कम बारिश के चलते धान की खेती नहीं कर पाएंगे झारखंड के किसान

Published on: 08-Aug-2022

रांची। - लोकेन्द्र नरवार इस साल झारखंड में काफी कम बारिश हो रही है। बारिश की कमी के चलते झारखंड के किसान धान की खेती नहीं कर पाएंगे। इससे किसानों को काफी नुकसान झेलना पड़ेगा। इस सीजन झारखंड में मानसून पूरी तरह फेल साबित हो रहे हैं। यही कारण है कि राज्य में धान की खेती से मुनाफा कमाने वाले किसानों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ेगा। माना जा रहा है कि इस नुकसान से किसान दो साल में ही उभर पाएंगे।

ये भी पढ़ें: तर वत्तर सीधी बिजाई धान : भूजल-पर्यावरण संरक्षण व खेती लागत बचत का वरदान (Direct paddy plantation)

15 अगस्त तक करते हैं धान की रोपाई

- अगर बारिश का थोड़ा बहुत भी साथ मिलता है, तो झारखंड के किसान 15 अगस्त तक धान की रोपाई करते हैं। लेकिन इस साल किसानों को बारिश की बेरुखी का सामना करना पड़ रहा है। इससे किसानों की तमाम योजनाएं फेल हो रहीं हैं। कम बारिश भी होती तो 15 अगस्त तक किसान धान की रोपाई कर देते। हालांकि इससे धान की पैदावार कम होती, लेकिन किसानों का मनोबल बना रहता। लेकिन बारिश की ऐसी बेरुखी ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है।
किसी की पढ़ाई, तो किसी की शादी में होगी रुकावट
- माना जा रहा है कि इस साल झारखंड के किसानों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो सकता है। लिहाजा किसानों के बच्चों की पढ़ाई एवं कई किसानों के बच्चों की शादी में भी रुकावट आ सकती है। किसान सरकार से मदद की मांग कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से किसानों को क्या है फायदा

खेतों में खड़ा है बिचड़ा, ऊपर से काटकर धान रोपें किसान

- इन दिनों झारखंड के अधिकांश जिलों में अत्यधिक धूप के कारण, धान वाले खेतों में बिचड़ा खड़ा हुआ है, जो काफी बड़ा हो चुका है। बिचड़ा खेतों में ही झुलस रहा है। किसान बारिश के अभाव में खेत तैयार नहीं कर पा रहे हैं। हालांकि, कृषि विभाग ने किसानों से बिचड़ा को ऊपर से काटकर धान रोपाई करने का सुझाव दिया है। लेकिन इसमें किसानों को ज्यादा सफलता मिलती नहीं दिख रही है।

श्रेणी
Ad
Ad