तिल की फसल में लगने वाले प्रमुख रोग और उनका नियंत्रण 

By: MeriKheti
Published on: 15-Aug-2023

भारत में तिल को तिलहनी फसल के रूप में उगाया जाता है। तिल के तेल का उपयोग कई चीजों में किया जाता है। भारत मे तिल का उत्पादन उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात में अधिक होता है। तिल की खेती के लिए समतल भूमि और कम पानी की आवश्यकता होती है। तिल की खेती कई रोगों से ग्रस्त होती है जिसके कारण फसल की उपज बहुत कमी आती है जिससे किसानों को आर्थिक हानि होती है इसलिये हमें समय-समय पर अच्छा उत्पादन लेने के लिये इन रोगों के नियंत्रण के लिये उपाय करते रहना चाहिये। इस लेख में हम आपको तिल के प्रमुख रोगों और उनको नियंत्रण करने के उपायों के बारे में बातएंगे जिससे की आप समय से फसल में रोग नियंत्रण कर सकते है।       

तिल में लगने वाले रोग एवं उनके उपाय                              

   1.अल्टरनेरिया पत्ति धब्बा रोग 

  • इस रोग से संक्रमित पत्तियों पर संकेंद्रित वलय वाले छोटे, गोलाकार लाल-भूरे रंग के धब्बे बन जाते है। 
  • इसके अलावा डंठल, तने और कैप्सूल पर गहरे भूरे रंग के घाव हो जाते है। जैसे - जैसे रोग आगे बढ़ता है पत्तियों  झुलसना कर झड़ना शुरू हो जाती है। फलियों पर संक्रमण होने पर बीज सिकुड़े हुए बनते है और फलियां फटना शुरू हो जाती है।  


ये भी पढ़ें:
तिल की खेती से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी 

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • जिस खेत में ये रोग आता हो उसमें कम से कम 2 साल तक फसलचक्र अपनायें। 
  • इस रोग से बचाव के लिए बुवाई के लिए प्रभावित व स्वस्थ बीज का चयन करना चाहिये। 
  • बुवाई से पहले बीज उपचार करना चाहिए जिसके लिये ट्राइकोडर्मा विरडी 5 ग्राम प्रति किग्रा. बीज दर से उपयोग करना चाहिये। 
  • खड़ी फसल में रोग को नियंत्रित करने के लिए मैंकोजेब की 400 ग्राम प्रति मात्रा की प्रति एकड़ स्प्रे  करें।

   2. फायलोडी रोग 

  • इस रोग को फायलोडी रोग के नाम से भी जाना जाता है यह रोग माईकोप्लाज्मा के द्वारा होता है एवं इस रोग में पुष्प के विभिन्न भाग विकृत होकर पत्तियों के समान हो जाते हैं। संक्रमित पौधों में पत्तियाँ गुच्छों में छोटी-छोटी दिखाई देती हैं और पौधों की वृद्धि रुक जाती है। ये रोग एक पौधे से दूसरे पौधे में जैसिड द्वारा फैलाया जाता है। 

रोग नियंत्रण के उपाय 

  • सबसे पहले इस रोग वेक्टर को नियंत्रित करने के लिए, एनएसकेई @ 5% या नीम तेल @ 2% का छिड़काव करें जिससे की संक्रमित पौधे से रोग स्वस्थ पौधे में ना फैले और पैदावर हानि ना हो।  
  • इमिडाक्लोप्रिड 600 एफएस @ 7.5 मि.ली./कि.ग्रा. की दर से बीज उपचार करें। 
  • खड़ी फसल में रोग का संक्रमण दिखाई देने पर वेक्टर को नियंत्रण करे के लिए क्विनालफोस 25 ईसी 800 मिली/एकड़ या थियामेथोक्साम 25डब्ल्यूजी @ 40 ग्राम/एकड़ या इमिडाक्लोप्रिड 17.8 एसएल @ 40 मिली/एकड़ का छिड़काव करें।
  • तिल के साथ अरहर की खेती करके इस रोग को नियंत्रित किया जा सकता है।    


ये भी पढ़ें:
तिल की खेती कैसे की जाती है जाने इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी

   3.जड़ गलन रोग  

  • इस रोग के लक्षण सबसे पहले पुरानी पत्तियों पर दिखाई देते है। पत्तियों का पीला होकर गिरना इस रोग के प्रमुख लक्षण है। संक्रमित पौधे की जड़े पूरी तरह से गल जाती है और पौधे को आसानी से मिट्टी से निकाला जा सकता है। इस रोग से संक्रमित पौधों की फलियाँ समय से पहले खुल जाती हैं।                                                                   

रोग नियंत्रण के उपाय  

  • जिस खेत में रोग का अधिक प्रकोप होता हो उस खेत में तिल की फसल ना लगाए। 
  • रोग से बचाव के लिए समय से फसल  बुवाई करें। 
  • खड़ी फसल में रोग को नियंत्रित करने के लिए कार्बेन्डाजिम 50 WP को 1 ग्राम प्रति लीटर की दर से पौधे की जड़ो में डालें। 

   4.पाउडरी मिल्डयू 

  • ये रोग कवक के द्वारा होता है इस रोग के लक्षण पत्तियों पर दिखाई देते हैं। इस रोग में पौधों की पत्तियों के ऊपरी सतह पर पाउडर जैसा सफेद चूर्ण दिखाई देता है। इस रोग का संक्रमण फसल में 45 दिन से लेकर फसल पकने तक होता है। 

रोग नियंत्रण के उपाय   

  • रोग के नियंत्रण के लिए wettable सल्फर 80 WP 500 ग्राम को प्रति एकड़ हर 15 दिनों में  संक्रमित फसल में डालें। इसके आलावा इस रोग को नियंत्रित करने के लिए 10 किलोग्राम sulphur dust  को प्रति एकड़ के हिसाब से में डालें।       

   5. फाइटोफ्थोरा अंगमारी

  • यह मुख्यतः फाइटोफ्थोरा पैरसिटिका नामक कवक से होता है सभी आयु के पौधों पर इसका हमला हो सकता है। इस रोग के लक्षण पौधों की पत्तियो एवं तनों पर दिखाई देते हैं। इस रोग में प्रारम्भ में पत्तियों पर छोटे भूरे रंग के शुष्क धब्बे दिखाई देते हैं ये धब्बे बड़े होकर पत्तियों को झुलसा देते हैं तथा ये धब्बे बाद में काले रंग के हो जाते हैं। रोग ज्यादा फैलने से पौधा मर जाता है। 


ये भी पढ़ें:
मूंगफली की फसल को सर्वाधिक प्रभावित करने वाले कीट व रोगों की इस प्रकार रोकथाम करें

रोग नियंत्रण के उपाय   

  • रोग से बचाव के लिए लगातार एक खेत में तिल की बुवाई ना करें। 
  • खड़ी फसल में रोग दिखने पर रिडोमिल 5 ग्राम प्रति लीटर पानी का घोल बनाकर 10 दिन के अन्तराल पर छिड़काव करना चाहिए। 
इस लेख में आपने तिल के प्रमुख रोगों और इनकी रोकथाम के बारे में जाना । मेरी खेती आपको खेतीबाड़ी और ट्रैक्टर मशीनरी से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी प्रोवाइड करवाती है। अगर आप खेतीबाड़ी से जुड़ी वीडियोस देखना चाहते हो तो हमारे यूट्यूब चैनल मेरी खेती पर जा के देख सकते है।  

श्रेणी