काली मिर्च की खेती, बेहद कम लागत में हो जाएंगे लखपति, जानिए कैसे करेंगे खेती

Published on: 10-Mar-2023

कम लागत में ज्यादा मुनाफा पाना भला किसे अच्छा नहीं लगता. अगर आप भी उन्हीं लोगों में से एक हैं, जो बेहद कम लागत में कोई ऐसा बिजनेस ढूंढ रहे हैं, जो ज्यादा मुनाफा दे तो हम आपको एक ऐसी खेती के बारे में बता रहे हैं, जिसके जरिये आप लाखों की कमाई करके मालामाल हो सकते हैं. बाजार में इन दिनों काली मिर्च की काफी ज्यादा डिमांड है. जिसकी वजह से किसानों का काफी ज्यादा फायदा मिल रहा है. गर्म मसाले में आमतौर पर काली मिर्च का इस्तेमाल किया जाता है. एक अच्छी खुशबू और बेमिसाल स्वाद के लिए इसकी मांग पूरी दुनिया में रहती है. अगर काली मिर्च की खेती व्यापारिक तरीके से की जाए तो इससे अच्छा खासा मुनाफा कमाया जा सकता है. देश में काली मिर्च का उत्पाद अकेले केरल से किया जा रहा है. जो की 90 से 95 फीसद है. इसका पौधा बेल या फिर लताओं के रूप में बढ़ता है. गर्मी का समय यानि कि, मार्च से अप्रैल और बारिश का समय यानि जून से जुलाई के महीनों में काली मिर्च के बीजों की रोपाई का सबसे अच्छा समय होता है. इसकी खेती करके आप भी लाखों कमा सकते हैं. वो कैसे, चलिए जान लेते हैं.

जानिए भारत के कौन से राज्यों में होती है काली मिर्च की खेती

काली मिर्च की खेती भारत में बड़े पैमाने में की जाती है. लेकिन काली मिर्च की खेती सबसे ज्यादा कर्नाटक, तमिलनाडु, कोंकण क्षेत्र के साथ साथ पांडिचेरी और अंडमान निकोबर द्वीप समूह में की जाती है.

ये भी पढ़ें:
जानें मसालों से संबंधित योजनाओं के बारे में जिनसे मिलता है पैसा और प्रशिक्षण

कैसे करें काली मिर्च की खेती?

रसोई में कल मिर्च का इस्तेमल मसालों के तौर पर किया जाता है. जिस वजह से बाजार में इसकी डिमांड काफी ज्यादा रहती है. इसकी कहती के लिए मौसम से लेकर मिट्टी और रोपाई ये सभी चीजें मायने रखती हैं. इसलिए इसकी खेती से पहले कुछ खास बातों का ध्यान जरुर रखना चाहिए.
  • खेती के लिए उचित जलवायु

काली मिर्च की खेती करना चाहते हैं, तो मौसम का खास ख्याल रखें. क्योंकि ज्यादा ठंडे मौसम में इसकी खेती नहीं की जाती. इसकी खेती के लिए अच्छी बारिश की जरूरत होती है. साथ ही 10 से 40 डिग्री सेल्सियस का तापमान इसकी खेती के लिए बेहतर होता है. हालांकि आप चाहें तो उचित व्यवस्था करके इसकी खेती पूरे साल कर सकते हैं.
  • खेती के लिए उचित मिट्टी

काली मिर्च की खेती के लिए उचित मिट्टी का होना बेहद जरूरी है. इसके लिए लाल लेटेराईट मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है. मिट्टी का पीएच मान 4.6 से 6 के बीच में होना अच्छा माना जाता है, इसकी मिट्टी की सबसे बड़ी खासियत यही होती है, कि, इसे ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती.
  • इस तरह करें काली मिर्च के पौधे की रोपाई

काली मिर्च की खेती के लिए आप बीजों और पौधों दोनों में से किसी का भी इस्तेमाल कर सकते है. उनकी रोपाई के वक्त उनके बीच की दूरी का ध्यान रखें. 1 हजार 666 पौधे एक हेक्टर की जमीन पर लगाना सही हो सकता है.
  • जानिए पौधे लगाने का सही तरीका

