किसान ने स्विट्जरलैंड की नौकरी छोड़ शुरू की केले की खेती, आज 100 करोड़ का है टर्नओवर

Published on: 30-Aug-2023

वर्तमान में आलोक अग्रवाल ट्राइडेंटएग्रो के फाउंडर और CEO भी हैं। इस कंपनी के संपूर्ण महाराष्ट्र में केले के बहुत सारे बागान हैं। साथ ही, केले की खेती करने वाले लगभग 20 हजार किसान भाई भी ट्राइडेंटएग्रो के साथ जुड़े हुए हैं। यह कंपनी प्रति माह 2500 टन केले का निर्यात करती है, जिसमें भारत के साथ-साथ मिडिल ईस्ट के बहुत सारे देश शम्मिलित हैं। केले का सेवन करना लगभग हर किसी को अच्छा लगता है। केले में विटामिन C, डाइटरी फाइबर, विटामिन B6 और मैग्नीज समेत विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व विघमान होते हैं। केले की खेती लगभग भारत के सभी हिस्सों में होती है। भारत में बहुत सारे ऐसे किसान हैं, जो केले की खेती से करोड़पति बन गए हैं। परंतु, आज हम एक ऐसी शख्सियत के विषय में चर्चा करेंगे। इस शक्श ने विदेश की अच्छी-खासी नौकरी छोड़ भारत में आकर केले की खेती चालू कर दी। देखते ही देखते करोड़ों रुपये का साम्राज्य खड़ा कर दिया है। फिलहाल, यह विदेशों में भी केले की आपूर्ति करते हैं।

आलोक अग्रवाल केले के निर्यात से बने मालामाल

आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि इस किसान का नाम आलोक अग्रवाल है। यह मुंबई के मूल निवासी हैं। पूर्व में आलोक स्विट्जरलैंड में केले एक्सपोर्ट में लॉजिस्टिक्स का कार्य करते थे। यहां पर किसान आलोक अग्रवाल को केले के एक्सपोर्ट- इंपोर्ट को लेकर पूरी जानकारी हो गई। इसके पश्चात उन्होंने नौकरी छोड़ दी और भारत में आकर केले का व्यवसाय चालू कर दिया। बतादें कि वर्ष 2015 में उन्होंने ट्राइडेंटएग्रो नाम से एक कंपनी चालू की है। उसके बाद उन्होंने इस कंपनी के जरिए से भारत में केले का निर्यात चालू कर दिया। यह भी पढ़ें: केले की खेती की सम्पूर्ण जानकारी

कंपनी केले की खेती कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के जरिए से भी करती है

विशेष बात यह है, कि यह कंपनी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के जरिए केले की खेती भी करती है। आलोक अग्रवाल केले का निर्यात करने के अतिरिक्त चिप्स और स्नैक्स भी तैयार करते हैं। साथ ही, वे केले के दूसरे प्रोडक्ड्स भी निर्मित करते हैं। वर्तमान में इनकी कंपनी के पास वार्षिक 100 करोड़ रुपये का टर्न ओवर है।

आलोक अग्रवाल ने एक अरब की कंपनी खड़ी की

मुख्य बात यह है, कि कंपनी चालू करने के उपरांत आलोक अग्रवाल ने पुणे जनपद के किसानों को केले की खेती करने के लिए प्रशिक्षण देना शुरू दिया, जिससे केले का उत्पादन काफी ज्यादा बढ़ गया। साथ ही, उन्होंने किसानों को यह भी बताया, कि अच्छी गुणवत्ता के केले किस तरह उगाए जाते हैं। साथ ही, इनका भंडारण किस प्रकार किया जाता है, ताकि वह दीर्घकाल तक सुरक्षित रहें। उन्होंने किसानों को पहली बार फ्रूट केयर के महत्व के विषय में बताया। यह वजह है, कि अलोक ने किसानों के परिश्रम और अपनी इच्छाशक्ति के चलते 100 करोड़ रुपये की कंपनी खड़ी कर दी।

श्रेणी