गेंहू निर्यात की सुगबुगाहट के साथ ही कीमतों में आया उछाल

Published on: 09-Jul-2022

निर्यात की उम्मीद में फिर बढ़ीं गेंहू की कीमतें, 160-200 रुपए प्रति क्विंटल की बढ़त

नई दिल्ली। भारत सरकार ने बीते 14 मई से  गेंहू के निर्यात पर प्रतिबंध लगा रखा है। लेकिन अब कुछ शर्तों के साथ गेंहू निर्यात से प्रतिबंध हटाया जा रहा है। इसकी सुगबुगाहट होते ही गेंहू की कीमतों में फिर से उछाल आ गया है। पिछले 24 घंटे में गेंहू की कीमतों में 160 से 200 रुपए प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी हुई है। वैश्विक स्तर पर इस साल गेंहू को अच्छा भाव मिला है। गेंहू को लेकर कई तरह के कयास लागए जा रहे हैं। वैश्विक स्तर पर गेंहू का भाव तेज होने के पीछे मुख्य दो वजह हैं। एक इस सीजन गेंहू की पैदावार कम हुई है, वहीं रूस और यूक्रेन के युद्ध के बीच चल रहे युद्ध के कारण भी गेंहू की कीमतें बढीं हैं।

ये भी पढ़ें: रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण भारत ने क्यों लगाया गेंहू पर प्रतिबंध, जानिए संपूर्ण व्यौरा
रूस और यूक्रेन युद्ध शुरू होने के बाद वैश्विक स्तर पर मांग व सप्लाई की बदली हुई परिस्थितियों का सीधा असर गेंहू पर देखने को मिला है। परिस्थितियों को देखते हुए भारत सरकार ने गेंहू निर्यात पर यह कहते हुए रोक लगा दी कि भारत अब जरूरतमंद देशों को ही गेंहू निर्यात करेगा। जरूरतमंद देशों को गेंहू देने के बाद अब फिर से भारत सरकार ने शर्तो के साथ गेंहू निर्यात की अनुमति देने की बात कही है। जिसके चलते अचानक पिछले 24 घंटे में ही गेंहू की कीमतों में उछाल आ गया है।

ये भी पढ़ें: गेहूं के फर्जी निर्यात की जांच कर सकती है सीबीआई
"गेंहू के निर्यात की सुगबुगाहट के साथ ही गेंहू में फिर तेजी आना शुरू हो गई है। मांग ज्यादा होने के कारण मंडि़यों में आवक कम हो गई है। इस हिसाब से आगामी दिनों में गेंहू के भावों में और तेजी आने की संभावना है।" - हरिओम कुशवाह, होलसेल व्यापारी ------- लोकेन्द्र नरवार

श्रेणी