काली मिर्च के पौधौं को सहारे की जरूरत होती है. व्यवसायिक खेती के लिए उचित दूरी पर खेतों में खंबे गाड़ें. जिसके बाद तीन से चार मीटर की दूरी ओर गड्ढों को खोद लें. जिनमें काली मिर्च के पौधों की रोपाई की जाएगी.काली मिर्च के पौधों की ग्रोथ बेल की तरह होती है.
  • जानिए कैसे करें सिंचाई

गर्मियों के मौसम में काली मिर्च की फसल में सिंचाई की जरूरत दो दो दिनों के अंतर में करनी चाहिए. वहीं मौसम अगर सर्दियों का है तो ऐसे में एक हफ्ते के अंतराल में सिंचाई करें. आप इस बात का ध्यान रखें की काली मिर्च की फसल में पर्याप्त नमी बनी रहे.

काली मिर्च की क्या हैं उन्नत किस्में?

  • पन्नियूर एक की वैरायटी की पैदावार 1240 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • पन्नियूर दो की वैरायटी की पैदावार 2600 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • पन्नियूर तीन की वैरायटी की पैदावास 1950 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • पन्नियूर चार की वैरायटी की पैदावार 1270 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • पन्नियूर पांच की वैरायटी की पैदावार 1100 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • सुभाकारा की वैरायटी की पैदावार 2350 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • श्रीकारा की वैरायटी की पैदावार 2680 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • पंचमी की वैरायटी की पैदावार 2800 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.
  • पूर्णमनी की वैरायटी की पैदावार 2300 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के हिसाब से होती है.

काली मिर्च की खेती के लिए कैसी हो उर्वरक और खाद?

  • काली मिर्च की अच्छी उपज के लिए अप्रैल से मई के महीने में करीब 10 किलो सड़ा हुआ गोबर हर पौधे में डालना चाहिए.
  • अप्रैल से मई के महीने में बुझा हुआ चुनाव 500 ग्राम हर पोधे जे हिसाब से लगाया जाना चाहिए.
  • अगस्त से सितंबर के महीने 500 ग्राम अमोनिया सल्फेट, एक किलो सुपर फास्फेट, 100 ग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश हर पौधे में देना चाहिए.
  • उर्वरकों और खादों को 25 से 30 सेंटीमीटर की दूरी और 12 से 15 सेंटीमीटर की गहराई पर डालना अच्छा होता है. साथ ही इसे मिट्टी में भी अच्छे से मिला देना चाहिए.


ये भी पढ़ें:
जानें शिमला मिर्च की फसल से महाराष्ट्र के इन जनपदों के किसान कमा रहे बम्पर मुनाफा

कैसे करें काली मिर्च की तोड़ाई?

काली मिर्च के पौधों की तुड़ाई का समय रोपाई के लगभग 6 से 7 महीने में हो जाता है. काली मिर्च की फलियां 90 फीसद तक पक जाने पर उसके स्पाइक काट सकते हैं. हालांकि आमतौर पर काली मिर्च की कटाई नवंबर के महीने से शुरू होती है, जोकि मार्च के महीने तक चलती है.

जान लीजिये काली मिर्च की उपज के बारे में भी

काली मिर्च का एक पौधा एक साल में लगभग 4 से 6 किलो तक काली मिर्च की उपज दे सकता है. जिसके हिसाब से 40 से 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हसाब से इसकी पैदावार मिल सकती है.

जानिए काली मिर्च की खेती के फायदे

  • काली मिर्च का इस्तेमाल मसालों में किया जाता है.
  • सब्जियों का टेस्ट बढ़ाने के लिए भी काली मिर्च का इस्तेमाल किया जाता है.
  • काली मिर्च का इस्तेमाल औषधि के रूप में भी किया जाता है.
  • काली मिर्च के साम अन्य मसालों से कहीं ज्यादा हैं.
  • चाइनीज डिशेज में काली मिर्च का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है.
  • काली मिर्च की फसल सदाबहार है. जो जमकर फलती और फूलती है.
  • काली मिर्च की एक बार की खेती से सालों साल तक बंपर कमाई की जा सकती है.
अगर आप भी कलि मिर्च की खेती करके बंपर कमाई करना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं होगी. मार्केट में इसकी डिमांड काफी ज्यादा है. इसकी कमीत करीब 4 सौ रुपये प्रति किलो है. ऐसे में आप महीने में आराम से 40 से 50 हजार रुपये तक कमा सकते हैं.

श्रेणी