खुशखबरी: इस राज्य में केंद्र सरकार की सहायता से मिलेंगी 70 पशु ऐंबुलेंस

Published on: 20-Dec-2022

केंद्र सरकार की सहायता से हरियाणा सरकार ७० ऐंबुलेंस खरीदेगी, जिसके अंदर पशु चिकित्सक के सहित डाइड्रोलिक लिफ्ट, पेरामेडिकल, टेस्ट, दवाएं एवं हेल्पलाइन की सुविधा उपलब्ध रहेगी। दूध-डेयरी के व्यापार की सफलता पूर्ण रूप से पशुओं के स्वास्थ्य पर निर्भर करती है। हालाँकि फिलहाल पशुपालकों में जागरूकता आयी है। पशुओं के खान-पान से लेकर रहन-सहन एवं स्वास्थ्य का पूरा ख्याल रखते हैं, परंतु ज्यादातर पशुओं सहित आपातकालीन जैसी स्तिथि उतपन्न हो जाती है। अधिकाँश समयानुसार चिकित्सा सेवा ना उपलब्ध होने के कारण पशुओं की मौत तक हो जाती है, इस वजह से पशुपालकों को आर्थिक हानि वहन करनी पड़ती है। इस प्रकार की गंभीर समस्या का समाधान हरियाणा सरकार द्वारा निकाल लिया गया है। दरअसल, हरियाणा सरकार शीघ्र ही पशु एंबुलेंस की तादात बढ़ाकर एक ऐसी सेवा प्रारंभ करेगी, जिसके अंदर पैरामेडिकल स्टाफ वाली एंबुलेंस पशुपालन एवं डेयरी विभाग के चिकित्सकों के साथ गांव में पहुंचकर ही पशुओं का इलाज करेगी। इस प्रकार पशुओं का स्वास्थ्य खराब होने की स्तिथि में गांव से दूरस्थ अस्पताल में लाने-ले जाने की आवश्यकता नहीं होगी।

ये भी पढ़ें: पशुओं में थनैला रोग के लक्षण और रोकथाम

केंद्र सरकार की मदद से आएँगी ७० पशु एंबुलेंस

जानकारी के लिए बतादें, कि हरियाणा राज्य में २० पशु एंबुलेंस पहले से ही सेवा में कार्यरत हैं। परंतु प्रदेश में पशुपालन के क्षेत्र को विस्तृत किया जा रहा है। यह प्रदेश दुग्ध उत्पादन में अव्वल स्थान पर है, इसी वजह से फिलहाल पशुओं हेतु चिकित्सा की सेवाओं को भी विस्तृत किया जा रहा है। इसलिए केंद्र सरकार की सहायता से नए वर्ष पर ७० और एंबुलेंस खरीदने की तैयारी है। केंद्र सरकार द्वारा की गयी यह पहल बेहद सराहनीय है एवं इससे निश्चित रूप से पशुपालकों को काफी राहत मिलेगी।

हाइड्रोलिक लिफ्ट द्वारा मिलेगी सहायता

इन पशु एंबुलेंस में हाइड्रोलिक लिफ्ट भी उपलब्ध है, इसकी वजह से आपातकाल के दौरान बीमार पशु को अतिशीघ्र चढ़ाकर के समीप के पशु चिकित्सालय में पहुंचाया जा सकता है। ऐसा सिर्फ उसी स्थिति में हो पायेगा, जब तुरंत बीमारी का उपचार करना असंभव हो जाए। हाइड्रोलिक लिफ्ट सुविधा हेतु राज्य पशुपालन विभाग के नंबर-112 तथा अन्य इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर भी उपलब्ध कराये जाएंगे। हरियाणा के प्रत्येक विकासखंड में ऐसी पशु एंबुलेंस सेवा पहुंचाने की योजना है।

ये भी पढ़ें: पशुओं में मुँहपका व खुरपका रोग के लक्षण व उपचार
खबरों के मुताबिक, तो केंद्रीय सरकार द्वारा प्रायोजित मोबाइन वेटरनरी यूनिट परियोजना एक पंचवर्षीय योजना है, जिसके अंतर्गत बीमार पशुओं को ऑनसाइट चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध करवाने हेतु मोबाइल एंबुलेंस की खरीद हेतु धनराशि प्रदान की गयी है। शीघ्र ही हरियाणा सहित अन्य राज्यों में भी मोबाइल एंबुलेंस की सेवाएं मिलेंगी। बतादें कि इनकी सहायता से लंपी जैसे रोगों से निपटने में भी सहायता मिलेगी अचानक से आने वाले रोगों से बचने में आसानी होगी।

श्रेणी