किसान के बेटे ने बनाई मिल्क एटीएम मशीन, जानिए इस दूध एटीएम मशीन की खासियतें 

By: MeriKheti
Published on: 26-Aug-2023

अब तक आप लोगों ने वॉटर एटीएम मशीन देखी थी। परंतु, अब एक किसान के बेटे ने मिल्क एटीएम मशीन तैयार की है, जिसकी सहायता से वह प्रति दिन आमदनी कर रहा है। हमारे भारत में सामान्यतः डेबिट कार्ड का उपयोग पैसे निकालने अथवा फिर बाजार में बाकी विभिन्न प्रकार के उत्पाद खरीदने के लिए किया जाता है। परंतु, अब से भारत के कुछ राज्यों में डेबिट कार्ड का इस्तेमाल बाकी कार्यों में भी किया जाएगा। इसकी शुरुआत मध्य प्रदेश ने कर दी है। दरअसल, MP के बैतूल में कार्ड से लोगों को दूध दिया जा रहा है। जानकारी के लिए बतादें, कि बैतूल के एक किसान के बेटे ने डेबिट कार्ड की मदद से मिलने वाली दूध की मशीन तैयार की है। किसान के इस बेटे का नाम रोहित यादव है, जिसने दूध बेचने के लिए एक चलती फिरती दूध एटीएम मशीन बनाई है। चलिए इस मशीन की विशेषताओं के विषय में थोड़ा विस्तार से जानने का प्रयास करते हैं। यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान के 19वें दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति मुर्मू जी ने महिलाओं व विद्यार्थियों को संबोधित किया

दूध ATM मशीन की विशेषताऐं 

  • किसान के बेटे के द्वारा तैयार की गई यह दूध मशीन जो एटीएम की सहायता से लोगों को स्वच्छ दूध मुहैय्या करवाती है। 
  • यह मशीन लोगों को उनके घर जाकर दूध देती है। 
  • इससे रोहित प्रतिदिन करीब 500 लीटर तक दूध बेचता है। 
  • बाजार में मिलने वाले प्रति लीटर दूध से रोहित 2 रुपए ज्यादा कीमत पर घर पर ही दूध देता है।
  • एटीएम मशीन का यह दूध प्लांट से चिल्ड होता है।
  • इस मशीन के द्वारा ग्राहकों को उचित दाम पर बेहतर गुणवत्ता का दूध मिलता है।
यह भी पढ़ें: दुधारू पशु खरीदने पर सरकार देगी 1.60 लाख रुपये तक का लोन, यहां करें आवेदन

दूध बेचने की एटीएम मशीन क्यों तैयार की 

रोहित 24 वर्ष आयु का युवक है, जिसने बीएससी की पढ़ाई की है। जिसके पश्चात वह दूध बेचने के लिए नवीन प्रकार के आइडिये की खोज जुट गया। क्योंकि, वह कमाई के साथ लोगों का भी हित कर सके। ऐसे में उसे वॉटर एटीएम मशीन का आईडिया आया और उसके बाद परिवार की सहायता से उसने एक मिल्क एटीएम को सफलतापूर्वक तैयार कर लिया, जो वाटर एटीएम मशीन की भांति कार्य करती है। इस मशीन की मदद से रोहित घर-घर लोगों को दूध की सुविधा मुहैय्या करवाने लगा। मिली जानकारी के अनुसार, रोहित ने इस मशीन के लिए उद्यम क्रांति योजना से कर्जा लिया और फिर लगभग तीन मिल्क एटीएम तैयार किए। 

रोहित को अपने दादा से आईडिया आया था 

रोहित को जब भी वक्त मिलता था। वह अपने दादा के साथ दूध बेचने में सहयोग करता था। रोहित के दादा की दूध की डेयरी थी। जहां वह अपने दादा के साथ दूध के प्लांट पर अक्सर दूध बेचने जाया करता था। इसी के चलते रोहित के दिमाग में आया कि वह स्वयं का अपना एक अच्छा व्यवसाय शुरू करेगा, जो बाकी लोगों से काफी हटकर होगा। इसी के चलते रोहित ने दूध बेचने की एटीएम मशीन तो बनाया है। यह आइडिया उसे वाटर एटीएम मशीन की सहायता से आया है। रोहित का कहना है, कि वह अपनी एटीएम मशीन से गांव व शहर की भिन्न-भिन्न जगहों पर दूध बेचता है।

श्रेणी