता है, जबकि पौधों के वानस्पतिक वृद्धि की अवस्था में इसके प्रयोग से अप्रत्याशित लाभ मिलता है । ह्यूमिक एसिड कृषि में एक महत्वपूर्ण घटक है, जो कई प्रकार के लाभ प्रदान करता है जो मिट्टी के स्वास्थ्य, पौधों की वृद्धि और समग्र फसल उत्पादकता में योगदान देता है। ह्यूमिक एसिड एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला कार्बनिक पदार्थ है जो पौधे और पशु पदार्थों के क्षय से प्राप्त होता है। यह ह्यूमस का एक प्रमुख घटक है, मिट्टी का कार्बनिक अंश, जो अपने गहरे रंग और समृद्ध उर्वरता के लिए जाना जाता है। ह्यूमिक एसिड के प्रमुख स्रोतों में विघटित पीट, लिग्नाइट कोयला और मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ शामिल हैं। ह्यूमिक एसिड की रासायनिक संरचना को समझना महत्वपूर्ण है, जो विभिन्न कार्यात्मक समूहों, जैसे कि फेनोलिक, कार्बोक्जिलिक और क्विनोन समूहों से बना है।

ह्यूमिक एसिड की संरचना

ह्यूमिक एसिड एक बहु-उपयोगी खनिज पदार्थ है। इसके प्रयोग से बंजर भूमि को भी उपजाऊ बनाया जा सकता है। यह मिट्टी में नमी बनाए रखने में सहायक है। यह मिट्टी में खाद को अच्छी तरह घोल कर पौधों तक पहुंचता है। इसके अलावा यह नाइट्रोजन एवं आयरन को मिट्टी में जोड़े रखता है।

ये भी पढ़ें:
कोकोपीट खाद किस प्रकार तैयार किया जाता है, इससे क्या-क्या फायदे होंगे
ह्यूमिक एसिड मैक्रोमोलेक्यूल्स का एक जटिल मिश्रण है, और इसकी संरचना स्रोत के आधार पर भिन्न भिन्न हो सकती है। इसमें आमतौर पर ह्यूमिक पदार्थ होते हैं, जिन्हें मोटे तौर पर फुल्विक एसिड, ह्यूमिक एसिड और हाइमाटोमेलैनिक एसिड में वर्गीकृत किया जाता है। फुल्विक एसिड सबसे छोटा आणविक घटक है, इसके बाद ह्यूमिक एसिड है, जबकि हाइमाटोमेलैनिक एसिड सबसे बड़ा है। ह्यूमिक एसिड की जटिल संरचना मिट्टी और पौधों के बीच महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसकी उच्च धनायन विनिमय क्षमता (सीईसी) इसे पौधों की जड़ों के साथ आवश्यक पोषक तत्वों को बनाए रखने और आदान-प्रदान करने की अनुमति देती है, जिससे मिट्टी में पोषक तत्वों की उपलब्धता को बढ़ावा मिलता है।

ह्यूमिक एसिड के प्रयोग से क्या होता है?

मृदा कंडीशनर: ह्यूमिक एसिड मिट्टी कंडीशनर के रूप में कार्य करता है, मिट्टी की संरचना को बढ़ाता है और जल धारण को बढ़ावा देता है। मिट्टी के कणों के साथ कॉम्प्लेक्स बनाने की इसकी क्षमता मिट्टी के वातन और जल निकासी में सुधार करता है।

पोषक तत्वों का अवशोषण

ह्यूमिक एसिड के महत्वपूर्ण लाभों में से एक पोषक तत्वों के अवशोषण में इसकी भूमिका है। यह आवश्यक खनिजों को संश्लेषित करता है, जिससे वे पौधों के लिए अधिक उपलब्ध होते हैं। यह, बदले में, फसलों द्वारा पोषक तत्वों के ग्रहण और उपयोग में सुधार करता है।

ये भी पढ़ें:
केले की खेती के लिए सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व पोटाश की कमी के लक्षण और उसे प्रबंधित करने की तकनीक

जड़ विकास को उत्तेजित करना

ह्यूमिक एसिड जड़ विकास को उत्तेजित करता है, जिससे जड़ प्रणाली अधिक व्यापक और मजबूत होती है। यह बढ़ा हुआ जड़ द्रव्यमान पौधे की मिट्टी से पानी और पोषक तत्वों तक पहुंचने की क्षमता को बढ़ाता है।

उन्नत बीज अंकुरण

जब बीज उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है, तो ह्यूमिक एसिड अंकुरण दर और अंकुर शक्ति में सुधार करता है। इसका कारण बीज के आसपास की मिट्टी के भौतिक और रासायनिक गुणों पर इसका प्रभाव है।

जैविक गतिविधि

ह्यूमिक एसिड मिट्टी में माइक्रोबियल गतिविधि को बढ़ाता है। लाभकारी सूक्ष्मजीव ह्यूमिक पदार्थों की उपस्थिति में बहुत अच्छे से पनपते हैं, जो कार्बनिक पदार्थों के टूटने और पोषक तत्वों की उपलब्धता को बढ़ाने में सहयोग करते हैं।

ह्यूमिक एसिड के लाभ बेहतर मिट्टी की उर्वरता

ह्यूमिक एसिड का उपयोग पोषक तत्वों का भंडार प्रदान करके और माइक्रोबियल गतिविधि के लिए अनुकूल वातावरण बनाकर मिट्टी की उर्वरता को समृद्ध करता है। यह निरंतर और बेहतर फसल उत्पादन में योगदान देता है।

ये भी पढ़ें:
पराली क्यों नहीं जलाना चाहिए? कैसे जानेंगे की आपकी मिट्टी सजीव है की निर्जीव है ?

