अदरक के भाव में कमी के चलते अदरक उत्पादक बेहद चिंता में, मूल्य में घटोत्तरी के बारे में ये बोले किसान

Published on: 31-Oct-2022

अदरक (Ginger; जिंजर; adrak) की कीमतों में घटोत्तरी के कारण किसान बेहद चिंतित हैं, उनके मुताबिक कुछ साल से कीमतों में घटोत्तरी हो रही है। आजकल के समय बाजारों में अदरक का मूल्य २५०० रुपये से लेकर ३००० रुपये प्रति क्विंटल मिल रहा है, जबकि ५००० रुपये प्रति क्विंटल तक का भाव मिले तब जाकर उत्पादकों को अच्छा मुनाफा मिल पायेगा। महाराष्ट्र राज्य के किसानों की परेशानियाँ कम ही नही हो रही हैं। कभी बेमौसम बारिश तो कभी बाजारों में पैदावार का उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा है। महाराष्ट्र में इस वक्त किसान सोयाबीन एवं प्याज के गिरते मूल्य से चिंतित तो थे ही, अब अदरक उत्पादकों की भी समस्या बढ़ गई हैं। अदरक के भाव में भारी कमी देखने को मिल रही है। महाराष्ट्र में अदरक उत्पादन करने वाले किसानों को पिछले कुछ वर्षों से बड़ा आर्थिक नुकसान हुआ है। अदरक की खेती पर किसान लाखों रुपये व्यय करते हैं, लेकिन बाजार में उचित मूल्य नहीं मिलने से अदरक उत्पादकों को घाटा वहन करना पड़ रहा है। राज्य में सर्वाधिक अदरक की खेती सतारा, जालना एवं औरंगाबाद जिले में की जाती है। महाराष्ट्र में अदरक की फसल का रकबा लगभग २० हजार हेक्टेयर तक पहुंच चुका है। पुणे, बीड,जलाना, वाशिम, औरंगाबाद, सांगली एवं सतारा जनपदों में अदरक की फसल का उत्पादन तो बढ़ा है, लेकिन मूल्यों में वृद्धि नहीं हो पा रही है। किसानों ने बताया है कि ४ वर्ष पूर्व अदरक उत्पादन से लाभ तो हो रहा था, लेकिन अब नहीं हो पा रहा है। किसान सोमनाथ पाटिल ने बताया है कि अगर किसानों को अदरक का उचित मूल्य न्यूनतम ५००० रुपये प्रति क्विंटल मिले तब कहीं अदरक उत्पादकों को लाभ हो सकेगा।

ये भी पढ़ें: घर के गमले में अदरक का पौधा : बढ़ाये चाय की चुस्की व सब्जियों का जायका

अत्यधिक बरसात के चलते हुआ था फसल को भारी नुकसान

अक्टूबर माह में २० दिनों के दौरान अदरक उत्पादक इलाकों में मूसलाधार बरसात हुई, जिसके चलते अदरक की गुणवत्ता भी बेहद प्रभावित हुई है। इससे किसानों की समस्याएं ज्यादा बढ़ गई हैं। फिलहाल बाजार में अदरक की आवक में घटोत्तरी हो रही है, लेकिन अदरक २५०० रुपये से ३००० रुपये प्रति क्विंटल के मूल्य पर विक्रय हो रहा है, जो कि काफी कम है। अदरक की फसल पैदावार की औसत खर्च ७५ हजार से १. ५ लाख प्रति एकड़ तक होता है। साथ ही, अन्य फसलों की अपेक्षा में रोपण के उपरांत न्यूनतम छह महीने तक सुरक्षा रखने की आवश्यकता होती है। विगत कुछ वर्षों में बरसात में परिवर्तन के चलते हानि हुई है। अक्टूबर और नवंबर माह में अकारण बरसात में अदरक की पैदावार में गिरावट आ जाती है।

अदरक उत्पादन में किसान का कितना व्यय होता है ?

किसान सोमनाथ पाटिल ने कहा है कि उनका अदरक उत्पादन करने के दौरान प्रति एकड़ ५० हजार से लेकर ६० हजार रुपए तक का व्यय होता है। साथ ही, इसके अतिरिक्त परिवहन का खर्च ही ३ हजार तक जाता है। अदरक के बीज के लिए ५००० रुपए लग जाते हैं। यदि बाजारों में अदरक का भाव ५००० रुपये प्रति क्विंटल मिले तब कहीं उत्पादकों द्वारा फसल पर किया गया खर्च निकल पाएगा।

श्रेणी