भारत की तरफ से केन्या के कृषि क्षेत्र को 250 मिलियन अमेरिकी डॉलर का उपहार

Published on: 08-Dec-2023

वार्ता के पश्चात अपने मीडिया बयान में पीएम मोदी ने कहा है, कि भारत ने अपनी विदेश नीति में हमेशा अफ्रीका को उच्च प्राथमिकता दी है और पिछले लगभग एक दशक में मिशन मोड पर महाद्वीप के साथ अपने समग्र संबंधों का विस्तार किया है। केन्या के राष्ट्रपति विलियम सामोई रुतो दोनों देशों के बीच समग्र संबंधों का विस्तार करने के उद्देश्य से तीन दिवसीय यात्रा पर सोमवार को भारत पहुंचे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारत के दौरे पर आए केन्या राष्ट्रपति विलियम सामोई रुतो के साथ व्यापक बातचीत के पश्चात केन्या के कृषि क्षेत्र के आधुनिकीकरण के लिए उन्हें 250 मिलियन अमेरिकी डॉलर देने के भारत के फैसले की घोषणा की। रुतो दोनों देशों के बीच समग्र संबंधों का विस्तार करने के उद्देश्य से तीन दिवसीय यात्रा पर सोमवार को यहां पहुंचे।

पीएम मोदी ने क्या कहा है

वार्ता के बाद अपने मीडिया बयान में पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने अपनी विदेश नीति में सदैव अफ्रीका को उच्च प्राथमिकता दी है और पिछले लगभग एक दशक में मिशन मोड पर महाद्वीप के साथ अपने समग्र संबंधों का विस्तार किया है। उन्होंने कहा, "मुझे विश्वास है कि राष्ट्रपति रुटो की भारत यात्रा न केवल द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करेगी बल्कि अफ्रीका के साथ हमारे जुड़ाव को एक नई गति देगी।"

ये भी पढ़ें:
इस योजना के तहत फसलों की ग्रेडिंग-पैकेजिंग हेतु मिलेगी सहायता

भारत केन्या के कृषि क्षेत्र के आधुनिकीकरण के लिए देगा सहयोग

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत केन्या को उसके कृषि क्षेत्र के आधुनिकीकरण के लिए 250 मिलियन अमेरिकी डॉलर की ऋण सहयोग प्रदान करेगा। हिंद-प्रशांत का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि क्षेत्र में भारत एवं केन्या के मध्य करीबी सहयोग साझा प्रयासों को आगे बढ़ाएगा।

'आतंकवाद मानवता के सामने सबसे गंभीर चुनौती'

पीएम मोदी ने कहा कि भारत तथा केन्या का मानना है, कि आतंकवाद मानवता के समक्ष सबसे गंभीर चुनौती है। उन्होंने आगे बताया कि दोनों पक्षों ने आतंकवाद विरोधी सहायता बढ़ाने का फैसला किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों पक्ष भारत-केन्या आर्थिक सहयोग की पूर्ण क्षमता का एहसास करने के लिए नवीन अवसर तलाशना जारी रखेंगे।

श्रेणी