इस राज्य में यूरिया की कमी आने से किसानों में खलबली, 100 से 150 रुपए तक महँगा खरीदने को मजबूर

Published on: 19-Jan-2023

बिहार राज्य के किसान खाद की कमी होने की वजह से काफी चिंताग्रस्त हैं। बिहार के कृषि सचिव एन सररवाना कुमार के ने बताया है, कि राज्य को वर्तमान में खरीफ सीजन के तुलनात्मक केंद्र सरकार द्वारा 32 फीसद कम यूरिया (Urea) प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि, विगत माह में यूरिया की आपूर्ति सुचारू होने के बाद भी, रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार राज्य में जनवरी माह हेतु आवंटित 10,30,000 मीट्रिक टन यूरिया में से तकरीबन 7,00,105 मीट्रिक टन (एमटी) ही खाद मिल पाया है। इसी वजह से बिहार को खाद की कमी का सामना करना पड़ रहा है। किसानों को समयनुसार खाद ना मिलने के कारण उनको पैदावार में कमी होने की चिंता काफी परेशान कर रही है। लेकिन, केंद्र सरकार के मुताबिक, बिहार राज्य को भी बाकी समस्त राज्यों के समरूप खाद उपलब्ध कराया जा रहा है। वहीं मीडिया खबरों के अनुरूप, केंद्र सरकार द्वारा दावा करने के बाद भी प्रदेश में कृषकों को खाद की किल्लत सता रही है। विगत वर्ष दिसंबर में आवंटित क्षमता के 97 प्रतिशत से अधिक खाद की आपूर्ति की गई थी। दरअसल, विभाग को आशा है, कि जनवरी माह में राज्य को उसका समुचित खाद प्राप्त हो सकता है। सिंचाई के दौरान उत्पन्न हुई खाद की कमी की वजह से अनाधिकृत व्यापारियों में मनमाने भाव पर खाद विक्रय किया है। अनाधिकृत व्यापारियों ने मौके का फायदा उठाकर 50 किलो के उरिया के पैकेट को जिसका सरकारी भाव 260 रुपए है। लेकिन, खाद की कमी की स्थिति में उसी 50 किलो के उरिया के पैकेट को 350-400 रुपये के मध्य विक्रय किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें:
अब किसानों को नहीं झेलनी पड़ेगी यूरिया की किल्लत
इसी दौरान, इस महीने यूरिया की उपलब्धता में आयी कमी के संदर्भ में समस्त जिला कृषि पदाधिकारियों (डीएओ) को पंचायत स्तर तक कृषकों को यूरिया के परिवहन एवं वितरण संबंधित गतिविधियों पर निगरानी व जागरुकता बरतने के निर्देश दिये हैं। आपको यह भी बतादें कि हाल ही में बीते खरीफ सीजन के दरमियान, पूरे बिहार राज्य में 6,200 उर्वरक दुकानों पर छापेमारी हुई थी। साथ ही, यूरिया संबंधित समस्या को उत्पन्न करने के लिए जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध 117 प्राथमिकी दर्ज हुई थीं। आपको बतादें कि विगत वर्ष के अक्टूबर व नवंबर माह में, बिहार को वादा की गई राशि की अपेक्षा में तकरीबन 60 फीसद खाद आपूर्ति मिल पायी थी। देखा जाए तो, यूरिया की आपूर्ति में विगत माह की तुलना में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। परंतु, वर्तमान में संपूर्ण खरीफ सीजन की सीमा के तुलनात्मक कुल उर्वरक की कमी 32 फीसद है।

श्रेणी