पोषक तत्वों की लीचिंग में कमी

ह्यूमिक एसिड जड़ क्षेत्र में पोषक तत्वों को बांध कर पोषक तत्वों की लीचिंग को कम करने में मदद करता है, उन्हें बारिश या सिंचाई से धुलने से रोकता है। इससे न केवल पौधों के स्वास्थ्य को लाभ होता है बल्कि पर्यावरणीय प्रभाव भी कम होता है।

जल उपयोग दक्षता

ह्यूमिक एसिड से उपचारित मिट्टी की जल धारण क्षमता बढ़ने से जल उपयोग दक्षता में वृद्धि होती है। यह पानी की कमी या अनियमित वर्षा पैटर्न का सामना करने वाले क्षेत्रों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

तनाव सहनशीलता

ह्यूमिक एसिड से उपचारित पौधों में सूखे और लवणता सहित विभिन्न तनाव कारकों के प्रति सहनशीलता बढ़ जाती है। बेहतर जड़ प्रणाली और पोषक तत्वों का अवशोषण पौधे की चुनौतीपूर्ण पर्यावरणीय परिस्थितियों का सामना करने की क्षमता में योगदान देता है।

ये भी पढ़ें:
आम के पत्तों के सिरे के झुलसने (टिप बर्न) की समस्या को कैसे करें प्रबंधित?

पर्यावरणीय स्थिरता

ह्यूमिक एसिड का उपयोग टिकाऊ कृषि पद्धतियों के अनुरूप है। मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार और सिंथेटिक उर्वरकों की आवश्यकता को कम करके, यह पर्यावरण के अनुकूल खेती के तरीकों का समर्थन करता है।

अन्य इनपुट के साथ अनुकूलता

ह्यूमिक एसिड विभिन्न उर्वरकों और कृषि रसायनों के साथ अनुकूल है। इसकी बहुमुखी प्रतिभा किसानों को इसे अपनी मौजूदा कृषि पद्धतियों में सहजता से एकीकृत करने की अनुमति देती है।

ह्यूमिक एसिड तैयार करने की विधि

  • इसे तैयार करने के लिए 2 वर्ष पुराने गोबर के उपले या कंडे, 25 से 30 लीटर पानी एवं करीब 50 लीटर की क्षमता वाले ड्रम की आवश्यकता होती है।
  • इसे तैयार करने के लिए ड्रम में सबसे पहले गोबर के उपले एवं कंडे भरें।
  • इसके बाद ड्रम में 25 से 30 लीटर पानी भर कर 7 दिनों तक ढक कर रखें।
  • 7 दिनों बाद ड्रम के पानी गहरे लाल से भूरे रंग में बदल जाएगा।
  • इसके बाद ड्रम से सभी कंडों को निकाल कर पानी को किसी कपड़े से छान लें।
  • इस पानी को ह्यूमिक एसिड के तौर पर प्रयोग करें।

ह्यूमिक एसिड का प्रयोग कैसे करें?

  • ड्रम में तैयार किए गए पानी को मिट्टी में मिलाएं।
  • पौधों की रोपाई से पहले जड़ों को इसमें डुबो कर रखें।
  • कीटनाशक के साथ मिला कर फसलों पर छिड़काव करें।
  • रासायनिक उर्वरकों में मिला कर भी प्रयोग कर सकते हैं।
  • ड्रिप सिंचाई के साथ ही इसका प्रयोग किया जा सकता है।

उपयोग की विधि

ह्यूमिक एसिड 12% W / W का प्रयोग निम्नलिखित तरीके से किया जा सकता है

अ. मिट्टी में प्रयोग करने की विधि

एक लीटर ह्यूमिक एसिड 12% W / W एक एकड़ के लिए पर्याप्त है। इसका उपयोग अकेले या अन्य उर्वरक के साथ या ड्रिप सिंचाई के माध्यम से किया जा सकता है।

ब. पर्णीय छिड़काव

फूलों आने से पहले या सक्रिय वानस्पतिक अवस्था में , सुबह या शाम को सभी फसलों के लिए मासिक अंतराल पर ह्यूमिक एसिड @ 2-3 मिलीलीटर / लीटर पानी का छिड़काव कर सकते है I

स. बीजोपचार

बुवाई से कम से कम 1 घंटा पहले पर्याप्त मात्रा में जल में ह्यूमिक एसिड @ 10 मिली / किलोग्राम बीज के बीज को भिगो देंI

सारांश

सारांश में, ह्यूमिक एसिड आधुनिक कृषि में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो कई फायदे प्रदान करता है जो टिकाऊ और कुशल फसल उत्पादन में योगदान करते हैं। मिट्टी की उर्वरता और पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ाने से लेकर पौधों में तनाव सहनशीलता को बढ़ावा देने तक, ह्यूमिक एसिड के प्रयोग विविध और प्रभावशाली हैं। जैसे-जैसे कृषि पद्धतियों का विकास जारी है, मिट्टी के स्वास्थ्य को अनुकूलित करने और मजबूत पौधों के विकास को बढ़ावा देने में ह्यूमिक एसिड का महत्व और भी अधिक स्पष्ट होने की संभावना है। सस्तुती मात्रा से अधिक इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।

श्रेणी