इस मसाले की खेती से होगा बंपर मुनाफा, घर से भोजनालय तक उपयोग किया जाता है

Published on: 15-Sep-2023

किसान भाई सौंफ की खेती कर के बेहतरीन आमदनी कर सकते हैं। इसकी उत्तम पैदावार अर्जित करने के लिए तापमान 20 से 30 डिग्री के बीच होना चाहिए। यदि आप फलों एवं सब्जियों की खेती कर के ऊब गए हैं, तो आपके लिए यह खबर बेहद काम की साबित होने वाली है। किसान भाई अधिक मुनाफा पाने के लिए फल-सब्जियों से अलग मसालों की खेती भी कर सकते हैं। जिससे कि उन्हें बम्पर लाभ भी मिल पाएगा। सौंफ एक ऐसा मसाला है, जो घरों से लेकर बड़े-बड़े होटलों तक उपयोग में लिया जाता है। आज हम आपको बताएंगे कि किसान भाई कैसे इसकी खेती कर मालामाल बन सकते हैं।

सौंफ का उपयोग औषधियों में भी किया जाता है

सौंफ का इस्तेमाल विभिन्न पकवान और औषधियों में किया जाता है। बतादें, कि केसर एवं वनिला की भाँति सौंफ भी काफी ज्यादा महंगा मसाला है। सौंफ की खेती करने के लिए खरीफ एवं रबी दोनों ही मौसम काफी अच्छे हैं। खरीफ के दौरान सौंफ की बुवाई की जाती है। वहीं, रबी के मौसम में इसकी बुवाई अक्टूबर के आखिरी हफ्ते से लेकर नवंबर के प्रथम सप्ताह तक की जा सकती है।

सौंफ की खेती के लिए कितना तापमान जरूरी है

किसान भाई मृदा पलटने के उपरांत 3 से 4 जुताई करके खेत को एकसार बना लें। इसकी अंतिम जुताई के दौरान 150 से 200 कुंतल सड़ी गोबर की खाद मिला देनी चाहिए। इसके पश्चात खाद मिट्टी में अच्छी तरह मिला लें। सौंफ की बेहतरीन उपज के लिए 20 से लेकर 30 डिग्री का तापमान होना आवश्यक है। समय के साथ ही सौंफ की मांग भी बढ़ी है।

ये भी पढ़ें:
आगामी रबी सीजन में इन प्रमुख फसलों का उत्पादन कर किसान अच्छी आय प्राप्त कर सकते हैं

सौंफ की कटाई किस प्रकार की जाती है

आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि किसान भाईयों सौंफ जब पूरी तरह तैयार हो जाए और बीज पूरी तरह जब पककर सूख जाए तो ऐसे में गुच्छों की कटाई करनी चालू कर दें। सौंफ की कटाई करने के पश्चात एक दो दिन धूप में सुखा दें। सौंफ का हरा रंग हो जाए इसके लिए 10 से 12 दिन छाया में सुखाना चाहिए। सौंफ का इस्तेमाल घर से लेकर होटलों तक किया जाता है। सौंफ को खाने के लिए काफी लोग इच्छुक रहते हैं। सौंफ का सेवन लोग अपने मुँह को ताजापन महसूस कराने के लिए भी करते हैं।

श्रेणी
Ad
Ad