कोरोना से प्रभावित ग्रामीण कारोबार

Published on: 03-Mar-2020

चीनी सामान की भारत में खूब बिक्री है। इसके अलावा यहां बनने वाली अनेक चीजों में भी सस्ते चीनी मोती आदि सामान की बेहद मांग रहती है लेकिन पिछले एक माह में कोरोना वायरस के चलते चीन के साथ भारतीय ग्रामीण कारोबार पर भी बुरा असर पड़ा है। मोती—मनके, बनारसी साड़ी, कपड़ा कारोबार के अलावा अनेक चीज़ों की कीमतों में मोटी बढ़त का कारण केवल चीन से आयात ठप होना माना जा रहा है। इन श्रेणी में सस्ते कृषि रसयान भी शामिल हैं।

    

 देश में अनेक तरह की चीजों का आयात चीन से होता है लेकिन एक माह से चीन में सभी व्यापार कारोबार बंद है। लोग जिन्दगी बचाने के लिए परेशान हैं। इस हालात के चलते स्थानीय करोबार भी बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है। कंठी माला, सजावट के सामान,कई तरह के केमिकल, कई तरह के धागे आदि अनेक चीजों का आयात चीन से होता है। इनका आयात न होने से बनारसी साड़ी, सूती कपड़े, सहित अनेक तरह के उत्पाद प्रभावित हो रहे हैं। यहां के ग्रामीण उद्योगों को कच्चा माल या तो मिल ही नहीं रहा या फिर काफी महंगा मिल रहा है। इस तरह की दिक्कत के चलते कई तरह के कारोबार पर बुरा असर पड़ा हैं। इन कारोबारों से करोड़ों करोड़ लोगों के परिवारों की जीविका चलती है। देश में कई तरह के बदलावों के बाद नई तरह की समस्या का सामना ग्रामीण कारोबारियों को करना पड़ रहा है।

श्रेणी